ताज़ा खबर
 

ये लड़ाई मेरी या अर्नब की नहीं, पूरे भारत की- बोलीं कंगना रनौत, पत्रकारों पर भी निकाली भड़ास

कंगना रनौत का कहना है कि देश में राष्ट्रवादी आवाज़े बिल्कुल कम हो रहीं हैं। उन्होंने कहा की अर्नब गोस्वामी इतने दिनों से जेल में हैं लेकिन उनके लिए कोई कुछ नहीं बोल रहा।

kangana ranaut, arnab goswami recent news, kangana ranaut on arnab goswamiकंगना रनौत का कहना है कि क्यों कोई जर्नलिस्ट गिल्ड अर्नब के बचाव में नहीं आ रहा

रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी की 2018 के एक मामले में गिरफ्तारी के बाद कंगना रनौत लगातार उनके पक्ष में अपनी आवाज़ उठा रहीं हैं। उन्होंने ट्विटर पर एक वीडियो के माध्यम से अपना गुस्सा जाहिर किया है और कहा है कि अर्नब की गिरफ्तारी पर कोई कुछ नहीं बोल रहा, पत्रकार वर्ग भी चुप है। उन्होंने अपने वीडियो के कैप्शन में लिखा, ‘ये लड़ाई सिर्फ़ अर्नब की या मेरी नहीं है, यह लड़ाई सभ्यता की है, भारतवर्ष की है।’

वीडियो की शुरुआत में कंगना ने पत्रकारों को लताड़ते हुए कहा, ‘मेरी एक फिल्म आई थी, ‘जजमेंटल है क्या’ उसके प्रेस कॉन्फ्रेंस में मैंने एक जर्नलिस्ट को कहा कि तुमने रानी लक्ष्मीबाई के बारे में बहुत ग़लत लिखा। थोड़ी बहस हुई, बहस टल गई और इवेंट अच्छे से गया। लेकिन चार पांच घंटो में बहुत सारे लोग इकट्ठे होते हैं जो खुद को जर्नलिस्ट बताते हैं, हज़ारों की तादात में और एक गिल्ड बनाते हैं जिसे सरकार की तरफ से कोई पहचान नहीं मिली है। वो ये घोषणा करते हैं कि कंगना की फिल्म को बैन कर दिया जाए।’

कंगना रनौत ने आगे कहा कि उसके पीछे कारण यह था कि सभी प्रोडक्शन हाउस ने उन्हें बैन कर दिया था बावजूद इसके उनकी उससे पहले वाली फिल्म बड़ी हिट साबित हुई थी। उन्होंने आगे कहा, ‘लोगों को डर हो गया कि इसकी राष्ट्रवादी आवाज़ ज़्यादा स्ट्रॉन्ग नहीं हो जाए और दूर तक न जाए। अर्नब गोस्वामी कितने दिनों से जेल में हैं, कोई जर्नलिस्ट गिल्ड नहीं बनी, किसी ने कुछ नहीं कहा, हाई कोर्ट खुद कह रहा है कि ये गलत है फिर भी कोई कुछ नहीं कह रहा।’

 

कंगना का कहना है कि देश में राष्ट्रवादी आवाजे बहुत कम हो गईं हैं। उन्होंने कहा, ‘देख रहे हैं आप देश में कितनी कम राष्ट्रवादी आवाजे हो गईं हैं और लॉबी कितनी स्ट्रॉन्ग है। मैं अमेरिका का उदाहरण देती हूं, आज ट्रंप सत्ता में नहीं हैं तो इसका सबसे ज़्यादा फ़ायदा होगा चीन को और वो देश जो आतंकवाद फैलाते हैं। इन विदेशी शक्तियों ने उनका वोटिंग सिस्टम ही हाईजैक कर लिया है पूरी तरह से। ये शक्तियां भारत को भी कंट्रोल कर रही हैं।’

कंगना ने अपनी बात खत्म करते हुए कहा, ‘हमारे यहां कुछ अच्छे लोग हैं, फिर भी हम उनके साथ संघर्ष कर रहे हैं। आपका जागना बहुत ज़रूरी है, सोचिए! जब भी कुछ खरीदते हैं, सोचिए कि वो राष्ट्रवाद में हेल्प करेगा या नहीं। किसी जर्नलिस्ट को देखते हैं, कोई किताब पढ़ते हैं तो सोचिए कि उनकी आइडियोलॉजी क्या है।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पैनलिस्ट ने अमिश देवगन पर लगाए अमित शाह के लिए बैटिंग करने के आरोप, देखें- क्या मिला ज़वाब
2 रिलीज हुआ अजय हुड्डा का गाना ‘पेरासिटामोल’, सालों बाद एक साथ नजर आए ‘बहु काले की’ फेम अजय हुड्डा और अनु कादियान
3 Bigg Boss 14: घर में दोबारा आ सकतीं हैं कविता कौशिक! शर्त- सेलेब्रिटी पैनल को करना होगा इंप्रेस
ये पढ़ा क्या?
X