अब ममता की छांव में- BJP छोड़ TMC में शामिल हुए बाबुल सुप्रियो तो कांग्रेस नेता ने ली चुटकी, पूर्व IAS बोले- खेला होबे

बाबुल सुप्रियो ने भाजपा का साथ छोड़कर ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस का दामन थाम लिया है। उनके इस कदम पर लोग भी खूब ट्वीट कर रहे हैं।

डेरेक ओ ब्रायन और अभिषेक बनर्जी के साथ बाबुल सुप्रीयो। फोटो- एएनआई ट्विटर हैंडल

भाजपा के पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री और आसनसोल से सांसद बाबुल सुप्रियो ने शनिवार को भारतीय जनता पार्टी का साथ छोड़कर ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस का दामन थाम लिया है। उन्होंने पार्टी के राष्ट्रीय सचिव अभिषेक बनर्जी और राज्य सभा सांसद डेरेक ओ ब्रायन की मौजूदगी में तृणमूल कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की। अपने आधिकारिक बयान में तृणमूल कांग्रेस ने कहा, “हम इस खास अवसर पर उनका स्वागत करते हैं।” बाबुल सुप्रियो के इस कदम पर राजनीतिक दिग्गजों के साथ-साथ रिटायर्ड आईएएस अधिकारी भी खूब ट्वीट कर रहे हैं।

कांग्रेस नेता इमरान प्रतापगढ़ी ने अपने ट्विटर हैंडल से बाबुल सुप्रियो की एक तस्वीर साझा की, जिसमें वह डेरेक ओ ब्रायन और अभिषेक बनर्जी के साथ नजर आए। इस तस्वीर को साझा करते हुए उन्होंने लिखा, “बाबुल अब ममता की छांव में।” वहीं कांग्रेस नेता मुकेश शर्मा ने पूर्व केंद्रीय मंत्री के इस कदम को भाजपा के लिए उल्टी गिनती करार दिया।

मुकेश शर्मा ने अपने ट्वीट में बाबुल सुप्रियो के टीएमसी में शामिल होने पर लिखा, “भाजपा की उल्टी गिनती शुरू। भाजपा सांसद बाबुल सुप्रियो ने राजनीति नहीं भाजपा को छोड़ दिया है।” पूर्व आईएएस अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह ने बाबुल सुप्रियो के इस कदम पर चुटकी लेते हुए लिखा, “बाबुल मोरा, नैहर छूटो ही जाए। खेला होबे।”

इससे इतर फिल्म निर्माता अशोक पंडित ने बाबुल सुप्रियो के इस कदम पर नाराजगी जाहिर की। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, “मैं तो हमेशा ही कहता था कि बाबुल सुप्रियो भाजपा में रहने के लायक नहीं है। भाजपा में कार्यकाल के दौरान उनका पूरा योगदान महज एक आपदा थी।”

बता दें कि केंद्रीय मंत्रिमंडल के विस्तार के बाद बाबुल सुप्रियो ने केंद्रीय मंत्री के पद से इस्तीफा दिया था। इसके कुछ सप्ताह बाद उन्होंने राजनीति से अपना नाता तोड़ने का भी ऐलान किया था।

बाबुल सुप्रियो ने कहा था कि पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले ही कुछ भाजपा नेताओं के साथ उनके मतभेद हो गए थे। उनके और सीनियर नेताओं के बीच यह मतभेद पार्टी को नुकसान पहुंचा रहे थे।

अपनी फेसबुक पोस्ट में बाबुल सुप्रियो ने लिखा था कि ‘सभी की बातें सुनीं, मां, पत्नी, बेटी, दो प्यारे दोस्त। इसके बाद कहता हूं कि मैं किसी दूसरी पार्टी में नहीं जा रहा हूं। न कांग्रेस, न टीएमसी और न ही सीपीआई। मैं एक टीम का खिलाड़ी हूं और हमेशा एक ही टीम का समर्थन किया है।’

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट