इससे पहले कि सिंधु बॉर्डर पाकिस्तान बॉर्डर बने, आर्मी को किया जाए हैंडओवर- राकेश टिकैत पर बरसे बॉलीवुड फिल्ममेकर

सिंघु बॉर्डर पर युवक की हत्या को लेकर अशोक पंडित ने कड़े शब्दों के किसान आंदोलन पर निशाना साधा है। उन्होंने राकेश टिकैत पर कई आरोप भी लगाए हैं।

singhu border, man killed at singhu border, ashoke pandit
बीकेयू प्रवक्ता राकेश टिकैत (फाइल फोटो)

दिल्ली के सिंघु बॉर्डर पर एक दलित युवक की हत्या और उसके शव को लटकाए जाने को लेकर सोशल मीडिया पर एक वर्ग फिर से किसान आंदोलन पर उंगली उठाने लगा है। हालांकि इस पूरे मसले से संयुक्त किसान मोर्चा ने खुद को अलग किया है और कहा है कि निहंग सिख और मृतक से उनका कोई संबंध नहीं है। युवक की हत्या को लेकर बॉलीवुड फिल्ममेकर अशोक पंडित ने कड़े शब्दों के किसान आंदोलन पर निशाना साधा है। उन्होंने भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता और किसान नेता राकेश टिकैत पर कई आरोप भी लगाए हैं।

अशोक पंडित ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से किए गए एक ट्वीट में लिखा कि सिंघु बॉर्डर पर आर्मी की तैनाती हो। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, ‘सिंघु बॉर्डर आर्मी को हैंडओवर किया जाए, इससे पहले कि ये पाकिस्तान बॉर्डर में तब्दील हो जाए। इन हत्यारों को अपराधियों की तरह ट्रीट क्या जाए क्योंकि ये देश की आतंरिक सुरक्षा के लिए खतरा बन चुके हैं।’

अशोक पंडित ने मृतक युवक का एक वीडियो शेयर करते हुए ट्वीट किया, ‘ये अफगानिस्तान नहीं बल्कि सिंघु बॉर्डर है। जिन आतंवादियों ने इस आदमी की हत्या की वो तालिबानी नहीं बल्कि खालिस्तानी हैं जो टिकैत (राकेश टिकैत) के आदमी हैं।’

अशोक पंडित अपने ट्वीट में लगातार राकेश टिकैत की गिरफ़्तारी की मांग करते दिखे हैं। उन्होंने अपने एक और ट्वीट में लिखा, ‘एक निर्दोष आदमी की हत्या और लिंचिंग सिंघु बॉर्डर पर कर दी गई। यह टिकैत और उनके आदमियों द्वारा किया गया एक आतंकवादी कृत्य और कोल्ड ब्लडेड मर्डर है। क्या अब स्वरा भास्कर और टुकड़े टुकड़े गैंग जैसे कथित लिबरल, लुटियंस मीडिया और अर्बन नक्सल सड़कों पर प्रदर्शन नहीं करेंगे?’

बता दें, इस मामले में हरियाणा पुलिस ने एक निहंग सिख सरबजीत सिंह को गिरफ्तार किया है। व्यक्ति ने हत्या की ज़िम्मेदारी भी ली है। गिरफ्तार व्यक्ति को शनिवार को सोनीपत की एक अदालत में पेश किया जाएगा।

बहरहाल, अशोक पंडित के इन ट्वीट पर यूजर्स भी अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। अनूप झा नाम के एक यूजर ने लिखा, ‘केंद्र और राज्य की सरकार को शर्म आनी चाहिए। सिंघु बॉर्डर बीजेपी सरकार के अधीन है, शर्म आनी चाहिए उन्हें।’

चंद्र प्रकाश मोहन नाम के एक यूजर ने लिखा, ‘ये तो लंगर लगाने वाले हैं न? यही नैरेटिव बनाया गया था इनका।’ नरेंद्र कुमार सिंह नाम के एक यूजर ने लिखा, ‘भाजपा ने अगर सख्ती से इन्हें कुचला होता तो आज ये आदमी नहीं मरता।’ श्रीपाल रावल नाम के एक यूजर लिखते हैं, ‘क्या यही है नया भारत?’

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
अटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी को आरोपों की जांच करने का सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेशSupreme Court, Army, Army shoot crowd, Delhi
अपडेट