ताज़ा खबर
 

उत्तर प्रदेश: तीसरे चरण में 61 फीसद पड़े वोट, कई दिग्गजों ने किया मतदान

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के तीसरे चरण के मतदान के दौरान रविवार को सत्ताधारी यादव परिवार का मनमुटाव फिर से उभरकर सामने आ गया।

Author नई दिल्ली | February 20, 2017 1:12 AM
पहले चरण में मतदान करने के लिए कतार में लगे मतदाता। (FILE PHOTO: PTI)

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के तीसरे चरण के मतदान के दौरान रविवार को सत्ताधारी यादव परिवार का मनमुटाव फिर से उभरकर सामने आ गया। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल सिंह यादव के काफिले पर पथराव हुआ और अन्य एक जगह पुलिस ने कथित रूप से लाठीचार्ज किया। दोनों घटनाओं को लेकर बिफरे शिवपाल यादव ने आरोप लगाया, ‘पुलिस और प्रशासन ने दबाव में आकर कार्रवाई की है। मुझे हराने की साजिश की गई है।’ रविवार को शिवपाल यादव के चुनाव क्षेत्र जसवंतनगर समेत प्रदेश के 12 जिलों की कुल 69 विधानसभा सीटों के लिए वोट डाले गए। मतदान का औसत पिछली बार की तुलना में 1.19 फीसद ज्यादा  है- 61.16 फीसद। वर्ष 2012 के विधानसभा चुनाव में इन इलाकों में 59.97 फीसद वोट पड़े थे और सपा को 55 सीटें मिली थीं।

समाजवादी यादव परिवार का गढ़ माने जाने वाले फर्रुखाबाद, हरदोई, कन्नौज, मैनपुरी, इटावा, औरैया, कानपुर देहात, कानपुर, उन्नाव, लखनऊ, बाराबंकी और सीतापुर जिलों में कई बूथों पर मतदान का समय समाप्त होने के बाद भी वोटिंग जारी रही। शाम पांच बजे तक मतदान केंद्र में आमद दर्ज कराने वाले सभी मतदाताओं को वोट डालने का मौका दिया गया।
इस चरण में 105 महिला उम्मीदवारों समेत कुल 826 उम्मीदवारों का भाग्य इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीनों में बंद हो गया। पहले चरण में 64 फीसद से अधिक और दूसरे चरण में 65 फीसद से ज्यादा मतदान हुआ था। चुनाव आयोग के मुताबिक, सीतापुर में सबसे ज्यादा 69. 50 फीसद मतदान हुआ। इसके अलावा बाराबंकी 68. 13 फीसद, कानपुर नगर में 67 फीसद, कन्नौज में 65. 6 फीसद, कानपुर देहात में 65 फीसद, फर्रुखाबाद में 61. 1 फीसद, इटावा, उन्नाव और औरैया में 61-61 फीसद, हरदोई और मैनपुर में 60-60 फीसद और लखनऊ में 58 फीसद मतदान हुआ।

हंगामा और आरोप-प्रत्यारोप

जसवंतनगर विधानसभा क्षेत्र के कतैयापुरा में मतदाताओं को धमकाए जाने की जानकारी मिलने पर वहां पहुंचे सपा उम्मीदवार शिवपाल सिंह यादव के काफिले पर भाजपा समर्थकों ने पथराव किया। इसके अलावा सपा की जसवंतनगर इकाई के नगर अध्यक्ष राहुल गुप्ता और उनके साथियों की प्राथमिक विद्यालय जसवंतनगर स्थित मतदान केंद्र के पास बैठने को लेकर पुलिस से झड़प हो गई। इस दौरान पुलिस ने उन पर कथित रूप से लाठीचार्ज किया। शिवपाल और प्रशासनिक अधिकारियों के बीच वार्ता के बाद स्थिति सामान्य हो गई। इन घटनाक्रमों को लेकर शिवपाल सिंह यादव ने तीखी प्रतिक्रिया जताई। अपने भतीजे अखिलेश यादव को आड़े हाथों लेते हुए वहां संवाददाताओं से उन्होंने कहा कि इस सीट से मुझे हराने की साजिश के तहत हंगामा कराया गया। पुलिस और प्रशासन किसी के दबाव में काम कर रहा है।
जसवंतनगर के अलावा कानपुर के गोविंदनगर में कांग्रेस के उम्मीदवार अजय कपूर के घर पर दबंगों ने पथराव किया। कन्नौज में बसपा और सपा समर्थकों के बीच फर्जी मतदान को लेकर मारपीट हुई। पुलिस ने हंगामाइयों को खदेड़ा। सीतापुर में एक फर्जी सुरक्षाकर्मी पकड़ा गया। कानपुर के सीसामऊ में कुछ मतदाताओं ने मतदाता सूची में नाम नहीं होने के विरोध में सड़क जाम की। जैदपुर विधानसभा क्षेत्र के टिकरिया मतदान केंद्र पर तैनात 44 वर्षीय मतदानकर्मी रामप्रसाद की दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई। हरदोई में एक होमगार्ड्स जवान कृष्णपाल की मौत हो गई। सीतापुर में माइक्रोआब्जर्वर बनाए गए गोविंद अग्निहोत्री की लखनऊ से सीतापुर जाने के रास्ते में मौत हो गई।

