ताज़ा खबर
 

ममता बनर्जी ने कतरे भतीजे अभिषेक के पर! हारे प्रत्याशियों को पाला बदलने से रोकने के लिए उठाया यह कदम

Chunav Result 2019, Lok Sabha Election Results 2019: डायमंड हार्बर इलाके से जीतने वाले अभिषेक अब बांकुरा और पुरुलिया के ऑब्जर्वर की भूमिका से मुक्त किए गए हैं। बता दें कि इन दो जिलों में बीजेपी ने सभी 3 लोकसभा सीटों पर कब्जा जमाया है।

ममता बनर्जी। (PTI Photo/Swapan Mahapatra)

Election Results 2019: आम चुनाव 2019 के नतीजों से पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की पार्टी को जोरदार झटका लगा है। बीजेपी ने यहां चौंकाने वाला प्रदर्शन करते हुए 18 सीटों पर कब्जा जमाया है। बीजेपी को पिछले आम चुनाव में इस राज्य में महज 2 सीटों से संतोष करना पड़ा था। एक अंग्रेजी अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक, नतीजों के बाद तृणमूल चीफ ममता बनर्जी ने पार्टी में कई बड़े फैसले लिए हैं। उन्होंने हारे हुए प्रत्याशियों को नई जिम्मेदारियां दी हैं। वहीं, संगठन में अपने भतीजे अभिषेक बनर्जी की भूमिका को सीमित किया है। ममता ने हारे हुए 20 पार्टी उम्मीदवारों को लेकर कहा कि उनमें से अधिकतर ने अच्छी टक्कर दी लेकिन पूरी तरह ध्रुवीकरण वाले इस चुनाव में उन्हें शिकस्त झेलनी पड़ी।

Loksabha Election 2019 Results live updates: See constituency wise winners list 

द टेलिग्राफ ने तृणमूल सूत्रों के हवाले से बताया कि ये बदलाव बेहद जल्दी में बिना गंभीर चिंतन के किए गए हैं। बदलाव का मकसद हारे हुए कैंडिडेट्स के पाला बदलने की गुंजाइश को खत्म करना है। हालांकि, सूत्र का यह भी कहना है कि हारी हुई जगहों पर ही वहां के कैंडिडेट्स को प्रभारी बनाने से कुछ ज्यादा हासिल नहीं होगा। मसलन- झाड़ग्राम से हारे बीरबाह सोरेन को तृणमूल ने झाड़ग्राम का जिला अध्यक्ष बना दिया है। वहीं हुगली लोकसभा सीट से हारने वाले रत्न दे नाग को ममता ने वहीं के जिला अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी है। इसके अलावा, कन्हैया लाल अग्रवाल और अर्पिता घोष को साउथ और नॉर्थ दिनाजपुर का प्रमुख बनाया गया है। बता दें कि अग्रवाल को रायगंज जबकि घोष को बेलुरघाट से हार का सामना करना पड़ा था।

वहीं, डायमंड हार्बर इलाके से जीतने वाले अभिषेक अब बांकुरा और पुरुलिया के ऑब्जर्वर की भूमिका से मुक्त किए गए हैं। बता दें कि इन दो जिलों में बीजेपी ने सभी 3 लोकसभा सीटों पर कब्जा जमाया है। ममता ने कहा कि अभिषेक अब सभी के साथ कॉर्डिनेशन का काम देखेंगे। साथ ही वह मतदाता सूची के रिविजन का काम देखेंगे। बता दें कि मालदा नॉर्थ से चुनाव हारने वालीं तृणमूल नेता मौसम नूर को मालदा जिले का अध्यक्ष बनाया गया है। वहीं, बिशूनपुर से हारे श्यामल संत्रा को बिशूनपुर जिले की जिम्मेदारी सौंपी गई है। तृणमूल प्रमुख ने वेटरन नेता दिनेश त्रिवेदी को हारने के बाद उन्हें हुगली रिवर ब्रिज कमिश्नरर्स का चेयरमैन बना दिया है। त्रिवेदी बैराकपुर से चुनाव हार गए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X