ताज़ा खबर
 

तो क्या ट्विंकल ने इशारों में किया वामपंथियों की गिरफ्तारी का विरोध? देखिए क्या बोलीं अक्षय कुमार की वाइफ

यह मामला सुप्रीम कोर्ट तक जा पहुंचा। पुणे पुलिस इन पांचों लोगों को रिमांड पर लेना चाहती थी। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार (29 अगस्त) को एक अहम आदेश देते हुए कहा कि गिरफ्तार किए गए इन पांचों लोगों को अगली सुनवाई तक नजरबंद ही रखा जाएगा।

एक्ट्रेस ट्विंकल खन्ना।

अभिनेता अक्षय कुमार की पत्नी और एक्ट्रेस ट्विंकल खन्ना सोशल मीडिया पर खुलकर अपने विचार व्यक्त करती रहती हैं। कई बार ट्विंकल खन्ना राजनीतिक और सामाजिक मुद्दों पर अपनी राय रखती हैं जो चर्चा का विषय भी बन जाता है। हाल ही में उनका एक और ट्वीट सुर्खियों में आ गया है। ट्विंकल खन्ना ने ट्विटर पर कहा है कि ‘आजादी एक बार में खत्म नहीं होती…यह हिस्सों में खत्म होती है…एक बार में एक…एक एक्ट‍िविस्ट, एक लॉयर, एक राइटर और अंतत: हम में से हर एक।’

ट्विंकल खन्ना के इस ट्वीट को कोरेगांव-भीमा गांव में हुई हिंसा के बाद गिरफ्तार किये गये वामपंथी नेताओं को लेकर पुलिसिया कार्रवाई से जोड़ा जा रहा है। कई लोगों का कहना है कि ट्विंकल खन्ना ने इस ट्वीट के जरिए वामपंथी नेताओं पर की गई कार्रवाई का विरोध किया है। हालांकि इस ट्वीट के बाद अभिनेत्री ट्विंकल खन्ना ने अभी तक इसपर कुछ भी नहीं कहा है।

यह है पूरा मामला:
पिछले साल पुणे के निकट कोरेगांव-भीमा गांव में 31 दिसंबर को आयोजित एलगार परिषद के बाद दलितों और सवर्ण जाति के पेशवाओं के बीच हिंसक संघर्ष हुआ था। इस हिंसा की घटना की जांच कर रही पुलिस ने बीते 28 अगस्त को मुंबई, पुणे, गोवा, दिल्ली, तेलंगाना, छत्तीसगढ़ और हरियाणा में 10 जगहों पर छापेमारी की थी।

छापेमारी में पुलिस ने नक्सलियों से सांठगांठ रखना के शक और कोरेगांव-भीमा गांव लोगों को हिंसा के लिए उकसाने के आरोप में वामपंथी विचारक वरवर राव, सुधा भारद्वाज, अरुण परेरा, गौतम नौलखा, वेर्नोन गोंजाल्वेज समेत कुछ अन्य लोगों को गिरफ्तार किया था। इस गिरफ्तारी का कई वामपंथी विचारक, सामाजिक और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने विरोध किया। कांग्रेस समेत कई राजनीतिक दलों ने भी पुणे पुलिस की इस कार्रवाई का विरोध करते हुए इसे लोकतंत्र के लिए खतरा बतलाया है।

SC पहुंचा मामला:
यह मामला सुप्रीम कोर्ट तक जा पहुंचा। पुणे पुलिस इन पांचों लोगों को रिमांड पर लेना चाहती थी। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार (29 अगस्त) को एक अहम आदेश देते हुए कहा कि गिरफ्तार किए गए इन पांचों लोगों को अगली सुनवाई तक नजरबंद ही रखा जाएगा। जाहिर है अब पुणे पुलिस इन लोगों को रिमांड पर नहीं ले सकेगी। हालांकि पुणे पुलिस ने कहा है कि गिरफ्तार किए गए इन पांचों लोगों के खिलाफ उसके पास पुख्ता सबूत हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App