ताज़ा खबर
 

उत्तर प्रदेश चुनाव: छह पार्टियों के महागठबंधन, सीटों के बंटवारे का फार्मूला तय

फार्मूला कांग्रेस को रास आ रहा है। कांग्रेस प्रभाव वाले इलाकों अमेठी, रायबरेली और सुल्तानपुर में समाजवादी पार्टी 11 सीटें दे रही है।

Author नई दिल्ली | January 18, 2017 03:48 am
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (बाएं) और राहुल गांधी।

अखिलेश यादव के नेतृत्व में बनने वाले कांग्रेस-समाजवादी पार्टी समेत छह पार्टियों के महागठबंधन के आकार को अंतिम रूप दे दिया गया है। पार्टियों के बीच उत्तर प्रदेश के किन इलाकों में कितनी सीटों का विभाजन होगा, इसका फार्मूला भी तय कर लिया गया है। कांग्रेस महासचिव गुलाम नबी आजाद, प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर और अशोक गहलोत के साथ अखिलेश यादव के दूत के रूप में रामगोपाल यादव और नरेश अग्रवाल ने मुलाकात की। सपा और कांग्रेस- दोनों पार्टियां अब अपने-अपने उम्मीदवारों की सूची तैयार कर रही हैं। इसके बाद महागठबंधन का औपचारिक एलान कर दिया जाएगा।

संभावित महागठबंधन में कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के अलावा राष्ट्रीय लोक दल, राष्ट्रीय जनता दल, संजय निषाद की निषाद पार्टी, महान दल, पीस पार्टी, अपने दल (अनुप्रिया पटेल की मां की अगुआई वाला धड़ा) और जनता दल (एकीकृत) शामिल होंगे। उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष राज बब्बर के अनुसार, ‘उत्तर प्रदेश में हम जीत के लिए लड़ेंगे। उसके बाद 2019 के चुनाव में केंद्र में भाजपा को आने से रोकने का एजंडा लेकर हम चल रहे हैं।’ सीटों पर उम्मीदवारों के नाम तय कर लेने के बाद अगले हफ्ते कांग्रेस और समाजवादी पार्टी अपने-अपने घोषणापत्र जारी करेंगे। इससे पहले गठबंधन के स्वरूप का औपचारिक एलान कर दिया जाएगा। औपचारिक एलान के पहले राहुल गांधी और अखिलेश यादव की बैठक होगी। यह बैठक अगले दो-एक दिनों में होनी है।
मंगलवार की बैठक में जो फार्मूला आया, उसके अनुसार उत्तर प्रदेश की कुल 403 विधानसभा सीटों में से समाजवादी पार्टी ने कांग्रेस के लिए 103 सीटें छोड़ी हैं। इन 103 सीटों में से 89 पर कांग्रेस के उम्मीदवार चुनाव लड़ेंगे। जबकि, 14 सीटों पर समाजवादी पार्टी के नामित उम्मीदवार कांग्रेस के चुनाव चिह्न पर मैदान में उतरेंगे। राष्ट्रीय लोकदल को 20 सीटें मिली हैं। हालांकि, रालोद के अजीत सिंह 28 सीटों की मांग कर रहे हैं।

यह फार्मूला कांग्रेस को रास आ रहा है। कांग्रेस प्रभाव वाले इलाकों अमेठी, रायबरेली और सुल्तानपुर में समाजवादी पार्टी 11 सीटें दे रही है। कोशिश यह भी है कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जाट बहुल इलाकों में वोटों का विभाजन रोका जाए। कांग्रेस और सपा मिल कर मुसलिम वोटों में विभाजन रोकेंगे। समाजवादी पार्टी 403 सीटों में से 275 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। महागठबंधन को लेकर कांग्रेस, सपा, राष्ट्रीय लोकदल और अन्य दलों के नेताओं के बीच कई दौर की बातचीत हुई है। अखिलेश यादव, राहुल गांधी और जयंत चौधरी संपर्क में हैं। दूसरी ओर, राहुल गांधी की बहन प्रियंका गांधी और डिंपल यादव भी बातचीत करती रही हैं। युवा और महिला मतदाताओं पर खास नजर है। उत्तर प्रदेश में इन नेताओं की साझा सभाओं को लेकर पोस्टर-बैनर लगने लगे हैं। हालांकि, अभी कार्यक्रमों को अंतिम रूप दिया जाना बाकी है।

 

समाजवादी पार्टी में क्‍यों पड़ी दरार? क्‍यों बिगड़े मुलायम-अखिलेश के रिश्‍ते? जानिए हर सवाल का जवाब

.

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App