ताज़ा खबर
 

Republic टीवी पर कहने लगे BKU नेता- पूछता है किसान तो बोले अर्नब गोस्वामी और क्या चाहिए लिखित में?

रिपब्लिक टीवी के डिबेट शो में भारतीय किसान यूनियन के नेता ने कहा कि हमें MSP की गारंटी कानून बनाकर लिखित में चाहिए। इस बात पर एंकर अर्नब गोस्वामी झल्ला गए और बोले कि आपको लिखित में और क्या चाहिए...

farmers protest, farm bills, republic debate showकृषि कानूनों के विरोध में किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं

नए कृषि कानूनों को लेकर सरकार और किसानों के बीच गतिरोध कायम है। शुक्रवार को किसानों और सरकार के बीच हुई 8वें दौर की बातचीत बेनतीजा ख़त्म हो गई थी। इसके बाद सरकार की तरफ से बातचीत के लिए 15 जनवरी की पेशकश की गई जिसे किसानों ने मान लिया। इधर किसान लगातार यह आरोप लगाते दिख रहे हैं कि सरकार कृषि कानूनों को वापस न लेने पर अड़ी हुई है।

इसी बात को लेकर रिपब्लिक टीवी के डिबेट शो, ‘पूछता है भारत’ पर डिबेट के दौरान अर्नब गोस्वामी ने भारतीय किसान यूनियन के नेता दिगंबर सिंह से कहा कि उन्हें लिखित में क्या- क्या चाहिए। उन्होंने दिगंबर सिंह से पूछा, ‘बातचीत में क्या अड़चन आ रही है आप हमें बताइए?’ पैनलिस्ट दिगंबर सिंह ने जवाब दिया, ‘बातचीत हर समस्या का समाधान है अर्नब जी, लेकिन आप जो दिखा रहे हो कि किसान अड़ा हुआ है अपनी बात पर तो किसान नहीं अड़ा हुआ हुए है अपनी बात पर। अड़ी हुई है इस देश की सरकार कि कानून वापस नहीं लेंगे।’

वो आगे बोले, ‘अगर कानून वापस ले लिए तो हो सकता है कोई किसान इस देश का प्रधानमंत्री बन जाए। क्या डर है सरकार को? क्या जिद है कि कानून वापस नहीं लेंगे? आज किसान एमएसपी मांग रखा है, लाभकारी मूल्य नहीं मांग रहा तो क्या दिक्कत है इस सरकार को- ये बताएं- पूछता है किसान। हमें लिखित तौर पर दें।’

अर्नब गोस्वामी कहते हैं, ‘पूछता है किसान, पूछता है भारत पर। ये आप कैसे कह सकते हैं कि सरकार अड़ी हुई है जब आपको लिखित तौर पर दिया जा रहा है कि न्यूनतम समर्थन मूल्य पर कोई असर नहीं होगा, वो रहेगा। लिखित तौर पर? लिखित में क्या होता है? लिखित तौर पर अब और क्या चाहिए आपको?’

दिगंबर सिंह कहते हैं कि फिर सरकार एमएसपी पर लोकसभा में कानून पास कर दे। कानून पास करने और लिख कर देने में अंतर है।’ अर्नब गोस्वामी दूसरे पैनलिस्ट से मुखातिब होकर कहते हैं कि इनको ज़रा समझाइए कि दिक्कत क्या है। वो चिल्लाते हुए कहते हैं, ‘मैं दोबारा कहता हूं कि सरकार आपको लिखित तौर पर देने के लिए तैयार है और क्या चाहिए। मुझे समझ नहीं आ रहा दिक्कत क्या है?’

Next Stories
1 जो राष्ट्राध्यक्ष खुद को क़ानून से ऊपर माने वो तानाशाह है या सिरफिरा- बोले पुण्य प्रसून बाजपेयी तो आने लगे ऐसे कमेंट
2 इस्लामी देशों और चीनी प्रोपेगेंडा ने आपको खरीद लिया- डोनाल्ड ट्रंप का अकाउंट हुआ बंद तो ट्विटर के CEO पर भड़कीं कंगना रनौत
3 महाभारत में काम कर चुकी हैं गंदी बात फेम एक्ट्रेस गरिमा जैन, अनाथ बच्चियों की भी उठाती हैं जिम्मेदारी
ये पढ़ा क्या?
X