scorecardresearch

धार्मिक उन्माद-भ्रष्ट राजनीति का भांडा फूटता है तो राजा जान बचाकर भागता है- श्रीलंका के हाल पर बोलीं बॉलीवुड एक्ट्रेस

देश की 60 लाख से अधिक की आबादी वाले देश में खाने की भीषण समस्या पैदा हो गई है।

धार्मिक उन्माद-भ्रष्ट राजनीति का भांडा फूटता है तो राजा जान बचाकर भागता है- श्रीलंका के हाल पर बोलीं बॉलीवुड एक्ट्रेस
बॉलीवुड एक्ट्रेस ऋचा चड्ढा (फोटो क्रेडिट-इंस्टाग्राम,therichachadha)

श्रीलंका के पीएम रानिल विक्रमसिंघे के इस्तीफा के बाद देश में हालात बिगड़ गए हैं। श्रीलंका की स्थिति को लेकर बॉलीवुड एक्ट्रेस ऋचा चड्ढा ने तंज भरा एक पोस्ट लिखा है। उन्होंने एक पत्रकार के ट्वीट को शेयर करते हुए लिखा कि जब भ्रष्ट राजनीति का भांडा फूटता है तो राजा जान बचा कर भाग जाता है। जिसपर लोगों ने उनकी खिंचाई की है।

ऋचा चड्ढा ने लिखा,”यूक्रेन यूक्रेन से पहले यमन को भी भूखा मारा गया। जनता को केवल एक बात समझनी है कि जब ऐसी क्रूर, धार्मिक उन्माद से भरी, भ्रष्ट राजनीति का भांडा फूटता है तो राजा जान बचा के भाग जाता है। चाहे श्रीलंका हो या अफगानिस्तान। पीछे रह जाते हैं भूखे लोग। सारी मदद केवल Hashtag तक सीमित रह जाती है।”

एक्ट्रेस के ट्वीट को शेयर करते हुए आशीष नाम के यूजर ने लिखा,”भारत के लोगों ने पहले ही भांप लिया था इसीलिए 2014 में ही भ्रष्ट, मुस्लिम तुष्टिकरण करने वाली, चीन के इशारों पर नाचने वाली, कायर कांग्रेस की सफाई कर दी थी।” हसन-ए-मुस्तफा ने लिखा,”जल्द ही भारत को भी ये बात समझ आ जाएगी। इससे पहले की बहुत देर हो जाए, जाग जाओ।”

क्या है मामला? आपको बता दें कि 60 लाख से अधिक आबादी वाला देश श्रीलंका कई समय से आर्थिक परेशानियों से गुजर रहा है। आजादी के बाद पहली बार साल 2021 अप्रैल में सबसे बड़ी आर्थिक समस्या श्रीलंका में दर्ज की गई। श्रीलंका की अर्थव्यवस्था 3.6 प्रतिशत तक गिर चुकी है।

आर्थिक मोर्चे पर दिक्कतों का सामना कर रहे श्रीलंका के सामने भोजन का संकट बढ़ गया है। पहली बार अप्रैल 2021 में श्रीलंका में आजादी के बाद सबसे बड़ी आर्थिक गिरावट दर्ज की गई। तब यहां की अर्थव्यवस्था 3.6 प्रतिशत तक गिर गई।

Also Read
श्रीलंका जैसा हाल भारत में कभी भी हो सकता है- मुकेश अंबानी- अजय देवगन का नाम लेकर बोले बॉलीवुड एक्टर; मिले ऐसे जवाब

अगस्त 2021 में राष्ट्रपति द्वारा फूड इमरजेंसी घोषित की गई, लेकिन हालात सुधरने की बजाय दिन प्रतिदिन और खराब होते गए, जिसके बाद साल 2022 मार्च में देश की जनता ने सरकार के खिलाफ प्रदर्शन शुरू किया।

1 अप्रैल 2022 को राष्ट्रपति ने इमरजेंसी लागू की और अप्रैल में ही सेंट्रल बैंक आफ श्रीलंका के गवर्नर ने इस्तीफा दे दिया। अब देश के पीएम ने भी इस्तीफा दे दिया है, जिसके बाद भी लोगों का गुस्सा शांत नहीं हुआ। प्रदर्शनकारियों ने पीएम के निजी आवास को भी आग के हवाले कर दिया और कोलंबो में राष्ट्रपति भवन में भी उत्पात किया।

पढें मनोरंजन (Entertainment News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट