ताज़ा खबर
 

उत्तराखंड: उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी होने के बाद भाजपा में बगावत की स्थिति

उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा के उम्मीदवारों की सूची जारी होने के बाद पार्टी में बगावत हो गई है।

Author देहरादून | January 19, 2017 4:13 AM
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा के उम्मीदवारों की सूची जारी होने के बाद पार्टी में बगावत हो गई है। कांग्रेस से आए बागी पूर्व विधायकों को टिकट देने का पार्टी में जबरदस्त विरोध हो रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हिदायत के बावजूद प्रदेश में भाजपा ने रिश्ते-नातेदारों को जमकर टिकट बांटे हैं। दो पूर्व मुख्यमंत्रियों में से एक की बेटी और एक केबेटे को टिकट दिया गया है। जिनमें से बीसी खंडूड़ी की बेटी को यमकेश्वर, विजय बहुगुणा के बेटे सौरभ बहुगुणा को सितारगंज और पूर्व मंत्री यशपाल आर्य के बेटे संजीव आर्य को नैनीताल से टिकट दिया गया है।  रुड़की में भाजपा के पूर्व विधायक सुरेश चंद्र जैन के समर्थकों ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह का पुतला फूंका और पार्टी के झंडों को आग के हवाले कर दिया। जैन समर्थकों ने भाजपा हाईकमान पर पार्टी के समर्पित कार्यकर्ताओं के साथ गद्दारी का आरोप लगाया। जैन समर्थकों ने कांग्रेस के बागी पूर्व विधायक प्रदीप बत्रा को टिकट देने का भी जबरदस्त विरोध किया है।

सुरेश चंद्र जैन ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि उनका टिकट काटकर एक दलबदलू को टिकट दिया जाना अप्रत्याशित है। उनके साथ अन्याय किया गया है। जैन ने कहा कि उनके पास सभी विकल्प खुले हैं। बताया जा रहा है कि जैन मुख्यमंत्री हरीश रावत के संपर्क में हैं। कांग्रेस जैन को रुड़की विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा सकती है। परंतु रुड़की से कांग्रेस के टिकट के दावेदार मनोहर लाल शर्मा जैन को टिकट देने का कड़ा विरोध कर रहे हैं। यदि कांग्रेस जैन को टिकट देती है तो मनोहर लाल शर्मा कांग्रेस से बगावत कर निर्दलीय चुनाव लड़ सकते हैं। इस तरह रुड़की में टिकट बटवारे को लेकर भाजपा और कांग्रेस दोनों में बगावत हो रही है। 2012 के विधानसभा चुनाव में प्रदीप बत्रा को कांग्र्रेस का टिकट दिए जाने से मनोहर लाल शर्मा ने कांग्रेस से बगावत कर विधानसभा चुनाव लड़ा था। शर्मा और जैन दोनों विधानसभा चुनाव हार गए थे। नरेंद्र नगर विधानसभा सीट से भाजपा के पूर्व विधायक ओमगोपाल रावत ने कांग्रेस के बागी पूर्व विधायक सुबोध उनियाल को भाजपा का उम्मीदवार बनाए जाने पर बगावत कर दी है। उन्होंने उनियाल के खिलाफ निर्दलीय चुनाव लड़ने का ऐलान किया है। रावत को कांग्रेस ने पार्टी का उम्मीदवार बनाए जाने का प्रस्ताव भेजा है।

रावत ने आरोप लगाया कि उत्तराखंड भाजपा के प्रदेश नेतृत्व ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और पार्टी के राष्टÑीय अध्यक्ष अमित शाह को गुमराह करके बागी कांग्रेसी पूर्व विधायकों को पार्टी का टिकट दिलवा दिया। पार्टी में टिकट बंटवारे को लेकर 18 से ज्यादा विधानसभा सीटों पर पार्टी में असंतोष है। 10 से ज्यादा सीटों पर भाजपा के पुराने समर्पित कार्यकर्ताओं ने बागी तेवर अपना कर चुनाव लड़ने का ऐलान किया है। केदारनाथ विधानसभा सीट में कांग्रेस बागी पूर्व विधायक शैलारानी रावत को भाजपा का टिकट मिलने से पार्टी की पूर्व विधायक आशा नौटियाल और उनके समर्थकों ने पार्टी नेतृत्व के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। आशा नौटियाल ने ऐलान किया कि वे जनता के बीच जाएंगी। इसी तरह भाजपा में यमकेश्वर, प्रतापनगर, नैनीताल, जसपुर, काशीपुर, डीडीहाट, अल्मोड़ा, कोटद्वार, सोमेश्वर, जागेश्वर, चंपावत, गंगोलीहाट, धारचुला, हरिद्वार ग्रामीण, चौबट्टाखाल, धानौल्टी, रानीखेत, डोईवाला, नरेंद्रनगर और रुड़की में भाजपाइयों ने टिकट बंटवारे को लेकर बगावत कर दी है।

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 उत्तराखंड चुनाव: हरीश रावत बोले, ‘दल-बदलुओं और परिवारवाद से भरी’ है भाजपा की पहली लिस्ट
2 “52 साल तक नागपुर में तिरंगा नहीं फहराया और आज देशभक्ति की बात करते हैं”
3 उत्तराखंड में प्रशांत किशोर को लाने पर भाजपा ने कहा: कांग्रेस को अपने नेताओं पर भरोसा नहीं
ये पढ़ा क्या?
X