ताज़ा खबर
 

इंटरव्यू में बोली Chhapak एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण, सभी मर्द खराब नहीं होते

दीपिका ने कहा, असल जिंदगी में भी एक शख्स था लक्ष्मी की जिंदगी में। अमोल अर्थात आलोक दीक्षित नामक व्यक्ति ने लक्ष्मी का हर हाल में साथ दिया। अमोल के जरिए हमने समाज के अच्छे मर्दों को भी पेश किया है और ये सच्चाई दर्शाने की कोशिश की है कि सभी मर्द खराब नहीं होते, कुछ अच्छे भी होते हैं।

Deepika Padukone, Chhapaak, Files Case Against chhapaak, Meghna Gulzar, Deepika Padukone news, Bollywood Latest News, Bollywood News,बॉलीवुड समाचारदीपिका पादुकोण। फोटोः सोशल मीडिया।

आरती सक्सेना
बॉलीवुड अदाकारा दीपिका पादुकोण इन दिनों अपनी ताजा फिल्म ‘छपाक’ को लेकर चर्चा में हैं। फिल्म में दीपिका तेजाब हमले में बची महिला का किरदार निभा रही हैं। यह फिल्म सच्ची घटनाओं पर आधारित है। 10 जनवरी को रिलीज होने वाली ‘छपाक’ के निर्माताओं में से एक दीपिका इस फिल्म के बारे में बता रही हैं।

सवाल : ‘छपाक’ साइन करने को लेकर आपकी क्या सोच थी?
’मैंने यह फिल्म इसलिए की ताकि इसके जरिए जो मैंने महसूस किया, वह दर्शक भी महसूस करें। ‘छपाक’ एक खूबसूरत लड़की का बदसूरती की तरफ ढकेला हुआ दर्दनाक सफर है। पहली बार जब मैं फिल्म के किरदार के सिलसिले में लक्ष्मी से मिली जिसके साथ यह दुर्घटना हुई है, उस वक्त मैं इतनी ज्यादा नर्वस थी कि क्या बताऊं। मैं इतनी नर्वस अपनी जिंदगी में कभी नहीं हुई। जब मैंने लक्ष्मी को देखा तो मैं भावुक हो गई, लेकिन लक्ष्मी को सांत्वना नहीं बल्कि जिंदगी जीने का हक चाहिए था। बुरे हालातों में भी वह एक आम लड़की की तरह मुस्कुराना चाहती थी, हंसना चाहती थी। मेघना गुलजार ने मुझे इस कहानी के दो ही सीन सुनाए, जिन्हें सुनकर मैंने फिल्म के लिए हां कर दी। मुझे अपने करिअर में इतना असरदार किरदार निभाने का मौका नहीं मिलेगा। मैं इस भूमिका के लिए मैं मेघना गुलजार की शुक्रगुजार हूं।

सवाल : इस फिल्म के निर्माण से भी जुड़ी है। बतौर निर्देशिका मेघना गुलजार के साथ काम करने का अनुभव कैसा रहा, ?
’‘छपाक’ में निर्माता बनने के बाद ही मैंने जाना कि फिल्म में अभिनय के अलावा भी बहुत सारे काम होते हैं। बतौर निर्माता भी मुझे काफी कुछ सीखने को मिला। मेघना गुलजार के साथ काम करना अपने आप में बड़ी बात है। वह जब कोई कहानी लिखती हैं तो उस भावना को पकड़ कर चलती हैं। यही वजह है कि मेघना अपनी फिल्म के साथ न्याय कर पाती है। उनके साथ काम करने के दौरान मैंने यह महसूस किया कि मंै सही हाथों में हूं।

