scorecardresearch

सादी वर्दी में गश्त पर निकले थे SSP, दरोगा से की गाड़ी चोरी की शिकायत तो लगे हड़काने, वायरल वीडियो पर लोग कर रहे ऐसे फनी कमेंट

भागलपुर के एसएसपी बाबू राम औचक निरीक्षण के लिए निकले तो ASI उन्हें पहचान नहीं पाए और जमकर फटकार लगा दी।

भागलपुर के एसएसपी औचक निरीक्षण के लिए निकले थे। (सोर्स- https://twitter.com/UtkarshSingh_/)

बिहार पुलिस और उसकी कार्यशैली अक्सर चर्चा में रहती है। अक्सर आपने देखा होगा कि पुलिस के बड़े अधिकारी औचक निरीक्षण के लिए निकलते हैं और लापरवाह पुलिसकर्मियों की जमकर क्लास लगाते हैं लेकिन, हाल ही में भागलपुर के एसएसपी जब सादे कपड़ों में औचक निरीक्षण के लिए देर रात निकले तो एक ASI ने उन्हें ही फटकार लगा दी। इस घटना का एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है।

दरअसल, दो हफ्ते पहले ही दरभंगा से भागलपुर आए जिले के एसएसपी बाबूराम रात को औचक निरीक्षण के लिए निकले। वायरल वीडियो में दिख रहा है कि एसएसपी सादे कपड़ों में अकेले खड़े नजर आ रहे हैं और एक ASI से अपनी बाइक गायब होने की शिकायत कर रहे हैं। इसके बाद ASI ने एसएसपी को जमकर फटकार लगाई।

क्या है पूरा मामला: दरअसल, एसएसपी बाबूराम औचक निरीक्षण के लिए भागलपुर शहर के जोगसर थाना पहुंचे थे। सादे कपड़े, चेहरे पर मास्क और बिना ताम-झाम के पहुंचे एसएसपी को ASI पहचान नहीं पाया। किसी आम आदमी की तरह ASI हितनारायण सिंह से SSP अपनी बाइक चोरी की एफआईआर दर्ज करने की बात कहते हैं। इतनी सी बात पर ASI हितनारायण ने आम आदमी समझकर SSP को फटकार लगाना शुरू कर दिया।

वीडियो में एसएसपी और ASI की बातचीत को सुना जा सकता है। जिसमें SSP कह रहे हैं कि उनकी बाइक थाने के बाहर खड़ी थी, जिसे किसी ने चुरा लिया है। इसपर ASI भड़ककर कहते हैं कि झूठ बोल रहे हो, कहीं और बाइक छोड़कर आए हो और यहां कह रहे हो कि थाने के बाहर से बाइक चोरी हो गई है। थाने में मौजूद अन्य पुलिसकर्मी भी एसएसपी को आम इंसान समझकर फटकारने लगे।

हालांकि जब उन्हें इस बात का एहसास हुआ कि शिकायत कर रहा व्यक्ति कोई और नहीं बल्कि खुद एसएसपी बाबूराम हैं तो थाने के पुलिसकर्मियों ने तुरंत सलामी दी और माफी मांगी। हालांकि एसएसपी बाबू राम पुलिस के इस बर्ताव को माफी देकर मामले को खत्म करने के मूड में बिल्कुल नहीं थे। उन्होंने पूरे थाने को तलब कर लिया। छापेमारी पर एसएसपी बाबू राम ने कहा कि आम जनता के साथ थाने में इस तरह का व्यवहार ठीक नहीं है। बुरा बर्ताव करने वाले पुलिसकर्मियों की काउंसलिंग की जा रही है।

एसएसपी ने बताया कि सबसे पहले वे थाना इशाकचक गए। जहां किसी ने उन्हें  नहीं पहचाना। मगर सभी ड्यूटी पर मुस्तैद मिले। थाना जोगसर बाइक चोरी की शिकायत पर, वहां तैनात पुलिस अधिकारी तमीज से पेश नहीं आए। निर्देश के बावजूद ड्यूटी से पुलिसकर्मी गायब पाए गए। उन्होंने मुंह से मास्क भी हटाया। मगर कोई उन्हें पहचान नहीं पाया। थाना जोगसर के पुलिसकर्मियों की काउंसिलिंग कर चेतावनी दी जाएगी, ताकि भविष्य में ऐसी गलती न करें।

वहीं सोशल मीडिया पर लोग इस वीडियो को देखकर प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं।

त्रिलोकी नाथ नाम के यूजर ने ट्विटर पर लिखा कि स्वतंत्र भारत में अधिकारियों को अपनी जिम्मेदारी इसी प्रकार से समझनी चाहिए। शायद देश में सुधार हो सके। वैसे तो भ्रष्ट तंत्र ने लोकतंत्र की जड़ खोद दी हैं। थैंक यू सर। स्वामी भारतीय नाम के यूजर ने लिखा कि दरोगा जी अच्छे इंसान लगते हैं, नहीं तो आजकल 5-7 तो बिना GST ही गाली सुना देते हैं।

राजन कुशवाहा ने लिखा कि एकदमे ब्लंडर हो गया साहब। हकीकत है ये बिहार पुलिस की। ऐसे ही व्यवहार करने के लिए इनको ट्रैनिंग मिलती है। विनोद अवाना नाम के यूजर ने लिखा कि चलो आज एक पुलिस वाले ने दुसरे पुलिस वाले को आईना दिखा दिया कि हम आम जनता के साथ कैसा व्यवहार करते हैं।

अभिषेक प्रताप सिंह ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि धोखाधड़ी की धाराओं में एक केस एसएसपी के खिलाफ दर्ज होना चाहिए। ऑन ड्यूटी पुलिस अधिकारी के साथ झूठ बोलना और ड्यूटी से बाधित करने का मुकदमा भी बनता है।

पढें मनोरंजन (Entertainment News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.