ताज़ा खबर
 

अपनी सबसे बड़ी समस्या को साथ ला रहे हो- राजनीति में जब रवि किशन को लाए मनोज तिवारी, लोगों ने कही थी ये बात

भोजपुरी सिनेमा में मनोज तिवारी और रवि किशन कड़े प्रतिद्वंदी माने जाते थे। ऐसे में मनोज तिवारी के रवि किशन को राजनीति में लाने के फैसले पर कुछ लोगों ने उनसे आपत्ति जताई थी।

भोजपुरी अभिनेता और बीजेपी सांसद रवि किशन मनोज तिवारी (Photo-Kapil Sharma/Youtube/File)

भोजपुरी अभिनेता मनोज तिवारी ने साल 2009 में समाजवादी पार्टी की तरफ से लोकसभा के चुनाव में शामिल होकर अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की थी। हालांकि वो जल्द ही बीजेपी में शामिल हो गए थे। उनके बाद भोजपुरी के सुपरस्टार रहे रवि किशन भी राजनीति में आ गए थे। मनोज तिवारी के अनुसार, रवि किशन को राजनीति में वही लाए थे। रवि किशन ने कांग्रेस पार्टी ज्वाइन की थी जिस पर लोगों ने मनोज तिवारी से कहा था कि वो अपनी सबसे बड़ी समस्या को राजनीति में ला रहे हैं। मनोज तिवारी ने यह बात The Kapil Sharma Show पर बताई थी।

उन दिनों भोजपुरी सिनेमा में दोनों ही अभिनेता कड़े प्रतिद्वंदी माने जाते थे। ऐसे में मनोज तिवारी के रवि किशन को राजनीति में लाने के फैसले पर कुछ लोगों ने उनसे आपत्ति जताई थी। मनोज तिवारी ने बताया था, ‘मैं राजनीति में गया तो इनको पकड़कर लाया कि चलो। तो लोग कह भी रहे थे कि अपनी सबसे बड़ी समस्या को ला रहे हो साथ में।’ वहीं अगर फिल्मों की बात करें तो मनोज तिवारी रवि किशन से पहले फिल्मों में काम करने लगे थे। उन्होंने बताया था कि वो रवि किशन की फिल्म में आइटम सॉन्ग भी कर चुके हैं।

मनोज तिवारी ने अपने फिल्मी करियर पर बात करते हुए रवि किशन से हंसी में कह दिया कि वो उन्हें कभी गंभीरता से नहीं लेते। वो बोले, ‘मैं इस आदमी को कभी गंभीरता से नहीं लेता। ये हमारे सीनियर हैं, हमसे पहले से फिल्में करते हैं। हम तो बाद में आए। मैं उनके फिल्म में आइटम सॉन्ग कर चुका हूं।’

 

मनोज तिवारी ने यह भी बताया था कि जब वो सिंगर थे तब रवि किशन सुपरस्टार बन चुके थे और वो उन जैसे सिंगर्स को कुछ नहीं समझते थे। उन्होंने बताया था, ‘जब हम केवल गाना गाते थे, उस वक्त सिंगर्स की ज्यादा वैल्यू नहीं थी। तब रवि किशन इकलौते भोजपुरी सिनेमा के सुपरस्टार थे। जब ये सुपरस्टार थे तब हम लोगों को कुछ समझते ही नहीं थे।’

 

आपको बता दें कि मनोज तिवारी उत्तर पूर्वी दिल्ली से बीजेपी के सांसद हैं। जब वो समाजवादी पार्टी में थे तब उन्होंने योगी आदित्यनाथ के खिलाफ चुनाव लड़ा था। वो चुनाव हार गए थे और कुछ समय बाद उन्होंने पार्टी छोड़ दी थी। पार्टी छोड़ने के पीछे की वजह बताते हुए मनोज तिवारी ने कहा था कि वो समाजवाद को समझने गए थे लेकिन उनके साथ धोखा हो गया।

Next Stories
1 मेरे साथ बुरा हुआ तब किसी ने साथ नहीं दिया- जब खेसारी का नाम सुन छलका अक्षरा सिंह का दर्द, पवन सिंह पर कही ये बात
2 मनोज तिवारी अगर बतौर BJP नेता मिलते हैं तो मैं उनसे नहीं मिलूंगा- जब बोल पड़े थे खेसारी, अखिलेश यादव पर कही थी ऐसी बात
3 भोजपुरी फिल्मों में एक्ट्रेस की कम फीस पर भड़कीं अक्षरा सिंह, अंजना सिंह भी बोलीं- ज़मीन आसमान का अंतर है
ये पढ़ा क्या ?
X