सवाल : ‘छपाक’ में मर्दों का एक बुरा चेहरा और एक अच्छा चेहरा दिखाया गया है, इस बारे में आप क्या कहेंगी?
’हां यह सही है। असल जिंदगी में भी एक शख्स था लक्ष्मी की जिंदगी में। अमोल अर्थात आलोक दीक्षित नामक व्यक्ति ने लक्ष्मी का हर हाल में साथ दिया। अमोल के जरिए हमने समाज के अच्छे मर्दों को भी पेश किया है और ये सच्चाई दर्शाने की कोशिश की है कि सभी मर्द खराब नहीं होते, कुछ अच्छे भी होते हैं।

सवाल : ‘छपाक’ एक इमोशनल फिल्म है, तो हो सकता है यह फिल्म दर्शकों के दिल को छू जाए लेकिन बॉक्स आॅफिस पर कुछ खास कमाल न दिखा सके… क्या इस बारे में भी सोचा है?
’‘छपाक’ की सफलता को लेकर मेरी सोच बॉक्स आॅफिस के आंकड़े नहीं है बल्कि मेरे लिए यह फिल्म तभी हिट है जब हम लोगों की मानसिकता को बदल सकें। मेरे लिए ‘छपाक’ उन फिल्मों में से एक है जिसे मैं दस साल बाद भी देखूं तो याद रखूं। मेरे लिए यह यादगार फिल्म है जिसे मैं कभी नहीं भूल पाउगी।

सवाल : लक्ष्मी के किरदार को जीना आपके लिए कितना मुश्किल था…
’सच कहूं तो जब मैंने लुक टेस्ट के लिए पहली बार लक्ष्मी के किरदार का मेकअप किया, तो मुझे पांच घंटे लगे थे। पांच घंटे के मेकअप के बाद जब मंैने अपने आपको आइने में देखा तो मैं पूरी तरह ओके थी, मुझे उस किरदार से कोई डर नहीं लगा। शायद इसलिए क्योंकि मैं अपने किरदार में पूरी तरह उतर चुकी थी। हालांकि ‘छपाक’ की शूटिंग के दौरान मालती का किरदार मुझे अंदर तक झिझोड़ कर रख देता था। लिहाजा इस फिल्म की शूटिंग के आखिरी दिन मैंने अपना वो मास्क जला दिया था ताकि मैं इस किरदार को भूल सकूं और इससे बाहर आ सकूं।

सवाल : ‘छपाक’ की कहानी को आप निजी तौर पर किस तरह लेती हैं?
’‘छपाक’ की कहानी एक ऐसे जख्म की कहानी है, जिसने सिर्फ एक औरत के शरीर को ही नहीं आत्मा को भी झिझोड़ दिया। वो घाव उसे किसी बीमारी की वजह से नहीं बल्कि समाज के अपराधी, मुजरिम, की वजह से मिले। मेरे हिसाब से ऐसे विषयों पर फिल्म बनाना बेहद जरूरी हो गया है ताकि हम किसी का दर्द बता कर समाज की आंखें खोल सकें।

सवाल : आपकी शादी को एक साल हो गए, रणवीर सिंह के साथ आप कितनी खुश हैं?
’बहुत खुश हूं, एक बेहतरीन इंसान के साथ शादी करके भला कौन खुश नहीं होगा। रणवीर जिस तरह अपने काम के प्रति ईमानदार है, ठीक उसी तरह अपनी निजी जिंदगी में भी वह ईमानदार हैं। उन्होंने हमेश मुझे प्रोत्साहित किया है। कभी नीचा दिखाने की कोशिश नहीं की। हम दोनों ही अपने रिश्ते को ईमानदारी से निभा रहे हैं, इसलिए एक-दूसरे के साथ बहुत खुश हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 हमारी याद आएगीः सोने के पदक से सोने की लंका तक
2 New Song : नोरा फतेही का नया गाना है बहुत हॉट, Garmi Song से पहले मेकर्स ने जारी किया अलर्ट!
3 बच्चे के सामने शैंपेन पीने पर ट्रोल हुईं कंगना रनौत और रंगोली, यूजर्स बोले— ‘देशद्रोही दारूबाज’
ये पढ़ा क्या?
X