ताज़ा खबर
 

मोदी ने दिखाया अखिलेश सरकार को आईना, उप्र सरकार की आधिकारिक वेबसाइट को बनाया हथियार

मोदी ने दावा किया, ‘प्रदेश सरकार की वेबसाइट बताती है कि कारनामे बोलते हैं। उसमें बताया गया है कि लाइफ इन उत्तर प्रदेश इज शार्ट एण्ड अनसर्टेन।'

Author महराजगंज (उत्तर प्रदेश) | March 1, 2017 9:13 PM
उत्तर प्रदेश में चुनावी रैली को संबोधित करते पीएम नरेंद्र मोदी। (Source: narendramodi.in)

उत्तर प्रदेश विधानसभा के चुनावी घमासान में गधे और कबूतर के बाद बुधवार (1 मार्च) को सहारा रेगिस्तान का भी जिक्र हो गया। अपने प्रचार अभियान के दौरान राज्य की अखिलेश यादव सरकार पर अक्सर ‘काम नहीं, कारनामे बोलते हैं’ का तंज कसने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को सूबाई सरकार की आधिकारिक वेबसाइट का उदाहरण देकर उसपर निशाना साधा। मोदी ने महराजगंज में आयोजित अपनी चुनावी रैली में कहा कि मुख्यमंत्री भले ही ‘कारनामे बोलते हैं’ की बात से इत्तेफाक ना रखते हों लेकिन उनकी सरकार की आधिकारिक वेबसाइट इसका समर्थन करती है।

उन्होंने दावा किया, ‘प्रदेश सरकार की वेबसाइट बताती है कि कारनामे बोलते हैं। उसमें बताया गया है कि लाइफ इन उत्तर प्रदेश इज शार्ट एण्ड अनसर्टेन। यानी यूपी में जिंदगी बहुत छोटी होती है और कब मर जाएं, कोई भरोसा नहीं। आगे कहते हैं कि इन दिस रिस्पेक्ट, यूपी रिजेम्बल्स सहारन अफ्रीका। यानी यूपी की हालत अफ्रीका के सहारा रेगिस्तान जैसी है। अखिलेश जी क्या अब हम आपकी ही ना मानें। मुझे मालूम है कि मेरा भाषण खत्म होते ही अफसरों पर गाज गिरेगी।’

मालूम हो कि राज्य सरकार की आधिकारिक वेबसाइट के ‘स्टेट ऐट अ ग्लांस’ (राज्य-एक नजर में) खण्ड के ‘इकोनॉमी’ उपखण्ड में ‘हेल्थ’ शीर्षक से दिये गये विवरण में लिखा है ‘उत्तर प्रदेश में जीवन छोटा और अनिश्चितता भरा है। यहां महिलाओं की जीवन प्रत्याशिता 55 साल है और पांच साल से कम आयु के बच्चों की मृत्यु दर 141 प्रति हजार है। इस मामले में उत्तर प्रदेश अफ्रीका के सहारा क्षेत्र से मिलता-जुलता है, जहां जीवन प्रत्याशिता 53 साल है और पांच साल से कम उम्र के बच्चों की मृत्यु दर प्रति हजार 160 है।’

नेशनल इन्फॉरमेटिक्स सेंटर की उत्तर प्रदेश इकाई द्वारा तैयार की गयी वेबसाइट में यह भी कहा गया है कि देश के सभी प्रमुख राज्यों में से उत्तर प्रदेश में यह मृत्यु दर सबसे ज्यादा है। अखिलेश अब तक प्रधानमंत्री मोदी के लगभग हर वार पर करारा पलटवार करते रहे हैं लेकिन इस बार उन पर उन्हीं की सरकार की वेबसाइट को हथियार बनाकर प्रहार किया गया है। अब देखना है कि वह इसकी क्या काट निकालते हैं।

राहुल गांधी का मजाक उड़ाने की कोशिश में फल ही बदल गए पीएम नरेंद्र मोदी, अनानास की जगह नारियल का कर बैठे जिक्र

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App