ताज़ा खबर
 

उत्तर प्रदेश चुनाव: छठे चरण में 160 करोड़पति, 126 के खिलाफ आपराधिक मामले

सर्वाधिक अमीर तीन उम्मीदवार बसपा से हैं। इनमें शाह आलम उर्फ गुड्डु जमाली की कुल संपत्ति 118 करोड़ रुपये है।

Author नई दिल्ली | March 1, 2017 11:55 PM
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव। (Photo Source: REUTERS)

उत्तर प्रदेश में शनिवार को होने वाले छठे चरण के चुनाव में कुल 160 करोड़पति उम्मीदवार मैदान में हैं जबकि 126 उम्मीदवारों के खिलाफ आपराधिक मामले हैं। यूपी इलेक्शन वॉच और एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) की रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। रिपोर्ट में, छठे चरण के चुनाव में खड़े 78 सियासी दलों के सभी 635 उम्मीदवारों के हलफनामों का विश्लेषण किया गया। बुधवार (1 मार्च) को जारी रिपोर्ट में बताया गया है कि 635 उम्मीदवारों में से 160 करोड़पति हैं। रिपोर्ट के मुताबिक बसपा के 49 उम्मीदवारों में से 35, भाजपा के 45 उम्मीदवारों में से 33, सपा के 40 उम्मीदवारों में से 28, कांग्रेस के 10 उम्मीदवारों में से छह, रालोद के 36 उम्मीदवारों में से आठ और 175 निर्दलीयों में से 23 ने एक करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति घोषित की है। इस चरण में उतरने वाले प्रत्येक उम्मीदवार के पास औसतन 1.59 करोड़ रुपये की संपत्ति है।

सर्वाधिक अमीर तीन उम्मीदवार बसपा से हैं। इनमें शाह आलम उर्फ गुड्डु जमाली की कुल संपत्ति 118 करोड़ रुपये है, उनके बाद विनय शंकर हैं जिनकी कुल संपत्ति लगभग 67 करोड़ रुपये है और तीसरे हैं एजाज अहमद जिनकी संपत्ति लगभग 52 करोड़ रुपये है। एडीआर के मुताबिक कुल उम्मीदवारों में से 126 ने अपने खिलाफ आपराधिक मामले होने की जानकारी दी है। 109 उम्मीदवारों के खिलाफ हत्या, हत्या का प्रयास, अपहरण, महिलाओं के खिलाफ अपराध जैसे गंभीर आपराधिक मामले हैं। रिपोर्ट के मुताबिक 229 उम्मीदवारों ने पांचवी और बारहवीं कक्षा तक पढ़ाई की है। 338 उम्मीदवार स्नातक या इससे अधिक पढ़े लिखे हैं। 38 ने खुद को साक्षर बताया है जबकि तीन निरक्षर हैं। इस चरण में 60 महिला उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतर रही हैं।

उत्तर प्रदेश चुनाव: छठे चरण में 49 सीटों पर डाले जाएंगे वोट, 635 प्रत्याशियों की किस्मत दांव पर

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के छठे चरण में सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के लोकसभा क्षेत्र आजमगढ़ समेत पूर्वांचल के सात जिलों की 49 सीटों के लिये प्रचार कार्य गुरुवार (2 मार्च) को थम जाएगा। इस चरण में भाजपा के हिन्दुत्ववादी नेता सांसद महन्त आदित्यनाथ के संसदीय निर्वाचन क्षेत्र गोरखपुर और माफिया-राजनेता मुख्तार अंसारी के क्षेत्र मऊ तथा केन्द्रीय मंत्री कलराज मिश्र के संसदीय क्षेत्र देवरिया में चुनाव पर खास नजर रहेगी। छठे चरण में नेपाल से सटे महराजगंज और कुशीनगर के साथ-साथ गोरखपुर, देवरिया, आजमगढ़, मऊ तथा बलिया जिलों की 49 सीटों पर आगामी चार मार्च को मतदान होगा। इस चरण में 77 लाख 84 हजार महिलाओं समेत करीब एक करोड़ 72 लाख मतदाता कुल 635 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला कर सकेंगे। इसके लिये 17 हजार 926 मतदान केंद्र बनाये गये हैं।

वर्ष 2012 में इन सीटों में से सपा ने 27, बसपा ने नौ, भाजपा ने सात तथा कांग्रेस ने चार सीटें जीती थी, जबकि दो सीटें अन्य के खाते में गयी थीं। इस चरण में सबसे ज्यादा 23 उम्मीदवार गोरखपुर सीट पर मैदान में हैं, जबकि सबसे कम सात उम्मीदवार मऊ जिले की मोहम्मदाबाद गोहना सीट से किस्मत आजमा रहे हैं। सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के संसदीय निर्वाचन क्षेत्र आजमगढ़ में विधानसभा की 10 सीटें हैं। वर्ष 2012 में हुए पिछले विधानसभा चुनाव में सपा ने इनमें से नौ सीटें जीती थीं। हालांकि मुलायम ने इस बार आजमगढ़ में एक भी रैली को सम्बोधित नहीं किया है। छठे चरण में सांसद आदित्यनाथ के अलावा केन्द्रीय सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग मंत्री कलराज मिश्र की प्रतिष्ठा भी दांव पर होगी।

अखिलेश यादव ने माना- “कांग्रेस के साथ गठबंधन पारिवारिक झगड़े के कारण किया”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App