ताज़ा खबर
 

उत्तराखंड: दावेदारों ने मुख्यमंत्री पद के लिए शुरू की गणेश परिक्रमा, पद के दावेदारों ने दिल्ली में डाला डेरा

उत्तराखंड में भाजपा में मुख्यमंत्री के पद के लिए भाजपा नेताओं में जबरदस्त जोर-आजमाईश चल रही है।

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में जीत का जश्न मनाते भाजपा कार्यकर्ता। ( Photo Source: PTI)

उत्तराखंड में भाजपा में मुख्यमंत्री के पद के लिए भाजपा नेताओं में जबरदस्त जोर-आजमाईश चल रही है। मुख्यमंत्री पद के दावेदारों ने होली खत्म होते ही दिल्ली में डेरा डाल दिया है। दावेदार अपने-अपने राजनीतिक आकाओं की गणेश परिक्रमा कर रहे हैं। भाजपा आलाकमान ने उत्तराखंड का मुख्यमंत्री चुनने के लिए विधायकों की राय जानने के वास्ते केंद्रीय पर्यवेक्षक नरेंद्र सिंह तोमर और भाजपा के राष्टÑीय महासचिव सरोज पांडे को पर्यवेक्षक के रूप में उत्तराखंड भेजने का फैसला किया है। 16 मार्च को देहरादून में भाजपा विधायक दल की बैठक होगी, जिसमें दोनों पर्यवेक्षक विधायकों से सूबे का मुख्यमंत्री बनाए जाने को लेकर चर्चा करेंगे और उनकी राय जानेंगे। इस बैठक में मुख्यमंत्री के चयन की प्रक्रिया पूरी करने के बाद दोनों पर्यवेक्षक आलाकमान को अपनी रिपोर्ट सौंपेंगे। और पार्टी हाईकमान मुख्यमंत्री के नाम का एलान करेगा। बताया जा रहा है कि वैसे तो पार्टी हाईकमान ने मुख्यमंत्री का नाम तय कर लिया है। देहरादून में 16 मार्च को होने वाली भाजपा विधायकों की बैठक में आलाकमान अपनी पसंद के मुख्यमंत्री के नाम पर पार्टी विधायकों की मुहर लगाने की औपचारिकता पूरी करेगा।

HOT DEALS
  • Honor 7X 64 GB Blue
    ₹ 15390 MRP ₹ 17990 -14%
    ₹0 Cashback
  • Honor 9 Lite 64GB Glacier Grey
    ₹ 16999 MRP ₹ 17999 -6%
    ₹2000 Cashback

मुख्यमंत्री पद की दौड़ में भाजपा नेताओं में सतपाल महाराज, त्रिवेंद्र सिंह रावत, प्रकाश पंत, अनिल बलूनी शामिल हैं। सतपाल महाराज चौबट्टाखाल, प्रकाश पंत पिथौरागढ़ और त्रिवेंद्र सिंह रावत डोईवाला विधानसभा सीट से चुनाव जीते हैं। राष्टÑीय स्वयं सेवक संघ की पसंद प्रकाश पंत और त्रिवेंद्र सिंह रावत बताए जा रहे हैं। त्रिवेंद्र सिंह रावत खाटी संघी हैं और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और संघ की पसन्द हैं। जबकि प्रकाश पंत संघ और पूर्व मुख्यमंत्री भाजपा सांसद भगत सिंह कोश्यारी की पसंद हैं। हरिद्वार के विधायक मदन कौशिक के समर्थकों ने भाजपा आलाकमान को एक ज्ञापन भेजकर कौशिक को मुख्यमंत्री बनाने की मांग की है।

कोश्यारी ने 2009 में प्रकाश पंत को भुवन चंद्र खंडूड़ी की जगह मुख्यमंत्री बनवाने के लिए प्रयास किया था। परंतु तब खंडूड़ी और रमेश पोखरियाल निशंक ने आपस में हाथ मिला लिया था। और गढ़वालवाद के झांसे में आकर खंडूड़ी ने पार्टी आलाकमान पर दबाव डाल कर निशंक को मुख्यमंत्री बनवा दिया। तब निशंक और खंडूडी के साथ लालकृष्ण आडवाणी और उनका खेमा पूरी तरह साथ था। और पंत मुख्यमंत्री बनने से रह गए थे। अब फिर से भगत सिंह कोश्यारी पंत को मुख्यमंत्री बनाने के लिए भागदौड़ कर रहे हैं। जहां भाजपा के दिग्गज नेता मुख्यमंत्री बनने के लिए जोर लगा रहे हैं। वहीं भाजपा के कई नेताओं ने दिल्ली में मंत्री बनने के लिए डेरा डाल रखा है। जो भाजपा नेता तीसरी और चौथी बार विधायक चुन कर आए हैं। वे मलाईदार विभागों में मंत्री बनने के लिए दिल्ली में डेरा डाले हुए हैं। उत्तर प्रदेश से लेकर उत्तराखंड की राजनीति का सफर तय करने वाले उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के विधानसभा चुनाव को मिला कर लगातार नौंवी बार विधायक चुने गए वरिष्ठ भाजपा नेता हरवंश कपूर, चौथी बार विधायक बार विधायक चुने गए यशपाल आर्य और मदन कौशिक, कुंवर प्रणव सिंह चैम्पियन तीसरी बार विधायक बने सुबोध उनियाल, गणेश जोशी और प्रेम चंद्र अग्रवाल मंत्री बनने की कतार में खड़े हुए हैं। वहीं लगातार दूसरी बार विधायक चुने गए और मुख्यमंत्री हरीश रावत को चुनाव हराने वाले स्वामी यतिश्वरानंद भी मंत्री बनने के लिए दिल्ली में डेरा डाले हुए हैं।

मदन कौशिक को मंत्री बनवाने के लिए केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और राष्टÑीय सह महामंत्री शिवकुमार, स्वामी यतिश्वरानंद को मंत्री बनवाने के लिए स्वामी रामदेव और भाजपा सांसद रमेश पोखरियाल निशंक, सुबोध उनियाल को मंत्री बनवाने के लिए विजय बहुगुणा आलाकमान पर दबाव बनाए हुए हैं। जबकि प्रेम चंद्र अग्रवाल को मंत्री बनाने के लिए केंद्रीय मंत्री उमा भारती और आदेश चौहान को मंत्री बनवाने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह जबरदस्त पैरवी कर रहे हैं।

विधायक दल की बैठक कल
16 मार्च को देहरादून में भाजपा विधायक दल की बैठक होगी, जिसमें दोनों पर्यवेक्षक विधायकों से सूबे का मुख्यमंत्री बनाए जाने को लेकर चर्चा करेंगे और उनकी राय जानेंगे। इस बैठक में मुख्यमंत्री के चयन की प्रक्रिया पूरी करने के बाद दोनों पर्यवेक्षक आलाकमान को अपनी रिपोर्ट सौंपेंगे। और पार्टी हाईकमान मुख्यमंत्री के नाम का एलान करेगा। बताया जा रहा है कि वैसे तो पार्टी हाईकमान ने मुख्यमंत्री का नाम तय कर लिया है। देहरादून में 16 मार्च को होने वाली भाजपा विधायकों की बैठक में आलाकमान अपनी पसंद के मुख्यमंत्री के नाम पर पार्टी विधायकों की मुहर लगाने की औपचारिकता पूरी करेगा।

दिल्ली: अरविंद केजरीवाल की चुनाव आयोग से मांग- "ईवीएम की जगह बैलेट पेपर से करवाए जाएं MCD चुनाव"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App