ताज़ा खबर
 

सेंसर बोर्ड चीफ पर फिल्‍ममेकर का हमला, कहा- निहलानी से पब्‍ल‍िसिटी लेने से बेहतर सड़क पर बेचूंगा अंडरवियर

फिल्‍ममेकर हंसल मेहता अपनी आने वाली फिल्‍म ''अलीगढ़'' के ट्रेलर को ए सर्टिफि‍केट दिए जाने से नाराज हैं।

हंसल मेहता ने कहा, ”ऐसे लोग अपनी किसी भी गलती को छिपाने के लिए ऐसी बातें कहते हैं। जब हैदराबाद यूनिवर्सिटी में एक स्‍टूडेंट ने आत्‍महत्‍या की तो इन लोगों ने छात्रों की तकलीफ को समझने के बजाए यह साबित करने की कोशिश की कि मृतक तो दलित ही नहीं था।”

फिल्‍ममेकर हंसल मेहता ने सेंसर बोर्ड चीफ पहलाज निहलानी पर जोरदार हमला बोला है। मेहता अपनी आने वाली फिल्‍म ”अलीगढ़” के ट्रेलर को ए सर्टिफि‍केट दिए जाने से नाराज थे। इस पर जब निहलानी ने कहा कि मेहता ऐसा पब्‍ल‍िसिटी हासिल करने के लिए कर रहे हैं तो फिल्‍ममेकर बरस पड़े। मेहता ने कहा कि वे पहलाज निहलानी से पब्‍ल‍िसिटी हासिल करने के बजाए सड़क पर अंडरवियर बेचना पसंद करेंगे।

हंसल मेहता ने कहा, ”ऐसे लोग अपनी किसी भी गलती को छिपाने के लिए ऐसी बातें कहते हैं। जब हैदराबाद यूनिवर्सिटी में एक स्‍टूडेंट ने आत्‍महत्‍या की तो इन लोगों ने छात्रों की तकलीफ को समझने के बजाए यह साबित करने की कोशिश की कि मृतक तो दलित ही नहीं था। उसी तरीके से मेरे मामले में भी बर्ताव किया जा रहा है। मैं क्‍यों परेशान हूं या मैं क्‍या कहना चाहता हूं, इसे समझने के बजाए यह कहा जा रहा है कि मैं सस्‍ती पब्‍ल‍िसिटी हासिल करने की कोशिश कर रहा हूं। अगर ऐसा है तो मेरी फिल्‍म को वो सर्टिफिकेट दे दें जो उसे देना चाहिए और मेरी पब्‍ल‍िसिटी हासिल करने की कोशिश को खत्‍म कर दें। इसके अलावा, अगर मुझे पहलाज निहलानी से पब्‍ल‍िसिटी हासिल करना होता तो मेरा इतने सालों तक फिल्‍म बनाना बेकार है। मैं निहलानी जी से पब्‍ल‍िसिटी हासिल करने के बजाए सड़क पर अंडरवियर बेचना पसंद करूंगा।

बता दें कि अलीगढ़ फिल्‍म में राजकुमार राव और मनोज वाजपेयी ने काम किया है। यह फिल्‍म प्रोफेसर श्रीनिवास रामचंद्र सिरस से जुड़ी सच्‍ची घटनाओं पर आधारित है। प्रोफेसर को समलैंगिक होने की वजह से उनकी नौकरी से निकाल दिया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App