चुनाव है इसलिये सरकार को धमकी दे रहे हैं आप? न्यूज एंकर ने किया सवाल तो राकेश टिकैत ने दिया ऐसा ज़वाब

एंकर चित्रा त्रिपाठी ने पूछा- चुनाव है इसलिए आप सरकार को धमकी दे रहे हैं? इसपर राकेश टिकैत ने भी बुलंद आवाज में जवाब दिया।

rakesh tikait photo, kissan andolan
किसान नेता राकेश टिकैत (फोटो सोर्स – पीटीआई)

आजतक के मंच पर एंकर चित्रा त्रिपाठी ने बीकेयू नेता राकेश टिकैत से एक सवाल कर लिया। एंकर ने पूछा चुनाव है इसलिए आप सरकार को धमकी दे रहे हैं? इसपर राकेश टिकैत ने भी बुलंद आवाज में जवाब दिया। चित्रा त्रिपाठी ने राकेश टिकैत से पूछा- ‘बुला-बुला कर मना रहे थे लेकिन आपकी नजर यूपी के इलेक्शन पर टिकी हुई थी।’ ऐसे में राकेश टिकैत ने जवाब में कहा- ‘किसान बैठा दरवाजे पर राजा ने दरवाजा नहीं खोला। राजा ने अपने महल के दरवाजे बंद कर रखे हैं। जब तक खोलकर बात न करे, समाधान न करे, जाएंगे नहीं।’

टिकैत की इस बात पर चित्रा त्रिपाठी पूछने लगीं, ‘राजा कौन है?’ तभी राकेश टिकैत बोले- ‘राजा तो राजा ही है। ये आदमी ठीक हैं, बीजेपी के आदमी हमारी बहुत मदद करते हैं। कंबल भी भिजवाएंगे, आलू भी भिजवाएंगे रात को। वे कह रहे हैं कि हटना नहीं है क्योंकि लाभ जो होगा वो सबको होगा।’ इस पर चित्रा त्रिपाठी ने सवाल किया- ‘बीजेपी के लोग आपको कंबल भी देते हैं, आलू भी देते हैं और कहते हैं टिके रहो?’ राकेश टिकैत बोले- ‘आंदोलन खत्म मत करना? हम किसी पार्टी के उसमें नहीं जाते।’

चित्रा त्रिपाठी ने आगे पूछा- ‘आप किसी पार्टी के उसमें नहीं जाते! आप बंगाल में चुनाव प्रचार करते हैं, नंदीग्राम में तो खुद मैंने देखा है मंच से आपका भाषण। मुजफ्फरनगर में आप बीजेपी को हराने की बात कर रहे थे। और आप कह रहे हैं कि राजनीति से कुछ लेना देना नहीं है।’

चित्रा त्रिपाठी ने आगे कहा- ‘आप धमकी भी दे रहे थे- कह रहे थे आप देखलो चुनाव है, अभी देखलो जो बातें मनवानी हो मनवालो। नहीं तो ये लोग सुनेंगे नहीं।’ चित्रा त्रिपाठी के इन सवालों का जवाब देते हुए राकेश टिकैत कहते हैं- ‘अब भी न कहें तो कब कहेंगे, धमकी ना है ये। ये रोज घोषणाएं कर रहे हैं तो क्या इसको चुनावी घोषणा कहें? चुनाव लड़ना इनका उद्देश्य है-धर्म है। तो लड़ो।’

इस डिबेट को देख कर ढेरों लोगों के रिएक्शन सामने आने लगे। आशीष चौहान नाम के एक यूजर ने कहा- ‘केंद्र सरकार MSP पर गारंटी कानून बनाए पर सिर्फ़ किसानों का हित नहीं आम जनता के हितों को भी ध्यान रख कर बनाए। इन दलाल नेताओं के मूंहमांगी गारंटी कीमत पर नहीं।’ सिड नाम के शख्स ने कहा- राकेश टिकैत को आम से खास बनाने में सिर्फ मीडिया का ही हाथ है। चौधरी नाम के शख्स ने कहा- ‘ये उगाने से अधिक उगाहने में मानते हैं।’

सुरेश कुमार नाम के यूजर ने कहा- ‘संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक शुरू नहीं हुई लेकिन राकेश टिकैत ने बयान दिया है आंदोलन जारी रहेगा और आज इसे बढ़ाने पर चर्चा होगी। भाई तो बैठक क्यों कर रहे हो?और ‘संयुक्त मोर्चा’नाम क्यों?और 40 नेताओं का नाम क्यों? कह दो हम सब राकेश टिकैत के अनुयायी हैं वो जो कहेंगे करेंगे।’

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।