ताज़ा खबर
 

शिवसेना द्वारा पाक कलाकारों पर बैन के विरोध में आया बॉलीवुड

महाराष्ट्र में पाकिस्तानी कलाकारों के कार्यक्रमों को रोकने की शिवसेना की प्रतिबद्धता की आलोचना करते हुए बॉलीवुड की कई हस्तियां कलाकारों के समर्थन में आई और कहा है...

Author मुंबई | October 24, 2015 12:48 PM
माहिरा खान ने उरी हमले पर जारी चुप्पी को तोड़ा।

महाराष्ट्र में पाकिस्तानी कलाकारों के कार्यक्रमों को रोकने की शिवसेना की प्रतिबद्धता की आलोचना करते हुए बॉलीवुड की कई हस्तियां कलाकारों के समर्थन में आई और कहा है कि कला और संस्कृति को राजनीति से अलग रखा जाना चाहिए।

राज्य और केंद्र में बीजेपी के साथ सत्ता साझा करने वाली शिवसेना ने कहा था कि वह किसी भी पाकिस्तानी अभिनेता, क्रिकेटर को महाराष्ट्र की धरती पर प्रस्तुति देने की अनुमति नहीं देगी।

उन्होंने पाकिस्तानी अभिनेता फवाद खान और माहिरा खान को भी निशाना बनाने का प्रयास किया जो हिंदी फिल्म उद्योग में कदम रखने का प्रयास कर रहे हैं और अपनी आगामी फिल्मों के प्रमोशन को लेकर व्यस्त हैं।

फिल्म और टेलीविजन प्रोडयूसर्स गिल्ड ऑफ इंडिया के अध्यक्ष और फिल्म निर्माता मुकेश भट्ट ने कहा कि कला को हमेशा राजनीति से अलग रखा जाना चाहिए।

उन्होंने कहा, मेरा मानना है कि फिल्म और संस्कृति को राजनीति से दूर रखा जाना चाहिए। पूरी दुनिया में कला और संस्कृति ही खाई को भरती है। शांति और सौहार्द बनाने के लिए यह मजबूत बल है और यह सीमाओं से परे हटकर समाज को लाभ पहुंचाती है।

खूबसूरत फिल्म के साथ बॉलीवुड में पदार्पण करने वाले फवाद खान ‘कपूर एंड सन्स’ और ‘ऐ दिल है मुश्किल’ फिल्मों में दिखेंगे जिसे करण जौहर बना रहे हैं।

वहीं माहिरा खान सुपरस्टार शाहरूख खान के साथ राहुल ढोलकिया की रईस में नजर आएंगी। भट्ट ने कहा कि अभिनेत्री को उसकी योग्यता के आधार पर फिल्म में काम दिया जा रहा है न कि राष्ट्रीयता के आधार पर।

उन्होंने कहा, हर समय ऐसा नहीं चल सकता। आप फिल्म निर्माताओं को निशाना नहीं बना सकते। शाहरूख ने माहिरा के साथ फिल्म लगभग पूरी कर ली है। उन्होंने उसे योग्यता के आधार पर चुनाव न कि पाकिस्तानी या किसी दूसरे देश का होने की वजह से।

फिल्म निर्माता ने सरकार से अपील की कि पहले से ही आदेश पारित करें कि शिवसेना पाकिस्तानी कलाकार पर प्रतिबंध चाहती है।

मशहूर गीतकार स्वानंद किरकिरे ने कहा कि प्रतिबंध लगाना मूल रूप से ठीक नहीं है।
उन्होंने कहा, मैं उनसे सहमत नहीं हूं। मूलत: किसी चीज को प्रतिबंधित करना ही ठीक नहीं है। राजनीति और कला को नहीं मिलाया जाना चाहिए।

फैंटम के अभिनेता मोहम्मद जीशान अयूब ने कहा, किसी चीज पर प्रतिबंध लगाना या उपेक्षा करना कमजोरी दर्शाता है। अगर आप किसी कलाकार को यहां आने से रोकते हैं तो यह दुश्मनी और असहिष्णुता को दर्शाता है। यह काफी दुखद है कि यह सब हो रहा है। मशहूर अभिनेता आदिल हुसैन ने कहा कि इस रूख से देश दमनात्मक बनेगा।

लगातार ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट्स, एनालिसिस, ब्‍लॉग पढ़ने के लिए आप हमारा फेसबुक पेज लाइक करें, गूगल प्लस पर हमसे जुड़ें  और ट्विटर पर भी हमें फॉलो करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App