ताज़ा खबर
 

उत्तर प्रदेश चुनाव: भाजपा पर बरसीं मायावती, बताया ‘दागी’ और ‘बागी’ लोगों की पार्टी

मायावती ने आरोप लगाया कि भाजपा आरएसएस के एजेंडे पर चलकर आरक्षण को खत्म करने या उसे निष्प्रभावी बनाने की कोशिश में लगी हुई है।

Author जौनपुर (उप्र) | March 3, 2017 5:13 PM
एक चुनावी रैली को संबोधित करतीं बसपा सुप्रीमो मायावती। (पीटीआई फोटो)

बसपा सुप्रीमो मायावती ने शुक्रवार (3 मार्च) को आरोप लगाया कि भाजपा ‘दागी’ और ‘बागी’ लोगों की पार्टी बन चुकी है और उसने बागी एवं आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों को टिकट दिया है। मायावती ने यहां एक चुनावी जनसभा में कहा, ‘भाजपा नंबर वन की दागी और बागी लोगों की पार्टी बन चुकी है। भाजपा में इस बार जो टिकट दिये गये, उनके मूल कैडर को नहीं बल्कि ऐसे लोगों को दिये गये जो दूसरी पार्टियों को छोड़ उनकी पार्टी में गये हैं। बागी एवं आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों को टिकट दिया गया है।’ उन्होंने कहा कि अब भाजपा यहां उत्तर प्रदेश में नंबर वन की दागी व बागी लोगों की पार्टी है जिसके चलते इस चुनाव में भाजपा के मूल कैडर के लोग उसे सबक सिखाएंगे। मायावती ने दावा किया कि इस चुनाव में बसपा की अकेले ही पूर्ण बहुमत की सरकार बनने जा रही है। उत्तर प्रदेश की जनता इस बार सांप्रदायिक सौहार्द्र और आपसी भाईचारे की होली मनाएगी।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश सहित पूरे देश में भाजपा और उसकी केन्द्र की सरकार ने अपने लोकसभा चुनावी वायदों का अब तक लगभग एक चौथाई कार्य भी पूरा नहीं किया है और इन पर से जनता का ध्यान बांटने के लिए किस्म किस्म की नाटकबाजी की है। मायावती ने कहा कि सामाजिक क्षेत्र में भी केन्द्र की वर्तमान भाजपा सरकार ने उत्तर प्रदेश सहित पूरे देश के दलितों और आदिवासियों तथा अन्य पिछड़े वर्ग के लोगों का काफी ज्यादा शोषण और उत्पीड़न किया है।

मायावती ने आरोप लगाया कि भाजपा आरएसएस के एजेंडे पर चलकर आरक्षण को खत्म करने या उसे निष्प्रभावी बनाने की कोशिश में लगी हुई है। उन्होंने कहा कि बसपा की अनेक जनहित की योजनाओं को वर्तमान सपा सरकार ने बहुत चालाकी से केवल उनका नाम बदलकर चलाया हुआ है। मायावती ने कहा कि अन्य वर्गों के साथ साथ मुस्लिम समाज के लोगों को अपना एकतरफा वोट सपा को ना देकर केवल बसपा को ही देना है जिसका अपना दलित बेस वोट पूरी तरह एकजुट है और बड़ी संख्या में है। विशेषकर मुस्लिम समाज का वोट जुड़ जाने से भाजपा को इसका जबर्दस्त नुकसान पहुंचेगा। भाजपा प्रदेश की सत्ता पर किसी भी कीमत पर काबिज नहीं हो सकेगी। उन्होंने कहा कि बसपा की सरकार बनने पर सपा के भ्रष्टाचार, अराजकता, जंगलराज का खात्मा होगा और आपराधिक तत्व जेल की सलाखों के पीछे भेजे जाएंगे ताकि प्रदेश में बहन बेटियां किसी भी जरूरी कार्य से दिन छिपने के बाद भी बाहर आ जा सकें।

बसपा सुप्रीमो ने नोटबंदी को राजनीतिक स्वार्थ के लिए लिया गया फैसला करार देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लोकसभा के चुनावी वायदों से जनता का ध्यान बंटाने के लिए यह फैसला किया है। ‘वैसे भी केन्द्र में भाजपा और उसकी सरकार की गलत नीतियों और गलत कार्य के बारे में सर्वविदित है कि लोकसभा के आम चुनाव में उत्तर प्रदेश सहित पूरे देश की जनता के हित एवं कल्याण के लिए असंख्य प्रलोभन भरे चुनावी वायदे किये गये थे विशेषकर गरीबों और किसानों से वायदा किया गया था कि केन्द्र में भाजपा की सरकार बनने पर सौ दिन में विदेश से काला धन वापस लाकर हर गरीब परिवार के गरीब सदस्य को 15 से 20 लाख रुपए के हिसाब से दे दिया जाएगा।’

उन्होंने कहा कि भाजपा की केन्द्र सरकार को पौने तीन वर्ष हो चुके हैं लेकिन किसी भी गरीब के खाते में एक रुपया भी नहीं जमा हुआ। भाजपा के वायदे ‘हवा हवाई’ और ‘कोरी जुमलेबाजी’ बनकर रह गये हैं, इसलिए अब लोग भारतीय जनता पार्टी को भारतीय जुमला पार्टी कहने लगे हैं। पूर्वांचल को पृथक राज्य बनाने की फिर से वकालत करते हुए मायावती ने कहा कि सपा, कांग्रेस और भाजपा इसका विरोध करती हैं।

अखिलेश यादव ने कहा, "मायावती बीजेपी के साथ कभी भी मना सकती हैं रक्षा बंधन"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App