ताज़ा खबर
 

योग का श्रेय चाहिए लेकिन योग की परिभाषा आपको पता नहीं- BJP प्रवक्ता पर भड़कीं रागिनी नायक, कहा- योगी नहीं, भोगी हैं

योग पर बहस के दौरान आज तक के डिबेट शो में कांग्रेस की प्रवक्ता रागिनी नायक और बीजेपी के प्रवक्ता गौरव भाटिया के बीच जमकर बहस हो गई जिसके बाद शो की एंकर अंजना ओम कश्यप को बीच बचाव करना पड़ा।

भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया व कांग्रेस प्रवक्ता रागिनी नायक ( फोटो सोर्स – सोशल मीडिया)

आज भारत में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मौके पर देश को संबोधित किया और योग के लिए एक नए मोबाइल ऐप M- Yoga के लॉन्च की भी जानकारी दी। योग के मुद्दे पर ही टीवी डिबेट पर भी बहस का आयोजन किया गया जहां आज तक के डिबेट शो में कांग्रेस की प्रवक्ता रागिनी नायक और बीजेपी के प्रवक्ता गौरव भाटिया के बीच जमकर बहस हो गई जिसके बाद शो की एंकर अंजना ओम कश्यप को बीच-बचाव करना पड़ा।

आज तक के डिबेट शो, ‘हल्ला बोल’ में रागिनी नायक ने गौरव भाटिया से कहा, ‘बार-बार कह रहे हैं योग योग..मुझे बता दें पतंजलि के आष्टांग योग आसन कौन कौन से हैं? चलिए गौरव भाटिया जी, आप कितने बड़े योगी हैं, इस पर भी सवाल हो जाए। अंतरराष्ट्रीय योग का श्रेय आपको चाहिए, योग की परिभाषा आपसे पूछ लो तो आपको पता नहीं। रामचरितमानस की चौपाई आपसे पूछ लो तो आप बगले झांकने लगते हैं। आप असल में योगी नहीं, भोगी और ढोंगी हैं।’

रागिनी नायक लगातार बोले जा रही थीं। इस बीच गौरव भाटिया ने भी उन पर निशाना साधा और बोले, ‘शरीर से भोगी और दिमाग से रोगी कौन है, हम सब जानते हैं। और राहुल गांधी के सामने साष्टांग आसन कौन से प्रवक्ता करते हैं, जिनके पास बिस्कुट उछाला जाता हैं, ये भी हम जानते हैं।’

 

अपने सवाल का ऐसा जवाब सुन रागिनी नायक भड़क गईं और बोलीं, ‘साष्टांग आसन मोदीजी के सामने कौन से प्रवक्ता करते हैं, ये बहस का विषय नहीं है। मैंने आपसे सवाल पूछा।’

 

दोनों प्रवक्ताओं को एक-दूसरे से भिड़ते देख शो की एंकर अंजना ओम कश्यप ने कहा, ‘पर्सनल नहीं, पर्सनल नहीं वरना मैं ऑडियो बंद कर दूंगी। पर्सनल रिमार्क नहीं वरना मैं..रागिनी जी..मैंने उनको भी बोला आपको भी बोल रही हूं, ये नहीं चलेगा। वापस टॉपिक पर आइए।’

 

गौरव भाटिया ने कहा, ‘मैं इनकी बात का उत्तर दे दूं। घबरा जाती हैं, बार-बार बीच में बोलने लगती हैं।’ गौरव भाटिया की ये बात सुन रागिनी नायक बोलीं, ‘घबराते हैं मेरे विरोधी और मेरे दुश्मन। ये पर्सनल क्यों होते हैं? मैं घबराती हूं या दहाड़ती हूं, ये जनता के विवेक पर छोड़ दीजिए।’

Next Stories
1 5-7 भाई-बहन वाले के मुंह से जनसंख्या नियंत्रण की बात अच्छी लगी- राज बब्बर ने यूं साधा निशाना
2 मेरे पति को गुजरे सिर्फ एक साल हुआ था और… जब करीना-सैफ की शादी पर शर्मिला टैगोर ने कही थी ये बात
3 उनके साथ भले छोटा रोल मिला लेकिन वो प्रसाद जैसा- अमिताभ बच्चन के साथ काम करने पर बोली थीं रेखा
ये पढ़ा क्या ?
X