ताज़ा खबर
 

मौलानाओं को उम्मीद- पीएम बनने के बाद जैसे नरेंद्र मोदी बदले, वैसे ही सीएम बन कर योगी आदित्य नाथ भी मुसलमानों के लिए बदलेंगे

मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य मौलाना खालिद राशिद ने कहा कि यह नई सरकार की जिम्मेदारी है कि वह अल्पसंख्यकों के बीच किसी भी तरह के भय या गलत धारणा को दूर करे।
योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से बीजेपी सांसद हैं। उनकी छवि एक हिंदूवादी फायरब्रांड नेता की रही है।

रविवार को मौलानाओं ने उम्मीद जताई कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कट्टरवादी हिंदू छवि वाले योगी आदित्यनाथ से अलग साबित होंगे। लखनऊ के रहने वाल मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य मौलाना खालिद राशिद ने कहा कि यह नई सरकार की जिम्मेदारी है कि वह अल्पसंख्यकों के बीच किसी भी तरह के भय या गलत धारणा को दूर करे। वह कहते हैं कि अकसर राजनीति में आने के बाद नेताओं की भाषा और उनका बर्ताव बदल जाता है। किसी भी सरकार के काम करने की नीयत जानने के लिए उसे 6 महीने का समय दिया जाना चाहिए। उसके बाद ही उनके खिलाफ बोलना चाहिए। मुस्लिमों के लिए डर की कोई बात नहीं है। लोकतंत्र में सरकारें बदलती रहती हैं।

शिया समुदाय के मौलाना काल्बे जव्वाद कहते हैं कि एक नेता चुनावों के बाद अलग नजर आता है। मोदी जी भी एेसे ही थे, लेकिन प्रधानमंत्री बनने के बाद कुछ चीजें बदल गईं। वह कहते हैं कि पहले एक नेता पार्टी से जुड़ा होता है, लेकिन मुख्यमंत्री बनने के बाद वह राज्य का हो जाता है। बता दें कि जव्वाद ने विधानसभा चुनावों में बसपा को समर्थन का एेलान किया था।

लखनऊ के इस्लामिक सेमिनरी दारुल उलूम नदवातुल में प्रोफेसर मौलाना सलमान नदवी कहते हैं कि अतीत में आदित्यनाथ द्वारा दिए गए विवादित बयानों को ठीक नहीं कहा जा सकता, लेकिन हम उन्हें सबका साथ, सबका विकास वाले नारे पर विश्वास करना चाहिए। उन्होंने कहा कि वह बदल सकते हैं और सरकार चलाने के लिए उन्हें एेसा करना ही पड़ेगा। मुस्लिम समुदाय में कोई डर नहीं है, लेकिन सांप्रदायिक बयान माहौल को खराब करते हैं। मुरादाबाद देहात से समाजवादी पार्टी के विधायक हाजी इकबाल कुरैशी कहते हैं कि जनता ने बीजेपी को जनादेश दिया है और किसी को भी मुख्यमंत्री चयन को लेकर कोई तकलीफ नहीं है। लेकिन हम चाहते हैं कि हमारे मुख्यमंत्री अपनी भाषा बदलें। अब वह हर किसी के मुख्यमंत्री हैं।

आपको बता दें कि 11 मार्च को आए नतीजों में यूपी में बीजेपी+ को 325 सीटें मिली थीं। इसके बाद शनिवार को हुई बैठक में योगी आदित्यनाथ को विधायक दल का नेता चुना गया था। रविवार को उन्होंने लखनऊ के स्मृति उपवन में शपथ ली थी।

योगी आदित्यनाथ बोले- "चुनावी रुझान दिखा रहे हैं कि लोगों ने सपा-कांग्रेस के भेदभाव को अस्वीकार किया, देखें वीडियो ः

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.