ताज़ा खबर
 

एक्‍टर ने अपनी फोटो के साथ पोस्‍ट क‍िया खुद को ‘लीजेंड दादा साहब फाल्के पुरस्‍कार’ द‍िए जाने की बात, लोग करने लगे ट्रोल

अभिनेता गजेंद्र चौहान ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर बताया कि उन्हें ‘लीजेंड दादा साहेब फाल्के पुरस्कार 2021' से नवाजा गया है। उनकी इस पोस्ट पर तमाम यूजर्स उनकी खिंचाई करने लगे और प्रतिष्ठित दादा साहेब फाल्के पुरस्कार के नाम पर गफलत फैलाने का आरोप लगाया। 

गजेंद्र चौहान ने पुरस्कार के साथ अपनी तस्वीर ट्विटर पर शेयर की है (Photo-Gajendra Chauhan/Twitter)

टीवी के मशहूर सीरियल महाभारत में काम कर चुके जाने-माने अभिनेता गजेंद्र चौहान ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर अपनी एक तस्वीर साझा की। इस तस्वीर में चौहान एक ट्रॉफी के साथ नजर आए। उन्होंने लिखा कि उन्हें ‘लीजेंड दादा साहेब फाल्के पुरस्कार 2021′ से नवाजा गया है। इसके लिए आयोजकों को धन्यवाद भी दिया। हालांकि उनकी इस पोस्ट पर तमाम यूजर्स उनकी खिंचाई करने लगे और सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा दिये जाने वाले प्रतिष्ठित दादा साहेब फाल्के पुरस्कार के नाम पर गफलत फैलाने का आरोप लगाया।

गजेंद्र चौहान ने पुरस्कार के साथ अपनी तस्वीर शेयर करते हुए ट्वीट किया, ‘फिल्म इंडस्ट्री में मेरे काम के लिए आज मुंबई में मुझे लीजेंड दादा साहेब फाल्के पुरस्कार 2021 से सम्मानित किया गया। मेरे सभी शुभचिंतकों का शुक्रिया।’ गजेंद्र चौहान तस्वीर में जिस ट्रॉफी के साथ दिख रहे हैं उसके ऊपर ‘KCF’ लिखा हुआ है और वो दादा साहेब फाल्के पुरस्कार की ट्रॉफी से बिल्कुल अलग दिख रही है। दरअसल ये पुरस्कार कृष्ण चौहान फाउंडेशन की तरफ से दिया जाता है

गजेंद्र चौहान के इस घोषणा पर ट्विटर यूजर्स उन्हें खूब ट्रोल कर रहे हैं। आम आदमी पार्टी के सोशल मीडिया टीम से जुड़े कपिल ने लिखा, ‘ओरिजनल दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड होता है। ये जो आपने खरीदा है और यहां दिखा रहे हैं- लीजेंड दादा साहेब फाल्के पुरस्कार, ये फर्जी है।’

 

 

टीवी जर्नलिस्ट अशोक श्रीवास्तव ने गजेंद्र चौहान को पुरस्कार के लिए बधाई दी तो मुकेश नाम के यूजर ने उन्हें जवाब दिया, ‘भाई, जाली अवॉर्ड है, ओरिजनल दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड नहीं।’ फैक्ट चेकर पंकज जैन ने गजेंद्र चौहान के पुरस्कार की सच्चाई बताते हुए लिखा, ‘लोग आपको 2 रुपए वाले ट्रोल इसलिए नहीं बोलते। KCF – कृष्ण चौहान फाउंडेशन।’

राजेंद्र कुंभात नाम के एक यूजर ने गजेंद्र चौहान को व्यंगात्मक लहजे में जवाब दिया, ‘हनुमान यंत्र और लक्ष्मी यंत्र को बेचने वाले प्रचार वीडियो में आपके शानदार प्रदर्शन और पथप्रदर्शक अभिनय के लिए एक बहुत ही योग्य पुरस्कार।’

जे जोशी नाम के एक यूजर लिखते हैं, ‘कई पुरस्कार और फिल्म फेस्टिवल दादा साहेब फाल्के के नाम पर रखे गए हैं जिस वजह से कंफ्यूजन होता है। दादा साहेब फाल्के फिल्म फाउंडेशन अवॉर्ड्स और दादा साहेब फाल्के एक्सीलेंस अवॉर्ड्स- फिल्म समारोह निदेशालय द्वारा दिए जाने वाले पुरस्कार इससे अलग हैं।’

 

अभिजीत नाम के एक यूजर ने सूचना प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर को टैग करते हुए लिखा, ‘ये क्या बकवास है। ये सूचना प्रसारण मंत्रालय की तरफ से दिया जाने वाले दादा साहेब फाल्के पुरस्कार नहीं है। ये किसी फेक या किसी धार्मिक संस्थान ने दिया होगा। अनुराग ठाकुर जी ये हास्यास्पद है। ये आदमी दादा साहेब फाल्के पुरस्कार का नाम कैसे इस्तेमाल कर सकता है?’

सहदेव प्रसाद नाम के एक यूजर ने लिखा, ‘पर इस नाम का कोई अवॉर्ड भी है? दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड तो सुना था ये लेजेंड लगा कहीं कॉटलर अवॉर्ड की तरह घोटाला तो नहीं किया?’

 

बलराम मौर्य नाम के यूजर ने लिखा, ‘और इसी के साथ ही दादा साहेब फाल्के ने आत्महत्या कर ली। सिद्धार्थ सेतिया लिखते हैं, ‘द डेली गार्जियन के बाद लेजेंड दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड।’ आमिर नाम के के यूजर ने लिखा, ‘दुःखद.. दादा साहब फाल्के पुरस्कार की गरिमा को भारी क्षति पहुंची है।

अंकित पाल नाम के एक यूजर ने लिखा, ‘आप इस अवॉर्ड के लायक नहीं हैं। बस अपनी आंखें बंद कीजिए अगर खुद से सवाल पूछिए कि क्या मैं इस सम्मान के लायक हूं। जवाब है नहीं।’

आपको बता दें कि पहली बार दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड अभिनेत्री देविका रानी को दिया गया था। अमिताभ बच्चन, दिलीप कुमार विनोद खन्ना, मनोज कुमार, रजनीकांत आदि कलाकारों को इस सम्मान से नवाजा जा चुका है।

Next Stories
1 ‘अब मेरी जिंदगी ही बदल गई’ जेठालाल के नक्शेकदम पर चल रहीं ये एक्ट्रेस, TMKOC के पोपट लाल से लेकर डॉ हाथी के लिए कही ये बात
2 राजेश खन्ना को सुपरस्टारडम का ढंग आता था, हमें नहीं आता न सीखना चाहते हैं- जब धर्मेंद्र ने कही ये बात
3 मुझे सलमान खान जैसा कोई दूसरा लड़का चाहिए- शादी करने के सवाल पर बोली थीं एकता कपूर
ये पढ़ा क्या?
X