ताज़ा खबर
 

‘साइकिल’ मिलने पर सुप्रीम कोर्ट पहुंचा अखिलेश गुट, कहा – हमारा पक्ष सुने बिना कोई फैसला मत दीजिएगा

अखिलेश यादव गुट को साइकिल मिलने के बाद अखिलेश के चाचा रामगोपाल यादव ने सुप्रीम कोर्ट में केवियट (विरोध पत्र) दाखिल किया।

मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव।

अखिलेश यादव गुट को साइकिल मिलने के बाद अखिलेश के चाचा रामगोपाल यादव ने सुप्रीम कोर्ट में केवियट (विरोध पत्र) दाखिल किया। उसमें रामगोपाल ने सुप्रीम कोर्ट से गुजारिश की है कि वह अखिलेश दल का पक्ष सुने बिना कोई फैसला ना दें। केवियट में कहा गया, ‘अगर दूसरे पक्ष के लोग, मुलायम सिंह यादव, शिवपाल यादव किसी भी तरह की दलील लेकर सुप्रीम कोर्ट आते हैं तो सुप्रीम कोर्ट हमारे दल (अखिलेश गुट) को सुने बिना कोई ऑर्डर ना दे।’ इससे पहले सोमवार (16 जनवरी) को मुलायम सिंह यादव के गुट को चुनाव आयोग से करारा झटका मिला था। चुनाव आयोग ने अपना निर्णय अखिलेश के पक्ष में सुनाते हुए उन्हें साइकिल देने का ऐलान किया था।

दरअसल, अखिलेश और मुलायम दोनों ही अपने आपको असली समाजवादी पार्टी घोषित करने के लिए चुनाव आयोग पहुंचे थे। अखिलेश का कहना था कि उनके पास आधे से कहीं ज्यादा विधायकों का समर्थन है इसलिए उनकी समाजवादी पार्टी असली है। वहीं मुलायम ने कहा था कि वह राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं और उनके बिना लिए गए सारे फैसलों का कोई मतलब नहीं है।

अखिलेश के पास 228 में से 205 विधायकों, 68 में से 56 एमएलसी, 24 में से 15 सांसदों का समर्थन है। 46 राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्यों में से 28 का समर्थन भी उन्हें ही है। वहीं पार्टी के 5,731 डेलिगेट्स में से 4,716 उनके साथ हैं।

यूपी में सात चरणों में विधानसभा चुनाव होने हैं। तारीखों का ऐलान पहले ही किया जा चुका है। यूपी में कांग्रेस और समाजवादी पार्टी का गठबंधन होगा। इसका ऐलान मंगलवार (17 जनवरी) को किया गया। कांग्रेस की सीएम पद की उम्मीदवार शीला दीक्षित ने भी बयान दिया कि वह अखिलेश के लिए सीएम पद की दावेदारी छोड़ देंगी क्योंकि सीएम पद से दो दावेदार नहीं हो सकते।

इस वक्त की बाकी ताजा खबरों के लिए क्लिक करें

देखिए संबंधित वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App