ताज़ा खबर
 

अमृता सिंह की मां जिन्हें संजय गांधी ने आपातकाल के दौरान दे रखी थी खुली छूट

रुखसाना संजय गांधी की इतनी खास हो गई थीं कि कांग्रेस के बड़े-बड़े नेता उनके आगे पीछे घूमते थे। कहा ये भी जाता है कि रुखसाना के चलते कई बार इंदिरा, संजय और मेनिका गांधी में विवाद भी हुआ। विवाद आए और गए। लेकिन रुखसाना का रुतबा बना रहा।

Author June 25, 2019 2:39 PM
अपनी मां रुखसाना सुल्ताना के साथ एक्ट्रेस अमृता सिंह। (फोटो सोर्स- फेसबुक/लियाकत अली)

अमृता सिंह..एक ऐसा नाम जिसका नाम अब किसी ना किसी के नाम के साथ ही आ पाता है। मसलन सिम्बा एक्ट्रेस सारा अली खान की मां अमृता सिंह या फिर सैफ अली खान की पूर्व पत्नी अमृता सिंह। अमृता सिंह आज फिल्म इंडस्ट्री में भुलाया जा चुका नाम बन गया है। हालांकि अमृता सिंह अपने टाइम के लगभग सभी सुपरस्टार्स के साथ काम कर चुकी हैं। ‘चमेली की शादी’ से अनिल कपूर के साथ फिल्मी डेब्यू किया तो ‘मर्द’ में अमिताभ के अपोजिट फिल्म में जान ही डाल दी। अमृता सिंह का उस वक्त स्टारडम ऐसा था कि सैफ अली खान भी उनके मोहब्बत में कैद हो गए। आगे चलकर दोनों ने शादी की, परिवार बनाया और फिर तलाक ले लिया। कहने को अमृता सिंह की सिर्फ इतनी ही पहचान है। लेकिन बहुत कम लोग ही जानते होंगे कि अमृता सिंह एक ऐसी महिला की बेटी हैं जिससे कभी दिल्ली के मुसलमान खौफ खाते थे। देश की प्रधानमंत्री तक उनकी बात करती थीं। नाम था रुखसाना सुल्ताना।

44 साल पहले साल 1975 में आपातकाल के ऐलान के साथ ही रुखसाना सुल्ताना का नाम सामने आता है। राशिद किदवई की किताब 24 अकबर रोड के मुताबिक रुखसाना संजय गांधी की इतनी खास हो गई थीं कि कांग्रेस के बड़े-बड़े नेता उनके आगे पीछे घूमते थे। कहा ये भी जाता है कि रुखसाना के चलते कई बार इंदिरा, संजय और मेनिका गांधी में विवाद भी हुआ। विवाद आए और गए। लेकिन रुखसाना का रुतबा बना रहा।

संजय गांधी ने रुखसाना को नसबंदी कार्यक्रम का जिम्मा सौंपा। उन्हें 8000 मर्दों को नसबंदी के लिए मोटिवेट करने की जिम्मेदारी दी गई। तब के मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो रुखसाना ने रिकॉर्ड 13000 से ज्यादा लोगों की नसंबदी करवाई थी। आलम ये था कि दिल्ली में जामा मस्जिद और तुर्कमान गेट के आसपास के इलाकों के मुसलमानों के लिए रुखसाना खौफ का पर्याय बन गईं।

देखते ही देखते पुरानी दिल्ली में ब्यूटी पार्लर चलाने वालीं रुखसाना आपातकाल में संजय गांधी की सबसे खास सिपाही बन गईं। एक इंटरव्यू में रुखसाना ने बताया था कि उन वो एक कार्यक्रम के दौरान खुद संजय गांधी के पास गई थीं और उनसे पार्टी के लिए कुछ करने को कहा था।

संजय गांधी के गैंग फोर में जगदीश टाइटलर, कमलनाथ, सज्जन कुमार के साथ रुखसाना अकेली लेडी थीं। रुखसाना के रुतबे का आलम ये था कि नेता को नेता बड़े-बड़े व्यापारी भी लाइसेंस लेने के लिए रुखसाना की जीहुजुरी करते। उस वक्त मीडिया ने रुखसाना को इमरजेंसी की चीफ ग्लैमर गर्ल जैसे खिताब दिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App