ताज़ा खबर
 

सड़क इनके बाप की जागीर नहीं- राकेश टिकैत बोले दिल्ली बॉर्डर ही किसानों का घर तो भड़के बॉलीवुड फिल्ममेकर

राकेश टिकैत ने कहा है कि दिल्ली बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे किसानों का घर वहीं है, वो वहां से नहीं जाएंगे। उनके इस बयान पर बॉलीवुड फिल्ममेकर अशोक पंडित ने भड़कते हुए कहा कि सड़क...

farmers protest, rakesh tikait, covid 19बढ़ते महामारी के बीच दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का आंदोलन जारी है (Photo-Indian Express/Praveen Khanna)

देश में जहां एक तरफ़ कोरोना के नए मामलों में हर रोज रिकॉर्ड स्तर की बढ़ोतरी हो रही है वहीं दूसरी तरफ़ कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन कर रहे हैं। कोविड महामारी के बीच किसान आंदोलन को खत्म करने का दबाव भी देखा जा रहा है लेकिन किसान नेता राकेश टिकैत इस बात से साफ़ इंकार करते नजर आए हैं। राकेश टिकैत ने हाल ही में समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में कहा कि दिल्ली बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे किसानों का घर वहीं है, वो वहां से नहीं जाएंगे। उनके इस बयान पर बॉलीवुड फिल्ममेकर अशोक पंडित ने उन पर अपनी भड़ास निकाली है।

राकेश टिकैत ने कोविड महामारी के बीच जारी आंदोलन पर कहा, ‘किसान अपने घरों में ही हैं। हम उन्हें अब और कहां जाने की बात कर रहे हैं? क्या कोरोना यहां से फैल रहा है? हम यहां पिछले 5 महीनों से रह रहे हैं। अब यही हमारा घर है। बहुत से किसानों ने वैक्सीन ले लिया है लेकिन वैक्सीन के दूसरे डोज के लिए उन्हें संघर्ष करना पड़ रहा है। हमने अधिकारियों से कहा है कि वो यहां कैंप लगाएं।’

उनके इस बयान पर अशोक पंडित ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट किया, ‘सड़क इनके बाप की जागीर नहीं है।’ अशोक पंडित के इस ट्वीट पर यूजर्स की मिली जुली प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है।

 

समीर खान नाम के यूजर ने लिखा, ‘यह देश आपके बाप की भी जागीर नहीं। जितना आपका है, नरेंद्र मोदी का है, उतना ही किसानों का भी है।’

 

असद अंसारी नाम से एक यूजर ने कोरोना महामारी के कारण देश में मचे हाहाकार को लेकर अशोक पंडित पर निशाना साधा, ‘सड़क तो आजकल मरीज़ इस्तेमाल कर रहे हैं, लेटने के लिए हॉस्पिटल के बाहर। इंसानियत का तकाजा है इंसान बनो..जिंदगी रही तो बाकी बचे नफरत का हिसाब कर लेंगे।’

 

नवजोत सिंह नाम से एक यूजर ने अशोक पंडित को जवाब दिया, ‘और जमीन भी आपके बाप की जागीर नहीं है।’ मल्लिक नाम से एक यूजर लिखते हैं, ‘5 महीनों से जिस जगह पर किसानों को रहने के लिए मजबूर कर रखा है, अब वही उनका घर है।’

Next Stories
1 राहुल गांधी, प्रियंका गांधी क्या कहते हैं देश सुनना नहीं चाहता..-डिबेट में ऑक्सीजन की कमी के सवाल पर कांग्रेस नेता से बोले संबित पात्रा
2 मुझे इतने छोटे घर में रहने की आदत नहीं- जब किराए के मकान में रहने लगे थे राजेश खन्ना, बयां किया था दर्द
3 बंद करो चुनावी रैलियां…- ममता बनर्जी द्वारा कोरोना के बीच रैली करने पर भड़कीं स्वरा भास्कर
यह पढ़ा क्या?
X