ताज़ा खबर
 

सलमान के पक्ष में बेबाक बोलने वालों पर भड़के ऋषि कपूर

मुंबई के 2002 हिट एंड रन केस में बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान की सजा की ख़बर सुन सिंगर अभिजीत भट्टाचार्य ने अपना गुस्सा सोशल साइट 'ट्विटर' के ज़रिए प्रकट किया। उन्होंने अपनी ट्विट...
ऋषि कपूर ने ट्विटर पर कहा: क्षमा करें लेकिन सलमान खान के चमचे ही उनका साइड ले रहे हैं। शुभचिंतक तो हम भी है, लेकिन तर्क तो सही दे।
वर्ष 2002 के हिट एंड रन मामले में सजा सुनाए जाने के बाद बॉलीवुड सलमान खान के साथ खड़ा दिखा वहीं गायक अभिजीत भट्टाचार्य और अभिनेता की दोस्त फराह खान अली ने बेघरों के लिए अपने ‘‘असंवेदनशील’’ टिप्पणियों से विवाद उत्पन्न कर दिया।
 वहीं सलमान के पक्ष में बेबाक बोलने वालों पर ऋषि कपूर भड़क उठे और उन्होंने भी ट्विटर पर लिखा: ‘क्षमा करें लेकिन सलमान खान के चमचे ही उनका साइड ले रहे हैं। शुभचिंतक तो हम भी है, लेकिन तर्क तो सही दे।’
अभिजीत ने कई ट्विट कर कहा कि सड़कें कारों और कुत्तों के लिए बनी हैं न कि लोगों के सोने के लिए। अभिनेता के समर्थन में अभिजीत और ज्वैलरी डिजाइनर फराह ने सलमान की दशा के लिए बेघरों को जिम्मेदार ठहराया। सोशल मीडिया ने उनकी टिप्पणियों को ‘‘संवेदनहीन’’ करार दिया।
अभिजीत ने ट्वीट किया, ‘‘बीइंग सलमान खान का समर्थन करें। पगडंडियां एवं सड़कें सोने के लिए नहीं बनी हैं, चालक या शराब की गलती नहीं है।’’
मशहूर गायक अभिजीत भट्टाचार्य ने ट्विटर पर सबको हैरान कर देने वाली टिप्पणी क्या की आप भी पढ़ें…

उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘कुत्ता रोड पर सोएगा तो कुत्ते की मौत मरेगा, सड़कें गरीब के बाप की नहीं हैं। मैं एक वर्ष बेघर रहा लेकिन कभी सड़क पर नहीं सोया।’’
एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा, ‘‘आत्महत्या अपराध है और फुटपाथ पर सोना भी अपराध है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मुंबई के रोड और फुटपाथ पर सोने का शौक है? आप अपने गांव में क्यों नहीं सोते हैं।’’
अभिजीत ने रात में ट्वीट से अपनी विवादास्पद टिप्पणियों को स्पष्ट करने का प्रयास करते हुए कहा, ‘‘कोई व्यक्ति को कुत्ते की मौत नहीं मरना चाहिए।’’
जयपुर के कार्यकर्ता सूरज सोनी ने झोटवारा थाने में लिखित शिकायत देकर गायक की टिप्पणी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की।
झोटवारा थाने के एसएचओ ने कहा, ‘‘हमने अभी तक प्राथमिकी दर्ज नहीं की है और जांच के लिए शिकायत रख ली है।’’
फराह ने ट्विटर के माध्यम से सरकार और बेघरों को निशाना बनाया और फुटपाथ पर सोने वाले लोगों और रेलवे लाइन पार करने वाले लोगों के बीच तुलना की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Asma
    May 6, 2015 at 4:46 pm
    इसको आज कल कोई काम नहीं मिल रहा..इसने सोचा फ्री की पब्लिसिटी ले ले कही से ...वैसे भी आज कल भी ......इंटरनेट चलने लगे..
    (0)(0)
    Reply
    1. A
      AJAY
      May 6, 2015 at 4:36 pm
      अगर सलमान खान की कार का एक्सीडेंट रोड पर हो जाता किसी सुनसान जगह पर और कोई कोई रोड पर सोने वाला आदमी सलमान को अस्पताल पहुचता तो शायद वो नहीं भगवान कहलाता .. क्यों अभिजीत जी ??
      (0)(0)
      Reply
      1. Anuj Gupta
        May 7, 2015 at 9:36 am
        गरीबी में जो जीता है बो सबको ही लगता है फ़िल्मी दुनिआ में हराम का पैसा है अभिजीत मौत किसी को कही भी आ सकती है
        (1)(0)
        Reply
        1. Jatish Dubey
          May 7, 2015 at 6:47 pm
          ये सब तो किसी घटनाक्रम के बारे में अलग अलग एच आर के अपने अपने डेवलपमेंट का इंटरव्यू (अंदर का चित्र ) निकलकर सामने आ रहा है. भाई का धंधा फिल्मो में काम करने का है. जिनमे दिल की आवाज और सपने बेचे जाते हैं. जिंदगियों की हकीकत अलग है. ऐसे माों में सबसे बड़ी हकीकत ड्राइवर (सुविधा के साधन को चलाने वाले) का अपना उस साधन के सञ्चालन के सन्दर्भ में विकास और तत्कालीन मानसिक स्थिति के साथ ही नगर के विकास की राजकीय व्यवस्था की स्थिति होती है. आज के भारत में नगर और उसकी व्यवस्था के निर्माण एवं सञ्चालन
          (0)(0)
          Reply
          1. कपिल
            May 7, 2015 at 10:28 am
            तो तुम भी हो जहाँ देखो मुह मरते रहते हो
            (0)(0)
            Reply
            1. V
              VIJAY LODHA
              May 7, 2015 at 11:50 am
              अभिजीत का बयान न्यायपालिका की भी अवमानना करने जैसा है. उनका 'सड़क गरीबों के बाप की नहीं है' जैसे बयान पर वे बताएं कि किसके बाप की है सड़क...
              (1)(0)
              Reply
              1. R
                Rajesh Kumar
                May 7, 2015 at 3:13 pm
                I प्रे गॉड तो हेल्प सलमान खान फॉर हिज बेस्ट सपोर्ट तो पुअर चैरिटी फियस , मई गॉड गिव हिम सूटेबल हेल्प एंड ग्रांट हिज बैल फॉर बेस्ट सपोर्ट तो आल थे पुअर.
                (0)(0)
                Reply
                1. R
                  Rajesh Kumar
                  May 7, 2015 at 3:20 pm
                  ई फील हे(सलमान) हैं'टी दोने अन्य मिस्टेक आईटी इस हप्पेनेड ओनली बी वे विथौत कनोइंग थिस है हप्पेंडेड एंड इफ आईटी इस उप तो गॉड ठाट विल एक्सक्यूसे हिम फॉर थिस पुअर मिस्टेक व्हिच इस हप्पेंडेड .
                  (0)(0)
                  Reply
                  1. R
                    RAJGUPTA
                    May 7, 2015 at 7:06 am
                    अभिजीत भैया ,लाखो गरीब ,बेघर लोग फूटपाथ पर सोते है तो क्या वे लोग हो गए ? कई फ़िल्मी कालाकर भी शुरू में ऐसी ही हालत में यहाँ आये थे मगर आज वे कहा से कहा पहुंचे है .अपनी सोच बदल ने की जरूरत है .जो मर गए थे .वो लोग भी इंसान ही थे ,
                    (0)(0)
                    Reply
                    1. R
                      RD Dadhich
                      May 7, 2015 at 4:46 pm
                      अभिजीत जी प्यादे से फर्जी हो गए हे। ठीक हे किसी को फुटपाथ पर सोने का अधिकार नहीं हे , पर किसी को शराब पीकर फुटपाथ पर वाहन चलाने का अधिकार भी नहीं हे। सोने वाला यदि हे तो दूसरी हरकत करने वाला भी ही हे। फर्क सिर्फ इतना हे की ,पहला गली का कचरा खाकर जिन्दा रहने की कोशिश कर रहा हे एवं दूसरा महंगे महंगे बिस्कुट व जिन्दा लाशों का मांस खाकर इतरा रहा हे।
                      (0)(0)
                      Reply
                      1. Load More Comments