ताज़ा खबर
 

‘ट्विटर भी अल्पसंख्यक है?’तीखे अंदाज में पूछने लगीं अंजना ओम कश्यप तो ओवैसी ने दिया ऐसा जवाब

गाजियाबाद केस को लेकर आजतक की डिबेट के दौरान एंकर और पत्रकार अंजना ओम कश्यप ने ओवैसी से तीखे सवाल पूछे।

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी का कहना है कि ‘बीजेपी चाहती है कि मोदी सरकार के खिलाफ कोई ट्वीट न किया जाए।’ गाजियाबाद केस को लेकर आजतक की डिबेट के दौरान एंकर और पत्रकार अंजना ओम कश्यप ने ओवैसी से तीखे सवाल पूछे। अंजना ने AIMIMअध्यक्ष से सवाल किया- ‘ओवैसी जी तो आप ये कह रहे हैं कि ‘ट्विटर भी अल्पसंख्यक’ है क्या? आप कह रहे हैं कि सिर्फ अल्पसंख्यकों के खिलाफ ही केस दर्ज कराया है सरकार ने? तो क्या ट्विटर का भी धर्म इस्लाम है क्या? ट्विटर पर भी केस हैं?’

इस पर ओवैसी सफाई देते हुए कहते है- ‘मैं ट्विटर की बात नहीं कह रहा हूं। ट्विटर का कोई धर्म नहीं होता। मगर ये सरकार ये चाहती है कि ट्विटर को उनके रंग में रंग कर उसे अपने जेब में रख लें। ये काम सरकार नहीं कर पा रही है। हम ये पूछना चाह रहे हैं कि जो आपने एफआईआर दर्ज की, उन लोगों पर, तीन नेशनल इंग्लिश न्यूज पेपर ने भी वही रिपोर्ट कैरी की। एक बड़ी न्यूज वेबसाइट है, उन्होंने भी कैरी की। उसमें आपको कोई दिक्कत नहीं है?’

इस पर अंजना ओम कश्यप कहती हैं- ‘पॉइंट नोटेड! लेकिन तफतीश तो पुलिस ही करेगी न सर? जिनके साथ ये मामला हुआ है वो खुद ही कह रहे हैं कि पुलिस पर हमें भरोसा है जो कुछ भी हुआ इस पर उन्होंने जानकारी दे दी है। आप इस सवाल का जवाब दीजिए, बात ट्विटर पर आती है। जब पालघर लिंचिंग हुआ उसके बाद उस वीडियो को जितने लोगों ने ट्वीट किया, उस वीडियो को मैंने भी डाला था। ट्विटर ने एक एक हैंडल से उस वीडियो को हटवाया। जो कि सही खबर थी, जो कि फेक वीडियो नहीं था। ऑथेंटिक, ट्रू वीडियो था। उसे हटवा दिया। और जिस वीडियो की कोई तफतीश नहीं हुई है उसे आप कह रहे हैं कि उसे ऑथेंटिक मान लिया जाए? ये तो फिर ट्विटर का भी दोहरा चरित्र है ना?’ ऐसे ही एक लाइव डिबेट के दौरान जब संबित पात्रा और रागिनी नायक के बीच बहस हो रही थी तब शो के एंकर कांग्रेस नेता पर भड़क गए।

अंजना ने आगे सवाल किया- ‘क्या इस तरह की आजादी अमेरिका में बैठे लोगों और उनकी पूरी एजेंसी को दी जा सकती है? कि वो भारत के कानून पर हंसे और इस तरह से उसका मजाक उड़ाएं? इस पर ओवैसी जवाब में कहते हैं- ‘मैडम मैं आपको सिर्फ एक ही बात बता रहा हूं, अमेरिका में ट्विटर पर वहां की सरकार ने इस तरह के रूल्स नहीं बनाए जो मोदी सरकार ने यहां बनाए।’

उन्होंने आगे कहा- ‘मैंने एक ट्वीट किया तो दिल्ली की स्पेशल सेल पुलिस जो टेरेरिज्म को देखती है ट्विटर के ऑफिस चली गई। हमारा बोलना ये है कि सरकार ने रूल्स बना कर भारत के संविधान के खिलाफ काम किया है। मुत्तुस्वामी जजमेंट के खिलाफ काम किया है। और ये चाहते हैं कि ट्विटर इन्हें रेप्रेजेंट करे इनके मुद्दे दबा दे। ट्विटर इनके खिलाफ यूज न किया जा सके।’

ओवैसी ने आगे कहा- ‘मुझे अगर ट्विटर से कभी मेल आता है तो कहते हैं कि हमें गवर्नमेंट ऑफ इंडिया से मिला है कि (टूलकिट) आपने फंला ट्वीट किया। मगर हम कुछ नहीं कर रहे हैं, आपको बता रहे हैं- या तो आप इसपर एक्शन ले लीजिए।’

ओवैसी ने सरकार से सवाल करते हुए पूछा- ‘मैं मोदी सरकार से पूछना चाहता हूं कि आप खुलकर बताइए ना अगर मैंने कुछ ऐसा ट्विटर पर डाला है तो क्यों नहीं बताते हैं।’ ओवैसी के ऐसा कहने के बाद अंजना ओम कश्यप कहती हैं- आपने मेरे सवाल का जवाब नहीं दिया।

Next Stories
1 अभद्रता और बदतमीजी से डरते हैं- लाइव डिबेट में बोले संबित पात्रा, कांग्रेस नेता पर भड़क गए एंकर
2 आप होते कौन हैं, हिम्मत कैसे हुई मुनव्वर राणा पर बात करने की- संबित पात्रा पर भड़कीं सुमैया राणा, कहा, ‘अनपढ़ इंसान’
3 पैसे नहीं चाहिए लेकिन ऐसी फिल्में मत करो- जब मनोज बाजपेई की फिल्म देख लड़कियां ने किए भद्दे कमेंट्स, बोल पड़ी थीं पत्नी
ये पढ़ा क्या?
X