ताज़ा खबर
 

नाराज मुलायम प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में नहीं आए, कुर्सी पड़ी रही खाली, रात में अखिलेश ने घर जाकर मैनिफेस्‍टो के साथ खिंचवाई फोटो

मुलायम रविवार शाम अपनी प्रेस कॉन्‍फ्रेंस बुलाने के लिए तैयार थे, जब सपा और कांग्रेस के गठबंधन का ऐलान हो रहा था।

Mulayam Singh Yadav, Akhilesh Yadav, Mulayam-Akhilesh Fight, Samajwadi Party Crisis, Yadav family, Dimple Yadav, Congress SP alliance, Uttar pradesh Elections, India, jansattaअखिलेश ने मुलायम के घर पर उनसे मुलाकात की यह तस्‍वीर पोस्‍ट की थी। (Source: Facebook)

उत्‍तर प्रदेश चुनाव के लिए मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव ने रविवार को समाजवादी पार्टी का घोषणा-पत्र जारी किया। प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में अखिलेश नेताजी का इंतजार करते रहे, मगर वह नहीं आए। अखिलेश लगातार फोन पर और सपा नेताओं के संपर्क में रहकर जानने की कोशिश करते रहे कि मुलायम आ रहे हैं या नहीं। उनके पड़ोस मे मुलायम की कुर्सी खाली पड़ी रही। आखिर में उन्‍होंने आजम खान को मुलायम को मनाकर लाने की जिम्‍मेदारी सौंपी, मगर वह गए तो लौटे ही नहीं। आखिर में मुलायम की कुर्सी मंच से हटाई गई। मैनि‍फेस्‍टो जारी करने के बाद अखिलेश और डिंपल पार्टी कार्यालय से चले गए मगर कुछ ही देर में उन्‍हें फिर से लौटना पड़ा क्‍योंकि मुलायम कार्यालय आ गए थे। दोनों के बीच में करीब 40 मिनट तक बातचीत हुई और दोनों को साथ ही निकलते देखा गया। मुलायम रविवार शाम अपनी प्रेस कॉन्‍फ्रेंस बुलाने के लिए तैयार थे, जब सपा और कांग्रेस के गठबंधन का ऐलान हो रहा था। अखिलेश ने पिता से इस बारे में बात की और उन्‍हें किसी तरह ऐसा ने करने के लिए मनाया।

प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के बाद रात में अखिलेश पत्‍नी डिंपल समेत मुलायम के घर गए और उन्‍हें पार्टी का घोषणा-पत्र सौंपा। उन्‍होंने हाथों में सपा का मैनिफेस्‍टो लिए मुलायम की फोटो फेसबुक पर शेयर की है। अखिलेश और मुलायम के बीच की कड़ी बने आजम खान भी तस्‍वीर में नजर आ रहे हैं। अखिलेश ने 16 जनवारी को समाजवादी पर नियंत्रण के लिए चली लड़ाई पिता से जीत ली थी। चुनाव आयोग ने पाया कि 43 वर्षीय सीएम के बाद पार्टी में ज्‍यादा समर्थक हैं और पार्टी के टूटने की स्थिति में फरवरी-मार्च में होने वाले चुनावों में ‘साइकिल’ चुनाव चिन्‍ह का प्रयोग करने की इजाजत दे दी।

Mulayam Singh Yadav, Akhilesh Yadav, Mulayam-Akhilesh Fight, Samajwadi Party Crisis, Yadav family, Dimple Yadav, Congress SP alliance, Uttar pradesh Elections, India, jansatta मंच से अखिलेश लगातार फोन पर बात कर मुलायम के बारे में जानकारी लेते रहे। (Source: PTI)

ईसी के फैसले के बाद से ही पिता-पुत्र के बीच कई बैठकों का दौर चला मगर दोनों सार्वजनिक तौर पर साथ नहीं नजर आए। उन बैठकों के दौरान ही मुलायम ने अखिलेश को उन लोगों के नाम सौंपे जिन्‍हें वे टिकट दिलाना चाहते थे, इसमें पिता-पुत्र के बीच तल्खियों के लिए कथित तौर पर जिम्‍मेदार शिवपाल यादव का नाम भी शामिल था।

समाजवादी पार्टी ने कांग्रेस के साथ गठबंधन करके चुनावों में उतरने का फैसला किया है। राज्‍य में सपा 298 सीटों और कांग्रेस 105 सीटों पर लड़ेगी

Next Stories
1 जानिए प्रियंका गांधी ने अखिलेश से बातचीत के लिए RAS के इस अफसर को क्यों बनाया था अपना दूत
2 बसपा को चलाने के लिए इन पांच बड़े नेताओं पर निर्भर हैं मायावती
3 समाजवादी पार्टी घोषणा पत्र: चार शहरों में मेट्रो, महिलाओं को प्रेशर कुकर, स्मार्ट फोन बांटने का वादा
आज का राशिफल
X