ताज़ा खबर
 

‘झंडे के साथ डंडा भी लाना है, लाठी भी साथ रखनी है..समझ जइयो सारी बात’ वायरल हुआ राकेश टिकैत का वीडियो, बोले- संघ के लोग भी तो…

टिकैत कहते हैं कि जो संघ के लोग चलते हैं, वह भी तो लाठी लेकर चलते हैं या कुछ और लेकर चलते हैं? मैंने यह कहा कि लाठी लेकर आना, झंडा लगाने के लिए। उनको यहां कहां से दूंगा मैं लाठी?

Farmers Protest, किसान आंदोलन, kisan andolan, मोदी सरकार, modi government, नए कृषि कानून, new agriculture law, kisan tractor rally, किसान ट्रैक्टर रैली, दिल्ली पुलिस, delhi police, supreme court भारतीय किसान यूनियन (BKU) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत (file)

दिल्ली में किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा और उपद्रव का मामला गरमा गया है। आईटीओ पर प्रदर्शन के दौरान एक किसान की मौत भी हो गई। उधर, लाल किले के अंदर भी प्रदर्शनकारी घुस गए थे और अपना झंडा लहरा दिया था। अब प्रदर्शन के कई वीडियो में सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं, जिसमें पुलिस के जवान और किसानों के बीच झड़प होती दिख रही है। हालांकि इस पूरे मामले में किसानों के प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं का दावा है कि प्रदर्शन शांतिपूर्ण रहा। खास राजनीतिक दलों के लोग प्रदर्शन में घुस गए थे और उन्होंने ही उपद्रव किया।

इसी बीच भारतीय किसान यूनियन (अराजनैतिक) के प्रवक्ता राकेश टिकैत का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में राकेश कहते हैं, ”मान नहीं रही है, ज्यादा कैड़ी पड़ रही है सरकार। अपना ले आना झंडा भी लगाना है, और लाठी-गुद्दी भी रखियो झंडा लगाने के लिए… समझ जइयो सारी बात… ठीक है, तिरंगा भी लगा लियो उस पर… अब बहुत हो लिया”।

राकेश टिकैत इस वीडियो में आगे कहते हैं, ‘अब आ जाओ सारे… जमीन बचाने के लिए, अब जमीन नहीं बच रही….’।ट्रैक्टर परेड के दौरान बवाल के बाद अब राकेश टिकैत का वीडियो वायरल हुआ तो उन्होंने सफाई भी दी है। राकेश टिकैत से जब यह पूछा गया कि आप इस तरीके से लोगों को भड़का रहे थे तो उन्होंने कहा, ‘झंडा किस चीज में लगता है?

 

टिकैत कहते हैं कि जो संघ के लोग चलते हैं, वह भी तो लाठी लेकर चलते हैं या कुछ और लेकर चलते हैं? मैंने यह कहा कि लाठी लेकर आना, झंडा लगाने के लिए। उनको यहां कहां से दूंगा मैं लाठी?’। राकेश टिकैत ने कहा कि कोई लाठी चली क्या वहां पर किसान की? कोई किसान दिल्ली के अंदर बैठा है? हमारा था कि हम परेड करेंगे और वापस चले जाएंगे।

 

अगर किसान को रुकना होता तो किसान वही टेंट लगाकर बैठ जाता। TV9 भारतवर्ष से बातचीत के दौरान राकेश टिकैत ने कहा कि जो यह खबर चल रही है कि किसान को बाहर कर दिया गया, खदेड़ दिया गया, यह बिल्कुल गलत खबर है। किसान अपने मन से गया है। हमने ही पुलिस से कहा कि इनको बाहर जाने का रास्ता बता दो।

Next Stories
1 गणतंत्र दिवस को दुख का दिन बना दिया, दुनिया हमपर हंस रही- बोले कुमार विश्वास तो आने लगे ऐसे कमेंट
2 ‘जिनको हम इतने दिनों से अन्नदाता कह रहे थे…’ किसानों के प्रदर्शन पर भड़के संबित पात्रा, बोले- ये तो उग्रवादी हैं
3 16 साल की डिंपल कपाड़िया और राजेश खन्ना की शादी से नाखुश थीं उनकी मां, शादी के दिन भी नहीं थमे आंसू
ये पढ़ा क्या?
X