राम ने भरत को रावण से सुशासन सीखने भेजा था- अमित शाह से हुई गलती, लोग बोले- ये हिंदुत्व और हिंदू को बचाने आए हैं

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह रामायण पर दिये गए बयान को लेकर लोगों के निशाने पर आ गए हैं। राजनैतिक दिग्गजों के साथ पूर्व आईएएस ने भी उनपर तंज कसा।

amit shah, up
वाराणसी में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि वीर सावरकर ने स्वभाषा और राजभाषा के लिए बहुत बड़ा काम किया। (फोटो: पीटीआई)

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह राजभाषा सम्मेलन के संबंध में बीते शुक्रवार को वाराणसी पहुंचे। कार्यक्रम के दौरान उन्होंने अपना हिंदी प्रेम जताया, साथ ही संबोधन के दौरान रामायण का भी जिक्र किया और कहा, “प्रभू श्रीराम भरत को भेजते हैं कि रावण विद्वत जन हैं और इन्होंने सुशासन के पाठ को जमीन पर उतारा है, सोने की लंका बनाई है। उससे तनिक जाकर सीख लो और उन्होंने बिना किसी झिझक के भरत को वह पाठ सिखाए थे।” अपने इस बयान को लेकर गृह मंत्री अमित शाह लोगों के निशाने पर आ गए हैं।

विपक्षी दल के नेताओं के साथ-साथ आम लोग भी गृह मंत्री अमित शाह के इस वीडियो पर खूब तंज कस रहे हैं। इतिहासकार पुरुषोत्तम अग्रवाल ने अमित शाह के वीडियो को साझा करते हुए लिखा, “अमल के स्थान पर व्यवहार शब्द का व्यवहार करें माननीय, सावरकरीय हिंदी में अमर को परकीय माना जाएगा। बाकी रामकथा का आपका ज्ञान तो प्रशंसनीय है।”

निखिल कुमार नाम के यूजर ने अमित शाह के वीडियो पर निशाना साधते हुए लिखा, “अमित शाह का रामायण ज्ञान…! भगवान राम ‘भरत को भेजे थे मरण शैय्या पर पड़े रावण से शिक्षा लेने’ जबकि बचपन से हम लक्ष्मण जानते थे! ये हिंदुत्व और हिंदू को बचाने आए हैं?”

मरिहान के पूर्व विधायक ललितेश पति त्रिपाठी ने अमित शाह के वीडियो पर तंज कसते हुए लिखा, “कुमार्ग पर पैर रखते ही शरीर में तेज तथा बुद्धि एवं बल का लेश भी नहीं रह जाता है- अरण्यकांड, श्रीरामचरितमानस।” एक यूजर ने गृह मंत्री के वीडियो पर चुटकी लेते हुए लिखा, “अमित शाह जी बहुत ही प्रतिभाशाली और ज्ञानवर्धक हैं, मुझे इस बारे में बिल्कुल भी नहीं मालूम था।”

पूर्व आईएएस सूर्य प्रताप सिंह ने अमित शाह के बयान पर चुटकी लेते हुए लिखा, “अब रामायण में ‘लक्ष्मण’ की जगह ‘भरत’ पढ़ें।” बता दें कि केंद्रीय गृह मंत्री ने अपने बयान में हिंदी का जिक्र भी किया था और कहा था, “वीर सावरकर न होते तो हम अंग्रेजी ही बोल रहे होते। उन्होंने स्वभाषा और राजभाषा के लिए बहुत बड़ा काम किया और हिंदी का शब्दकोष भी बनाया।”

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट