ताज़ा खबर
 

चुनावी हमलाः योगी का कांग्रेस पर आतंकवाद और अलगाववाद को बढ़ावा देने का आरोप

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को यहां जनसंवाद कार्यक्रम में कहा कि कांग्रेस के घोषणापत्र से यह साफ हो गया है कि ये लोग देश में आतंकवाद व अलगाववाद को बढ़ावा देना चाहते हैं।

Author मेरठ | Updated: April 4, 2019 1:43 AM
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ। (Photo: PTI)

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को यहां जनसंवाद कार्यक्रम में कहा कि कांग्रेस के घोषणापत्र से यह साफ हो गया है कि ये लोग देश में आतंकवाद व अलगाववाद को बढ़ावा देना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सेना के अधिकार को खत्म कर देश को कहां ले जाना चाहती है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस लोभ-लुभावने वायदे कर लोगों को पंगु बनाने का काम कर रही है। योगी ने कहा कि जबकि आज दुनिया के देश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम से भारत को जानते हैं। ये बात एक अप्रवासी भारतीय सम्मेलन के दौरान साफ हुई। योगी ने कहा कि कुछ समय पहले बनारस में उन्होंने एक अप्रवासी भारतीयों का सम्मेलन किया था। इसमें करीब साढ़े सात हजार अप्रवासी भारतीयों ने हिस्सा लिया था। इन अप्रवासी भारतीयों ने बातचीत के दौरान बताया कि आज जब वह किसी भी देश में पासपोर्ट कार्यालय जाते है तो वहां का अधिकारी उनका पासपोर्ट देख कर पूछता है कि आप नरेंद्र मोदी के भारत से ताल्लुक रखते हैं।

योगी ने कांग्रेस के घोषणापत्र पर कहा कि देशद्रोह व आफस्पा कानून को रद्द कर कांग्रेस देश की सेना के अधिकारों को खत्म करने का काम कर रही है। कांग्रेस के घोषणापत्र ने आंतरिक व बाहरी सुरक्षा को लेकर उनकी सोच क्या है यह साफ कर दिया है। उन्होंने कहा कि 2004 से लेकर 2014 के बीच कश्मीर में पत्थर बाजी की घटनाओं में 36 हजार जवान घायल हुए थे जबकि भाजपा शासन के पिछले दो सालों में पत्थरबाजी की एक भी घटना नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि यूपीए के इसी कार्यकाल में देश में 270 जिले ऐसे थे जहां आतंकवाद नक्सलवाद व अलगाववाद के चलते हमारे सैकड़ों जवान मारे गए लेकिन हमारी सरकार के रहते हुए 270 में से 5 या 6 जिले ऐसे बचे है, जहां आतंकवाद, नक्सलवाद व अलगाववाद के चलते उन्हें अति संवेदशील श्रेणी में रखा गया है।

योगी ने कहा की जवाहर लाल नेहरू से लेकर राजीव गांधी तक गरीबी हटाओ की बात करते रहे, लेकिन गरीबी कहीं हटी नहीं। उन्होंने कहा कि गरीबी हटाने का जुमला उनका बहुत पुराना है। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी इतने लाचार थे कि उन्होंने कहा कि जो पैसा सरकार के जरिए भेजा जाता है उसका 10 रुपया ही गरीब तक पहुंचता है। लेकिन हमारी सरकार ने आजादी के बाद 37 हजार बैक खाते खुलवाकर उनको दिया जाने वाला पैसा सीधे उनके खातो में पहुंचाने का काम किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 सपा और बसपा के मतदाताओं को रिझाने में जुटीं कांग्रेस व भाजपा
2 हम सत्ता में रहे या विपक्ष में अब्दुल्ला की मंशा कभी पूरी नहीं होने देंगे
3 कटा किरीट सोमैया का टिकट, मुंबई उत्तर-पूर्व से मनोज कोटक प्रत्याशी