ताज़ा खबर
 

अखिलेश पर ताबड़तोड़ बरसे मुलायम, कहा- जो बाप का नहीं हो सका वो किसी का क्या होगा

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव मेंं करारी हार के बाद समाजवादी पार्टी के संरक्षक व संस्थापक मुलायम सिंह यादव ने अपने बेटे व पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव पर पहली बार बड़ा हमला बोलते हुए कहा कि जो अपने बाप का न हो सका, वो किसी का नहीं हो सकता।

Author इटावा/मैनपुरी | April 2, 2017 00:35 am
अखिलेश पर सपा नेता ने साधा निशाना।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव मेंं करारी हार के बाद समाजवादी पार्टी के संरक्षक व संस्थापक मुलायम सिंह यादव ने अपने बेटे व पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव पर पहली बार बड़ा हमला बोलते हुए कहा कि जो अपने बाप का न हो सका, वो किसी का नहीं हो सकता। मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश को भड़काने के लिए दो लोगों को जिम्मेदार ठहराया है लेकिन किसी का भी नाम नहीं लिया । मुलायम सिंह यादव शनिवार को मैनपुरी में समाजवादी पार्टी के बुर्जग नेता और उत्तर प्रदेश के पूर्व पैक्सपैड विभाग के चैयरमैन तोताराम यादव के एक होटल का उद्घाटन करने के दरम्यान सभा को संबोधित कर रहे थे। मुलायम सिंह यादव ने कहा कि उनका इतना अपमान कभी नहीं हुआ था। मैंने अखिलेश को मुख्यमंत्री बनाया लेकिन उसने मेरी भी नहीं सुनी। मुलायम ने भारतीय राजनीति का उदाहरण देते हुए कहा कि किसी भी बाप ने अपने रहते हुए अपने बेटे को मुख्यमंत्री नहीं बनाया लेकिन मैंने ऐसा किया। उन्होंने छोटे भाई शिवपाल सिंह यादव की भी बेइज्जती की बात करते हुए कहा, बताओ अखिलेश ने अपने चाचा को ही मंत्री पद से हटा दिया। अखिलेश यादव ने अपने उस चाचा को ही मंत्री पद से हटा दिया था, जिसने उसको जीवन की सही राह दिखाई।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे मुलायम सिंह ने कहा कि कन्नौज मेंं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान का उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव मेंं बड़ा असर हो गया। मोदी ने कहा था कि जो बेटा अपने बाप का नहीं हो सकता है, वह आपका क्या होगा। अखिलेश यादव को लेकर मुलायम सिंह यादव ने शनिवार को कहा कि यह बात सही है। जो अपने बाप का नहीं हो सकता वो किसी का नहीं हो सकता। दरअसल विधानसभा चुनाव के पहले सपा परिवार मेंं कलह हो गई थी। पार्टी की कमान अखिलेश ने अपने हाथों मेंं ले ली थी। मुलायम को सिर्फ पार्टी का सरंक्षक बनाया गया था। मुलायम ने पार्टी के लिए कैम्पेन भी नहीं किया था। इस चुनाव में बीजेपी को 325 सीट और सपा को सिर्फ 47 सीट मिली हैं।

मुलायम यही पर नहीं रुके, उन्होंने कहा कि अखिलेश के पास बुद्धि है पर वोट नहीं है। अखिलेश ने कांग्रेस से गठबंधन किया जिसने मुझ पर तीन बार जानलेवा हमला करवाया था। मैं अब अखिलेश के भरोसे नहीं जनता के भरोसे पर रहूंगा। चुनाव से ठीक पहले अखिलेश यादव ने मुलायम सिंह यादव को राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से हटा दिया था। इसकी वजह अखिलेश ने यह बताई थी कि कुछ लोग पार्टी को हराना चाहते हैं और मुलायम से गलत निर्णय लेने को कहते हैं। साथ ही अखिलेश ने अपने चाचा शिवपाल यादव को मंत्रिमंडल से तो मुलायम के करीबी अमर सिंह को पार्टी से ही निष्कासित कर दिया था। इसके बाद मुलायम ने अखिलेश से नाराजगी के चलते चुनाव प्रचार से भी खुद को दूर रखा था ।

उत्तर प्रदेश मेंं सपा को मिली करारी शिकस्त के बाद सपा के मुखिया मुलायम सिंह ने बयान देकर सभी को चौंका दिया है। दरअसल काफी समय से मुलायम और अखिलेश मेंं चल रहे झगड़े को लेकर मुलायम सिंह यादव ने पहली बार खुलकर अपनी भड़ास निकाली है। मुलायम सिंह यादव ने अयोध्या मुददे पर भी अपने तीर चलाए। उन्होंने कहा कि मेरी भी कोशिश रही थी कि अयोध्या मामले को सुलझाने की। अब तो सुप्रीम कोर्ट के सिवा और कोई पार्टी अयोध्या मामला सुलझा नहीं सकती

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App