ताज़ा खबर
 

अमित शाह के करीबी त्रिवेंद्र सिंह रावत बन सकते हैं उत्तराखंड के मुख्यमंत्री, रहे हैं संघ के प्रचारक

उत्तराखंड में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) त्रिवेंद्र सिंह रावत को मुख्यमंत्री बना सकती है।

त्रिवेंद्र सिंह रावत आरएसएस के पूर्व प्रचारक हैं।

प्रदीप कौशल

उत्तराखंड में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) त्रिवेंद्र सिंह रावत को मुख्यमंत्री बना सकती है। वह पूर्व संघ प्रचारक हैं। इंडियन एक्सप्रेस को जानकारी मिली है कि रावत को इस बारे में पिछली रात ही सूचना दे दी गई है। शुक्रवार (17 मार्च) को होने वाली मीटिंग में उनको विधायक दल का नेता भी चुन लिया जाएगा। बीजेपी के सभी जीते विधायक शनिवार को मिलेंगे। इस मीटिंग में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, बीजेपी के महासचिव सरोज पांडे और राज्य के चुनाव प्रभारी केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और बीजेपी के प्रदेश इन चार्ज श्याम जाजू भी होंगे।

रावत का शपथ ग्रहण समारोह 18 मार्च को होना है। बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने कहा, ‘नए मुख्यमंत्री का शपथ ग्रहण समारोह 18 मार्च को तीन बजे होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पार्टी अध्यक्ष अमित शाह और कई सीनियर नेता इस मौके पर होंगे।’ भट्ट ने आगे बताया कि सभी विधायक 17 और 18 मार्च को देहरादून में मुलाकात भी करेंगे।

HOT DEALS
  • JIVI Revolution TnT3 8 GB (Gold and Black)
    ₹ 2878 MRP ₹ 5499 -48%
    ₹518 Cashback
  • Vivo V5s 64 GB Matte Black
    ₹ 13099 MRP ₹ 18990 -31%
    ₹1310 Cashback

56 साल के रावत धोईवाला विधानसभा सीट से आते हैं। उन्हें बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का करीबी भी माना जाता है। फिलहाल वह झारखंड बीजेपी के इंचार्ज हैं। वह 1983 से लेकर 2002 तक संघ से जुड़े रहे। उत्तराखंड राज्य में रावत के पास पहले क्षेत्र की जिम्मेदारी थी लेकिन बाद में उन्हें पूरे राज्य में काम करने को कहा गया। 2002 में वह सबसे पहले धोईवाला सीट से जीते। इसके बाद वह लगातार तीन बार वहां से विधायक रहे हैं। 2007-2012 के बीच वह कृषि मंत्री भी रहे। रावत के अलावा सतपाल महाराज और प्रकाश पंत का नाम भी सीएम पद के लिए सामने आया है।

उत्तराखंड में बीजेपी ने 57 सीटों पर जीत दर्ज की। वहीं कांग्रेस कुल 11 सीटों पर सिमट गई थी। विधानसभा चुनाव 2017 से पहले उत्तराखंड में कांग्रेस की सरकार थी। मुख्यमंत्री हरीश रावत इस चुनाव में दो सीटों से चुनाव लड़े थे और दोनों से ही हार गए थे।

 

देखिए संबंधित वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App