ताज़ा खबर
 

पाकिस्तान इकलौता देश जहां भारतीयों को मिलता है खास प्यार: एक्टर विनय पाठक

फिल्म एक्टर विनय पाठक इसी साल पाकिस्तान गए थे। वह वहां पर पाकिस्तान राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में शामिल होने के लिए गए थे। पाठक मानते हैं कि मीडिया और सोशल मीडिया पर हमें जो दोनों देशों के बीच नफरत दिखती है, आम आदमी का उससे कोई सरोकार नहीं है।

बॉलीवुड और टीवी अभिनेता विनय पाठक। Express photo by Prashant Nadkar, Mumbai

मशहूर फिल्म एक्टर विनय पाठक इसी साल पाकिस्तान गए थे। वह पाकिस्तान में पाकिस्तान राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में शामिल होने के लिए गए थे। पाठक ने पाकिस्तान से वापस लौटकर समाचार एजेंसी आईएएनएस से कहा,’भारतीय कलाकारों का सीमा के उस पर बहुत ही गर्मजोशी से स्वागत होता है। बल्कि मुझे लगता है कि पाकिस्तान ही ऐसा इकलौता देश है, जहां हमारा बेहद खास ख्याल रखा जाता है क्योंकि हम भारत से आए हैं।’

पाठक ने कहा, ‘दुनिया का कोई भी दूसरा देश हमारा इतने प्यार और गर्मजोशी से स्वागत नहीं करता है। मुख्य धारा की मीडिया और सोशल मीडिया पर हमें जो दोनों देशों के बीच नफरत दिखती है, आम आदमी का उससे कोई सरोकार नहीं है। मेरा मानना है कि कि लोगों के बीच दोस्ती ने कभी रुक सकती है और न ही उसे किसी कारण से रोका जाना चाहिए।’ भारतीय एक्टर विनय पाठक ने मार्च में पाकिस्तान का दौरा किया था। इस दौरान वह फिल्म फेस्टिवल में कई फिल्मों की स्क्रीनिंग में भी शामिल हुए और उन्होंने कई सिनेमा हॉल और मल्टीप्लेक्स का भी दौरा किया।

पाठक ने बताया, ‘मैंने पाकिस्तानी फिल्म के प्रीमियर में भी शिरकत की। इस दौरान मैंने वहां पर अजय देवगन की फिल्म ‘रेड’ का बड़ा पोस्टर भी लगा देखा। आयोजकों का कहना था कि पाकिस्तान में भारतीय फिल्मों का बड़ा बाजार है क्योंकि पाकिस्तानी हमारी फिल्में देखना पसंद करते हैं। वे लगातार हमारी फिल्में पाकिस्तान में रिलीज करना चाहते हैं। सांस्कृतिक रूप से हम दोनों में समानताएं हैं। हमारे आदर्श समान हैं, हमारा भोजन, हमारा पहनावा भी समान है।’

विनय पाठक, जल्दी ही फैमिली ड्रामा फिल्म ‘खजूर पे अटके’ में दिखाई देंगे। इस फिल्म में वह अपने पुराने दोस्तों अभिनेता—निर्देशक हर्ष छाया, मनोज पाहवा और सीमा पाहवा के साथ स्क्रीन साझा करते दिखेंगे। इस सवाल पर कि क्या वह फिल्म की स्क्रिप्ट को महत्व देंगे अगर वह किसी दोस्त की तरफ से आई हो, विनय पाठक ने कहा,’अगर आप मेरी प्राथमिकताओं के बारे में बात करें तो मैं इस मामले को इस तरह से नहीं लेता हूं।’

विनय पाठक कहते हैं,’ये हर्ष की बतौर निर्देशक पहली फिल्म है। लेकिन जब तक मैं स्क्रिप्ट न पढ़ लूं, मैं नहीं जानता कि ये हर्ष की स्क्रिप्ट है। क्योंकि उसने मुझसे बतौर दोस्त संपर्क नहीं किया था। मैंने पहले भी कई दोस्तों की मदद के लिए कुछ फिल्मों को हां कहा था, लेकिन उन फिल्मों की स्क्रिप्ट भी गजब की थी। इसलिए मैं खुद को भाग्यशाली मानता हूं क्योंकि मैं चारों ओर प्रतिभाशाली लोगों से घिरा हूं।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App