ताज़ा खबर
 

उत्‍तर प्रदेश ओपिनियल पोल: पीएम मोदी के मुकाबले अख‍िलेश से ज्‍यादा संतुष्‍ट है जनता

राज्‍य के चुनावी इतिहास पर नजर दौड़ाएं तो कांग्रेस और भाजपा लंबे समय से सत्‍ता से दूर रहे हैं।

उत्‍तर प्रदेश में भाजपा-कांग्रेस के सामने नई पहचान बनाने की चुनौती होगी।

उत्‍तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के लिए ओपिनियन पोल्‍स और सर्वे का दौर शुरू हो गया है। एबीपी न्‍यूज के सर्वे में अखिलेश यादव पसंदीदा नेता बनकर उभरे हैं। सीएम के तौर पर मायावती यूपी के लोगों की दूसरी पसंद बताई जा रही हैं। सर्वे में अखिलेश को 28, मायावती को 21, योगी आदित्‍यनाथ को 4 फीसदी और मुलायम को 3 प्रतिशत लोगों ने अपनी पसंद बताया है। सर्वे में हिस्‍सा लेने वाले 34 फीसदी लोग सीएम अखिलेश से संतुष्‍ट हैं, वहीं 32 फीसदी ने पीएम मोदी के काम पर संतुष्टि जताई है।

75 फीसदी यादव वोटर सपा के साथ है। जबकि बीएसपी के साथ 4, भाजपा के साथ 14 और कांग्रेस के साथ 5 फीसदी यादव वोटर हैं। 54 फीसदी मुस्लिम सपा के साथ हैं, जबकि बसपा के साथ 14 प्रतिशत वोटर हैं। 9 फीसदी ने भाजपा को वोट देने की बात कही और 7 ने कांग्रेस का साथ देने को कहा। 12 फीसदी सवर्ण वोटर सपा, 8 फीसदी बसपा, 55 फीसदी भाजपा , 10 प्रतिशत कांग्रेस के साथ हैं। 56 फीसदी अन्‍य दलित बीएसपी, 16 फीसदी सपा, 13 फीसदी भाजपा तथा 11 प्रतिशत कांग्रेस के साथ हैं। जाटव में 7 फीसदी, बीएसपी 74 फीसदी, भाजपा 8 फीसदी और कांग्रेस को 4 फीसदी ने वोट देने की बात कही।

समाजवादी पार्टी के झगड़े के लिए 25 फीसदी लोग शिवपाल सिंह यादव को जिम्‍मेदार मानते हैं। जबकि सिर्फ 6 फीसदी लोग अखिलेश को जिम्‍मेदार मानते हैं। हालांकि यह सर्वे सपा के वर्तमान झगड़े से पहले कराया गया था।

यूपी के विधानसभा चुनाव में मुख्‍य मुकाबला सत्‍ताधारी समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, भारतीय जनता पार्टी और भारतीय राष्‍ट्रीय कांग्रेस के बीच होना है। राज्‍य के चुनावी इतिहास पर नजर दौड़ाएं तो कांग्रेस और भाजपा लंबे समय से सत्‍ता से दूर रहे हैं। 2014 के लोकसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी ने शानदार प्रदर्शन किया था, जिसे पार्टी इस चुनाव में भी बरकरार रखना चाहेगी।

समाजवादी पार्टी आंतरिक कलह से जूझ रही है। मुलायम और अखिलेश के बीच सत्‍ता संघर्ष की वजह से अभी तक साफ नहीं है क‍ि चुनाव में पार्टी अपने पूरे दमखम से उतर भी सकेगी या नहीं। मायावती लगातार रैलियां कर केंद्र और राज्‍य सरकार पर प्रहार कर रही हैं। मंगलवार को ही उन्‍होंने मुसलमानों और अगड़ी जातियों से विरोधियों के जाल में न फंसने की अपील की है। बीजेपी की तरफ से पीएम नरेंद्र मोदी ने कई ‘परिवर्तन र‍ैलियां’ की हैं और उन्‍हें आगे भी कई क्षेत्रों में जाना है। कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी पूरे यूपी में ‘किसान यात्रा’ निकाल चुके हैं और चुनाव प्रचार के लिए जल्‍द फिर से प्रदेश के दौरे पर जाएंगे।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017: किसके बीच है मुकाबला, कौन रहा है विजेता जानिये   

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App