ताज़ा खबर
 

10 हजार सैनिकों से लड़ने वाले 21 सिख सैनिकों पर फिल्म बनाएंगे अक्षय कुमार, नाम होगा- केसरी

इसी युद्ध बैटल ऑफ़ सारागढ़ी पर अक्षय कुमार के अलावा अजय देवगन और रणदीप हुड्डा भी फिल्म बना रहे हैं।

Author October 11, 2017 12:09 AM
करण जौहर और अक्षय कुमार।

अक्षय कुमार जल्द ही बहुप्रतिक्षीत पीरियड वॉर फिल्म शुरू करने जा रहे हैं। 1897 में ब्रिटिश भारतीय सेना की एक छोटी सी टुकड़ी और अफगान सेना के बीच हुए बैटल ऑफ़ सारागढ़ी (सारागढ़ी का युद्ध ) पर ये फिल्म आधारित होगी। इस युद्ध में ब्रिटिश भारतीय सेना के सिर्फ 21 सिख जाबांजों 10 हजार की अफगान सेना का सामना किया था।। इस फिल्म को करण जौहर का धर्मा प्रोडेक्शन और अक्षय कुमार मिल कर प्रोड्यूस करेंगे। पहले इस फिल्म को प्रोडेक्शन में सलमान खान भी शामिल थे लेकिन अब ये फाइनल हो गया करण जौहर और अक्षय कुमार ही इस फिल्म को बनाएंगे। कमाल की बात ये ही कि अजय देवगन भी इस फिल्म को बना रहे हैं। माना जा रहा है अजय देवगन के पहले से ही इस फिल्म को बनाने की घोषणा करने के कारण सलमान इस फिल्म के निर्माण से पीछे हट गए हैं। वैसे अक्षय और अजय के आलवा इस युद्ध पर एक और बड़े निर्देशक फिल्म बना रहे हैं। मशहूर निर्देशक राजकुमार संतोषी भी इसी विषय पर फिल्म बना रहे हैं जिसमें रणदीप हुडा लीड रोल में हैं।

HOT DEALS
  • Apple iPhone 7 32 GB Black
    ₹ 41999 MRP ₹ 52370 -20%
    ₹6500 Cashback
  • Lenovo Phab 2 Plus 32GB Champagne Gold
    ₹ 17999 MRP ₹ 17999 -0%
    ₹0 Cashback

अक्षय कुमार और करण जौहर ने ट्विटर पर मंगलवार को इस फिल्म का ऐलान किया। दोनों मिल कर फिल्म को प्रोड्यूस करेंगे और अक्षय लीड रोल में होंगे। ये फिल्म 2019 में होली के मौके पर रिलीज़ की जायेगी। फिल्म का नाम केसरी रखा गया है। फिल्म का निर्देशन अनुराग सिंह करेंगे। वैसे ये पहली बार नहीं है जब किसी एक ही प्लॉट पर एक साथ बॉलीवुड में एक से ज्यादा फिल्में बन रही हों। साल 2002 करीब आधा दर्जन फिल्में भगत सिंह बनी थी हालांकि कोई भी फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कमाल नहीं दिखा पाई थी।
वहीं बैटल ऑफ़ सारागढ़ी (सारागढ़ी का युद्ध ) की बात करें तो ये युद्ध साल साल 1897 में ब्रिटिश भारतीय सेना और अफगानों के बीच नार्थ- वेस्ट फ्रंटियर (अब पाकिस्तान में) में युद्ध हुआ। सेना में सिख बटालियन के 21 सैनिक थे जिन्होंने 10 हजार की अफगान सेना का सामना किया था। युद्ध में सभी 21 सैनिक मारे गए थे लेकिन उनकी वीरता के चलते अफगान सेना आगे नहीं बढ़ पाई थी। इस युद्ध को सैन्य इतिहास में सबसे बहादुरी भरा कारनामा माना जाता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App