यूपी चुनावः मायावती ने न दिया भाव तो AIMIM का मुख्तार अंसारी को खुला ‘ऑफर’, प्रदेश अध्यक्ष बोले- क्या पहले दूध के धुले थे?

क्या आप मुख्तार अंसारी को शोषित बता रहे हैं? अली ने कहा, “हमारा पूरा समाज पिछड़ा है। सच्चर कमेटी की जो रिपोर्ट है, उसमें मुस्लिमों को कहा गया है…तो अंसारी भी मुसलमान हैं। अब आप उसमें एक और दो के पैमाने को माप लेंगे…आप बहुमत में देखिए न।”

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की प्रमुख मायावती ने गैंगस्टर से नेता बने मुख्तार अंसारी को उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले भाव नहीं दिया है। उन्होंने शुक्रवार (10 सितंबर, 2021) को ऐलान कर दिया कि अंसारी को मऊ से दोबारा पार्टी का टिकट नहीं दिया जाएगा। हालांकि, असदुद्दीन ओवैसी की एआईएमआईएम के यूपी चीफ की ओर से अंसारी को खुला ऑफर दे दिया गया। प्रदेश अध्यक्ष शौकत अली ने साफ संकेत दिए कि वह उन्हें लेने को राजी है, जबकि उन्हें टिकट भी दिया जा सकता है।

दरअसल, बसपा सुप्रीमो ने कहा कि बसपा अगले वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव में ‘बाहुबली’ और माफिया आदि को उम्मीदवार नहीं बनाने के प्रयास करेगी और इसी के साथ उन्होंने यह ऐलान (अंसारी को दोबारा टिकट न देना) किया। बता दें कि अंसारी बांदा जेल में बंद है और उसके खिलाई कई आपराधिक मामले पेडिंग हैं।

मायावती ने ट्वीट किया, ”बसपा का यूपी चुनाव में प्रयास होगा कि किसी भी बाहुबली व माफिया आदि को पार्टी से चुनाव न लड़ाया जाए। इसके मद्देनजर ही आजमगढ़ मण्डल की मऊ विधानसभा सीट से अब मुख्तार अंसारी का नहीं बल्कि बसपा के प्रदेश अध्यक्ष भीम राजभर का नाम तय किया गया है।” बसपा चीफ ने यह घोषणा मुख्तार के भाई सिगबतुल्लाह अंसारी के सपा में शामिल होने के कुछ दिन बाद की।

इसी बीच, हिंदी न्यूज चैनल एबीपी न्यूज को अली ने बताया, “चुनाव आयोग अगर अतीक अहमद को चुनाव लड़ने की इजाजत देता है, तब तो हम एक सियासी दल हैं। हम उन्हें क्यों न पार्टी में लेकर चुनाव लड़ाएं?” यह पूछे जाने पर कि मुख्तार अंसारी को भी ले लेंगे? जवाब आया- यकीनन ले लेंगे। यकीनन हम पहले दिन से यह बात कह रहे हैं कि हम लोगों का इस्तेमाल हुआ है। चाहे वह मुस्लिम विधायक हों या मुस्लिम सांसद। जब जरूरत पड़ी, तब बीएसपी ने इस्तेमाल किया। जब जरूरत पूरी हो गई, तो उठाकर फेंक दिया।

क्या आप मुख्तार अंसारी को शोषित बता रहे हैं? अली ने कहा, “हमारा पूरा समाज पिछड़ा है। सच्चर कमेटी की जो रिपोर्ट है, उसमें मुस्लिमों को कहा गया है…तो अंसारी भी मुसलमान हैं। अब आप उसमें एक और दो के पैमाने को माप लेंगे…आप बहुमत में देखिए न।”

मायावती ने मना कर दिया। आप बुला (अंसारी को) रहे हैं। आप कहीं कुछ गलत नहीं लगता है? यूपी एआईएमआईएम प्रमुख ने बताया- अतुल राय पर कौन सा मुकदमा है? 376 का है कि नहीं? वह दूध का धुला है? मुख्तार अंसारी पर कौन सा मुकदमा साबित हो गया? क्या वह पहले अपराधी नहीं थे, जब आपने उन्हें पहले टिकट दिया था? उनके भाई-बेटे को दिया, वह पहले अपराधी नहीं थे? आज क्यों अपराधी हो गए? पहले क्या दूध के धुले थे?

क्या आपका दल अंसारी को मऊ सीट से टिकट देगा? इस सवाल के जवाब में अली बोले- यकीनन। अगर अंसारी साहब यह चाहते हैं, तो पार्टी तैयार है।

पढें Elections 2021 समाचार (Elections News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट