scorecardresearch

स्वरा भास्कर ने महाराष्ट्र की राजनीति पर दिया बयान तो भड़क गए फिल्ममेकर, बोले- पीआर टीम काम पर लग गई, जरूर मोटा पैसा मिला होगा

स्वरा भास्कर और सिमी ग्रेवाल ने महाराष्ट्र सरकार में हुई हलचल पर ट्वीट किया था। जिसे लेकर अशोक पंडित ने दोनों को घेरा है।

Swara bhasker, Siddique kappan
बॉलीवुड एक्ट्रेस स्वरा भास्कर (फोटो सोर्स-इंस्टाग्राम swara bhasker)

महाराष्ट्र की सियासत को लेकर सोशल मीडिया पर भी बहस छिड़ गई है। फिल्म एक्टर स्वरा भास्कर और सिमी ग्रेवाल ने सूबे की राजनीति पर बयान दिया तो फिल्ममेकर अशोक पंडित ने दोनों को पीआर टीम का हिस्सा बता दिया और कहा कि ट्वीट के लिए जरूर मोटी रकम मिली होगी।

दरअसल, स्वरा भास्कर ने ट्वीट किया था, ‘क्या बकवास है, हम वोट देते ही क्यों हैं? चुनाव की जगह बंपर सेल लगा दो हर 5 साल में…।’ वहीं, सिमी ग्रेवाल ने उद्धव ठाकरे की तारीफ करते हुए लिखा था, ‘उद्धव ठाकरे को सत्ता का लालच नहीं है इसीलिये वो राजनीतिक हथकंडे नहीं अपनाते। राजनीति में उन जैसा सिद्धांतवादी नेता मिलना मुश्किल है।’ दोनों एक्ट्रेस के इसी बयान पर अशोक पंडित भड़क गए और तीखी प्रतिक्रिया दी।

अशोक पंडित ने स्वरा के ट्वीट को कोट करते हुए लिखा, ‘सिर्फ पीआर वालों के भरोसे मत रहो मोहतरमा, खुद भी थोड़ा पढ़ लो। लोगों ने तो वोट किसी और पार्टी को जीतने के लिए दिया था लेकिन लोगों को धोखा देकर अपने दुश्मनों के साथ सरकार बना ली। वैसे एक ट्वीट के लिए कितने में डील हुई है?’

पंडित ने अपने अगले ट्वीट में स्वरा और सिमी ग्रेवाल के ट्वीट का स्क्रीनशॉट साझा करे हुए लिखा, ‘बॉलीवुड की पीआर एजेंसी महाविकास अघाड़ी सरकार को बचाने में लग गई है। ये वही लोग हैं जो शिवसैनिकों को गुंडा-मवाली कहते हैं। मुझे पूरा यकीन है कि एक-एक ट्वीट के लिए मोटा पैसा मिला होगा।’

सिमी ग्रेवाल को याद दिलाया पुराना बयान: अशोक पंडित यहीं नहीं रुके। उन्होंने सिमी ग्रेवाल को कोट करते हुए उनका एक पुराना बयान याद दिलाया और लिखा, ‘मुझे याद है कि कुछ वक्त पहले आपने कहा था कि शिवसेना गुंडों की पार्टी है, जिसका मैंने जवाब दिया था। कम से कम अपने सिद्धांत पर कायम रहें, भले ही पीआर एजेंसी से आपकी व्यवसायिक डील हुई हो।’

क्या है पूरा मामला? आपको बता दें कि शिवसेना नेता और उद्धव के दाहिने हाथ कहे जाने वाले एकनाथ शिंदे की बगावत के बाद राज्य में सियासी संकट खड़ा हो गया है। शिंदे का दावा है कि उनके साथ शिवसेना के 40 से ज्यादा विधायक हैं। उन्होंने उद्धव ठाकरे और पार्टी पर कई तरह के आरोप लगाए हैं। उधर, एक दिन पहले ठाकरे ने कहा था कि अगर कोई शिवसैनिक सीएम बनना चाहता है तो वो पद से हट जाएंगे, लेकिन इसके लिए सामने आकर कहे।

पढें मनोरंजन (Entertainment News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट