Bollywood Singer udit narayan struggled for nine years in mumbai, Know his life story, biography, career, video - उद‍ित नारायण ने नौ साल के संघर्ष से हार कर ले ल‍िया था खेती करने का फैसला, लेक‍िन तभी... - Jansatta
ताज़ा खबर
 

उद‍ित नारायण ने नौ साल के संघर्ष से हार कर ले ल‍िया था खेती करने का फैसला, लेक‍िन तभी…

उदित नारायण ने एक इंटरव्यू में बताया था कि वे गांवों के छोटे-छोटे मेलों में केवल 25 पैसे के लिए गाने गाते थे।

बॉलीवुड सिंगर उदित नारायण। ( Photo Source: Indian Express Archive)

बॉलीवुड के मशहूर स‍िंगर उदित नारायण 1978 में नाम कमाने की हसरत ल‍िए जब मुंबई आए थे, तब 22 साल के थे। मुंबई में उन्‍होंने लंबा संघर्ष क‍िया। करीब नौ साल तक। तब तक उम्र के साथ पर‍िवार की ज‍िम्‍मेदारी भी बढ़ गई थी। पत्‍नी गर्भवती हो गई थीं। खर्च बढ़ रहा था, पर आमदनी नहीं। हालांक‍ि, इस बीच उदित नारायण को बॉलीवुड के नामी-गिरामी संगीतकारों के साथ काम करने का मौका म‍िला। लता मंगेशकर जैसी गाय‍िका के साथ भी गाने गाए। पर कर‍िअर का स‍ितारा चमक नहीं रहा था। अंत में वह ह‍िम्‍मत हार गए। उन्‍होंने फैसला कर ल‍िया क‍ि अब वह नेपाल जाकर खेतीबाड़ी करेंगे। पर इसी बीच उम्‍मीद की एक क‍िरण जगी।

ऑफर था आम‍िर खान की पहली फ‍िल्‍म ‘कयामत से कयामत तक’ में गाने का। कहा गया क‍ि फ‍िल्‍म के सभी गाने आप ही गाएंगे। गाने र‍िकॉर्ड हुए। इसी बीच उदित नारायण की पत्‍नी ने बेटे आद‍ित्‍य को जन्‍म द‍िया। उद‍ित को लगा क‍ि बेटे के आने के साथ ही क‍िस्‍मत बदलेगी। पर जब ‘कयामत से कयामत तक’ र‍िलीज हुई तो पहले हफ्ते में बुरी तरह फ्लॉप हो गई। उद‍ित की सारी उम्‍मीदें टूट गईं। उन्‍होंने मुंबई से बोर‍िया-ब‍िस्‍तर समेटने का फैसला ले ल‍िया। पर दूसरे हफ्ते फ‍िल्‍म ह‍िट हो गई। तीसरे हफ्ते और चमक गई। गाने भी लोगों की जुबान पर चढ़ गए। उद‍ित नारायण करीब दस साल से इस सफलता के ल‍िए तरस रहे थे। इसके साथ ही उनका संघर्ष खत्‍म हुआ और वह मुंबई के ही होकर रह गए।

उदित नारायण अपनी पत्नी दीपा नारायण और बेटे आदित्य नारायण के साथ। ( Photo Source: Indian Express Archive)

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए इंटरव्यू में एक बार उदित नारायण ने अपने पुराने दिनों को याद करते हुए बताया था, ‘मेरे पास अच्छी आवाज थी, लेकिन अच्छी जिंदगी नहीं। हमारे घर में रेडियो भी नहीं था, लेकिन जब मैंने पड़ोसी के रेडियो पर मोहम्मद रफी की आवाज सुनी तो मंत्रमुग्ध हो गया था। मैं गांव के छोटे मेलों में 25 पैसे के लिए गाता था।’ बाद में उदित ने काठमांडू रेडियो स्टेशन पर भी काम किया है। वहां पर काम करने के बाद उन्होंने क्लासिकल ट्रेनिंग हासिल की और साल 1978 में मुंबई की ओर रवाना हो गए थे।

यहां देखें उदित नारायण के हिट गानों का वीडियो-

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App