ताज़ा खबर
 

संघर्ष के दिनों में गले की बेचनी पड़ी थी चेन, तंग आकर ‘विभूति नारायण’ ने छोड़ दी थी एक्टिंग

हमलोग के लिए सेलेक्ट होने के बाद आसिफ मुंबई पहुंचे। वहां सीरियल के लिए 4-5 एपिसोड शूट किए थे जिसके एवज में उन्हें 15 सौ रुपए मिले।

bhabi ji ghar par hain, aasif sheikh as vibhuti narayan, aasif sheikh and saumya tandon,आसिफ शेख भाबी जी घर पर हैं में विभूति नारायण का किरदार निभाते हैं।

‘भाबी जी घर पर हैं’ के विभूति नारायण यानी आसिफ शेख ने अपने करियर की शुरुआत बतौर टीवी कलाकार ही की थी लेकिन बाद के दिनों मे वह कई बड़ी फिल्मों का हिस्सा बनें। उनके संघर्ष का किस्सा भी काफी दिलचस्प है। हमलोग सीरियल से एक्टिंग की शुरुआत करने वाले आसिफ शेख ने जब एक्टर बनने के सपने पाले तो पिता ने इसका विरोध किया।

आसिफ शेख के पिता एक्टिंग का विरोध करते थे। आसिफ दिल्ली में ही थिएटर करते। इसी दौरान हमलोग सीरिलय के लिए ऑडिशन निकला। आसिफ शेख के पिता ने तब उनसे कहा था कि अगर इस ऑडिशन में सेलेक्ट हो गए तो फिर तुम एक्टर बन सकते हो। पिता की कही बात पर आसिफ शेख ऑडिशन देने चले गए लेकिन उनका इस बात का यकीन था कि वह ऑडिशन में पास नहीं होंगे। लेकिन आसिफ शेख का काम उनको पसंद आया और ऑडिशन में सेलेक्ट हो गए।

हमलोग के लिए सेलेक्ट होने के बाद आसिफ मुंबई पहुंचे। वहां सीरियल के लिए 4-5 एपिसोड शूट किए थे जिसके एवज में उन्हें 15 सौ रुपए मिले। और इन पैसों को आसिफ ने दोस्तों संग पार्टी में खर्च कर दिए थे। इन्हीं दिनों एक वक्त ऐसा भी रहा जब आसिफ शेख के सामने आर्थिक दिक्कतें आ गईं। उन दिनों मुश्किलों से उबरने के लिए आसिफ शेख को अपने गले की सोने की चेन तक बेचनी पड़ी। इन्हीं दिनों वह दूरदर्शन में टीवी न्यूज रीडर का ऑडिशन दिया लेकिन वह रिजेक्ट हो गए। आर्थिक तंगी से परेशान होकर आसिफ शेख ने मुंबई छोड़कर दिल्ली चले आए।

आसिफ शेक को फिर एक फिल्म ऑफर हुई रामा ओ रामा। लेकिन ये फिल्म कब आई, कब गई पता ही नहीं चला। इन्हीं दिनों आसिफ को कई फिल्में ऑफर हुईं। कयामत की रात, अग्निकाल, मुकद्दर का बादशाह, यारा दिलदारा। यारा दिलदारा का गाना-बिन तेरे सनम काफी हिट रहा था। आज भी इस गाने को लोग काफी पसंद करते हैं। इसके बाद आसिफ सलमान और शाहरुख की फिल्म करण -अर्जुन ऑफर हुई।जिसमें उन्होंने काजोल के मंगेतर का किरदार निभाया था। इसके बाद  उन्होंने छोटे पर्दे का रुख किया। और उनके लिए ये फेवरेबल साबित हुआ।

हमलोग के बाद छोटे पर्दे पर आसिफ शेख एक बार फिर लौटे। साल 1999 में यस बॉस सीरियल में उनका किरदार काफी हिट रहा। इससे वे काफी लोकप्रिय हुए। फिर साल 2015 में यस बॉस के राइटर मनु संतोषी ने एक और सीरियल लिख रहे थे जिसका नाम था भाबी जी घर पर हैं। इसमें विभूति नारायण के किरदार के लिए उनके दिमाग में सिर्फ आसिफ का ही नाम था। इस तरह बड़े पर्दे के सपोर्टिंग एक्टर छोटे पर्दे के स्टार बनें। आज भाबी जी घर पर हैं में आसिफ शेख के फ्लर्टी किरदार विभूति नारायण को लोग काफी पसंद करते हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 गरीब थे शाहरुख़ खान के पिता, गिफ़्ट दिया था फटा शतरंज, पर उसके साथ दी थी अनमोल सीख
2 10 सेकेंड के रोल से लेकर बी-ग्रेड की फिल्मों तक, अर्चना पूरन सिंह का ऐसा रहा संघर्ष
3 कास्टिंग काउच पर बिपाशा बसु ने सुनाई आपबीती, बोलीं- ‘प्रोड्यूसर मैसेज करके करता था परेशान’
अनलॉक 5.0 गाइडलाइन्स
X