दिग्गजों ने किया मतदान

इस चरण के चुनाव में विभिन्न राजनीतिक दलों के दिग्गजों ने मतदान किया। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने लखनऊ में पीडब्लूडी दफ्तर में बने मतदान केंद्र पर वोट डाले। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और सपा के पूर्व प्रमुख मुलायम सिंह के पूरे परिवार ने अपने गृह जनपद इटावा के सैफई में मतदान किया। केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता कलराज मिश्र ने लखनऊ में गन्ना संस्थान में वोट डाला। उमा भारती ने लखनऊ में, कांग्रेस नेता और राज्यसभा सदस्य पीएल पुनिया ने बाराबंकी में वोट डाला। उन्नाव और लखनऊ दो जगह विवाह समारोह से आकर दूल्हा-दूल्हन ने मतदान किया।

मैदान में प्रमुख उम्मीदवार

तीसरे चरण में जो प्रमुख उम्मीदवार मैदान में थे, उनमें जसवंतनगर सीट से मुलायम के भाई शिवपाल सिंह यादव के अलावा, लखनऊ छावनी सीट से मुलायम की बहू अपर्णा (सपा) और मौजूदा विधायक रीता बहुगुणा जोशी (भाजपा), प्रदेश के कैबिनेट मंत्री अरविन्द सिंह गोप (रामनगर), राज्यमंत्री फरीद महफूज किदवई (कुर्सी), राज्यमंत्री राजीव कुमार सिंह (दरियाबाद), राज्यमंत्री नितिन अग्रवाल (हरदोई), बसपा छोड़कर भाजपा में गए बृजेश पाठक (लखनऊ मध्य), कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य पीएल पुनिया के बेटे तनुज पुनिया (जैदपुर सीट) शामिल हैं। इस चरण में इटावा सीट पर सबसे ज्यादा 21 प्रत्याशी मैदान में थे, जबकि बाराबंकी की हैदरगढ़ सीट पर सबसे कम तीन उम्मीदवार।

तीन जिलों के गावों में बहिष्कार

कुछ जगह ईवीएम में खराबी के चलते मतदान बाधित हुआ। हरदौई के पिहनी, सदर, फर्रुखाबाद के चैखंड शम्साबाद, मैनपुरी से ऐसी सूचना मिली। कन्नौज, कानपुर देहात और सीतापुर के कुछ इलाकों में ग्रामीणों ने चुनाव बहिष्कार किया। कानपुर देहात में रसूलाबाद विधानसभा के मऊ गांव के लोगों ने सरकार पर उपेक्षा का आरोप लगाते हुए बहिष्कार किया। इसी तरह मलीहाबाद के बिरहिमपुर गांव, औरैया के भरतौल और करकेपूर्वा, कन्नौज के पक्षी विहार स्थित इंदरागढ़ लाख बहोसी में अलग-अलग कारणों से चुनाव बहिष्कार किया गया।

 

बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने मायावती को बताया यूपी चुनावों का विजेता; बाद में कहा- "गलती से लिख दिया"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App