ताज़ा खबर
 

UP Elections 2017: मोदी को चुनौती दे चुके इस कांग्रेसी विधायक के लिए अखिलेश यादव नहीं करना चाहते प्रचार, 10 दिन में दो रोडशो कैंसिल

लोकसभा चुनावों में नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने वाले अजय राय कई मामलों में आरोपी हैं

Author Updated: February 28, 2017 11:47 AM
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव। (Photo Source: REUTERS)

वाराणसी में पिंडरा विधानसभा क्षेत्र के वर्तमान कांग्रेस विधायक अजय राय को इस विधानसभा चुनाव में पार्टी की इकलौती उम्मीद की किरण माना जा रहा है। लोकसभा चुनावों में नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने वाले अजय राय के लिए जहां कांग्रेस अपनी सहयोगी पार्टी समाजवादी के साथ मिलकर एक भव्य रोड शो करना चाहती है, वहीं सीएम अखिलेश यादव का ऐसा करने का बिलुकल मन नहीं है। जेल में बंद बाहुबली नेता मुख्तार अंसारी की पार्टी कौमी एकता दल को अपनी पार्टी में मिलाने से इंकार करने वाले अखिलेश अजय राय के प्रचार से भी बच रहे हैं। पिछले 10 दिनों में वाराणसी में होने वाले दो रोडशो कैंसिल किए जा चुके हैं।

दरअसल अजय राय भी कई मामलों में आरोपी हैं। राय को अक्टूबर 2015 में गिरफ्तार किया गया था, उनपर गंगा में मूर्ति विसर्जन की अनुमति की मांग कर रहे संतों की एक विरोध रैली के दौरान हिंसा और आगजनी से संबंधित केस से जुड़े होने के आरोप थे। वाराणसी पुलिस ने राय को नेशनल सिक्योरिटी एक्ट के तहत हिरासत में लिया था। हालांकि 6 महीने जेल में रहने के बाद अप्रैल 2016 में उन्हें बेल मिल गई थी।

कांग्रेस ने वाराणसी में अखिलेश यादव के साथ दो बार रोडशो करने की योजना बनाई, जिसपर कांग्रेस और समाजवादी पार्टी में रूट को लेकर सहमति नहीं बन पाई। पार्टी की ओर से रोडशो कैंसिल करने की वजह सुरक्षा कारणों के चलते प्रशासन की अनुमति नहीं मिल पाना बताया गया। हालांकि सूत्रों ने बताया कि इसकी वजह है कि अखिलेश यादल पिंडरा में अजय राय के लिए प्रचार नहीं करना चाहते। इसका असर यह हुआ कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने अकेले ही प्रचार करने का फैसला किया है। वह 2 मार्च को अजय राय के लिए पिंडरा के नेशनल इंटर कॉलेज ग्राउंड में जनसभा को संबोधित करेंगे। वाराणसी के आठ विधानसभा क्षेत्रों में से कांग्रेस और सपा चार चार सीटों पर लड़ रही हैं। पिंडरा के अलावा कांग्रेस ने वाराणसी दक्षिण, वाराणसी कैंट और वाराणसी नॉर्थ में अपने उम्मीदवार खड़े किए हैं।

अखिलेश यादव ने कहा, "मायावती बीजेपी के साथ कभी भी मना सकती हैं रक्षा बंधन"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 यूपी की इस सीट पर आरएसएस विचारधारा वाले संगठन ही कर रहे बीजेपी उम्मीदवार का विरोध, हिन्दू जागरण मंच ने बांटे पर्चे
2 उत्तर प्रदेश चुनाव: सत्ता की चाबी है गांव की मतदाता आबादी, 404 में से 299 सीटें ग्रामीण इलाके से
3 उत्तर प्रदेश चुनाव: सपा को महंगा पड़ सकता है ऐन वक्त पर टिकट काटना