लता मंगेशकर ने विरोधियों को दी नसीहत, कहा- सावरकर बहुत बड़े देशभक्त थे

कांग्रेस पार्टी सावरकर को कथित रूप से ‘राष्ट्रद्रोही’ कहकर फंस चुकी है। इस मामले में सावरकर के पोते रंजीत सावरकर ने भोइवाड़ा की अदालत में शिकायत की थी।

PHOTO SOURCE- INDIAN EXPRESS

दिल्ली यूनिवर्सिटी के कैंपस में सावरकर की मूर्ति लगाने के बाद से अब तक राजनीतिक घमासान चल रहा है। ऐसे में भारत रत्न और लिजेंडरी सिंगर लता मंगेशकर ने उनके साथ अपने संबंधों का जिक्र कर विरोधियों को नसीहत देने की कोशिश की है। इस संबंध में उन्होंने एक ट्वीट किया, जिसमें लिखा, ‘‘वीर सावरकर और मेरे परिवार के बीच घनिष्ठ संबंध थे। उन्होंने मेरे पिता जी के लिए नाटक लिखा था।’’

लता बोलीं- महान देशभक्त थे सावरकर: गौरतलब है कि सावरकर को लेकर भारतीय राजनीति में तरह- तरह की अफवाहें आती रहती हैं। ऐसे में लता मंगेशकर ने कहा कि जो लोग ऐसा बातें करते हैं, उन्हें यह नही पता वीर सावरकर कितने बड़े देशभक्त थे। उन्होंने बताया कि वीर सावरकर के इस नाटक का पहला मंचन 18 सितंबर 1931 को हुआ था। लता ने अपने ट्वीट में 3.05 मिनट का एक गीत भी शेयर किया, जो उसी नाटक का है।

पहले भी सावरकर के लिए ट्वीट कर चुकी हैं लता: बता दें कि इससे पहले 28 मई को लता मंगेशकर ने सावरकर की जयंती पर ट्वीट किया था। उस वक्त उन्होंने लिखा था, ‘‘आज स्वतंत्रता के वीर सावरकर जी की जयंती है। मैं उनके व्यक्तित्व को, उनकी देशभक्ति को प्रणाम करती हूं। आजकल कुछ लोग सावरकर जी के विरोध में बातें करते हैं, लेकिन वे लोग यह नहीं जानते कि सावरकर जी कितने बड़े देशभक्त और स्वाभिमानी थे।’’

Mumbai Rains, Weather Forecast Today Live Updates: मौसम से जुड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

सावरकर पर कथित टिप्पणी कर फंस चुकी है कांग्रेस: गौरतलब है कि कांग्रेस पार्टी सावरकर को कथित रूप से ‘राष्ट्रद्रोही’ कहकर फंस चुकी है। इस मामले में सावरकर के पोते रंजीत सावरकर ने भोइवाड़ा की अदालत में शिकायत की थी। उन्होंने राहुल गांधी, सोनिया गांधी और कांग्रेस पार्टी को नामजद करते हुए बताया कि उनके दादा विनायक दामोदर सावरकर के बारे ट्विटर पर लिखा गया कि उन्होंने ब्रिटिश साम्राज्य के खिलाफ घुटने टेक दिए थे और जब वह अंडमान सेलुलर जेल में बंद थे, तब वह ब्रिटिश सरकार के गुलाम बनना चाहते थे। यह पूरी तरह झूठ है और मानहानिजनक टिप्पणी भी है।

उद्धव ठाकरे ने की थी भारत रत्न की मांग: कुछ दिन पहले ही महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने कहा था कि यदि हिंदुत्व के नायक विनायक दामोदर सावरकर उर्फ वीर सावरकर आजादी के समय प्रधानमंत्री बनते तो पाकिस्तान आज अपने अस्तित्व में नही होता। इस दौरान ठाकरे ने सावरकर के लिए भारत रत्न की मांग की थी।

Next Stories
1 मेट्रो प्रोजेक्ट का समर्थन करने पर लोगों ने बिग बी घर के बाहर किया विरोध प्रदर्शन
2 Yeh Rishta Kya Kehlata Hai Serial Update: कार्तिक-वेदिका की लाइफ से हमेशा के लिए चली जाएगी नायरा, शो में होगा बड़ा फेरबदल
3 संजय दत्त, करण देओल और सोनम कपूर में से किसकी मूवी हुई हिट? पढ़िए मूवी रिव्यू
यह पढ़ा क्या?
X