ताज़ा खबर
 

मोदी के बाहुबली बयान पर मायावती बोलीं- चुनाव जीतने के बाद मुख्तार अंसारी से हट जाएगा माफिया का ठप्पा

मायावती ने कहा कि जिस राजा भैया को उन्होंने जेल भेजा था, वह आज भाजपा और सपा की आंख का तारा बना हुआ है।

Author मऊ (उत्तर प्रदेश) | February 28, 2017 4:49 PM
आगरा में बसपा सुप्रीमो मायावती की चुनावी रैली के दौरान पार्टी समर्थक अपने चेहरे पर मायावती का मास्क लगाए हुए। (PTI Photo/6 Feb, 2017)

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) मुखिया मायावती ने मंगलवार (28 फरवरी) को कहा कि जनता माफिया और बाहुबली को पसंद नहीं करती है और जब माफिया समझे जाने वाले मऊ सीट से बसपा प्रत्याशी मुख्तार अंसारी चुनाव जीत जाएंगे तो उन पर मुहर लग जाएगी कि वह ना तो माफिया हैं और ना ही बाहुबली। मायावती ने यहां आयोजित चुनावी सभा में विश्वास जताया कि मऊ की जनता मुख्तार को जेल में रहते हुए भी चुनाव जिताएगी। जनता प्रधानमंत्री को बताएगी कि किसकी जीत हुई है। उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री ने कल सोमवार (27 फरवरी) मऊ की अपनी रैली में मुख्तार अंसारी का नाम तो नहीं लिया, लेकिन वह जिस तरह माफिया, बाहुबली कह रहे थे, उससे पता लग रहा था कि उनका इशारा किस तरफ था। क्या जनता माफिया और बाहुबली को पसंद करती है। मैं समझती हूं कि बिल्कुल भी पसंद नहीं करती। जब वह (मुख्तार) चुनाव जीत जाएगा तो उस पर मुहर लग जाएगी कि वह ना तो माफिया है और ना ही बाहुबली है।’

प्रधानमंत्री ने सोमवार (27 फरवरी) को मऊ में अपनी रैली में मुख्तार का नाम लिये बगैर बसपा द्वारा उन्हें प्रत्याशी बनाये जाने पर सवाल खड़े किये थे। मुख्तार हत्या समेत कई जघन्य अपराधों के आरोप में जेल में बंद हैं। दिल्ली उच्च न्यायालय ने उन्हें चुनाव प्रचार के लिये पैरोल देने से कल (सोमवार, 27 फरवरी) मना कर दिया था। मायावती ने कहा कि उन्हें मुख्तार और उनके भाई अफजाल अंसारी पर पूरा भरोसा है कि वे सपा को पूर्वांचल में बेहाल कर देंगे। उन्होंने सपा और भाजपा पर बाहुबलियों को लेकर दोहरा रवैया अपनाने का आरोप लगाते हुए कहा कि सपा अध्यक्ष मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और भाजपा के लोग मुख्तार को तो माफिया बताते हैं लेकिन भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह से ‘कुंडा का गुंडा’ का खिताब पाये रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया को लेकर उनका रुख हमेशा नरम रहता है।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस राजा भैया को उन्होंने जेल भेजा था, वह आज भाजपा और सपा की आंख का तारा बना हुआ है। सपा और भाजपा बदनामी के डर से राजा भैया को अपनी पार्टी से टिकट तो नहीं देतीं, लेकिन पर्दे के पीछे से ये दोनों पार्टियां उसके विरुद्ध कमजोर प्रत्याशी खड़ा करती हैं। यही वजह है कि राजा भैया आसानी से चुनाव जीत जाते हैं और ये दोनों पार्टियां सरकार बनने पर मंत्री बना दे देती हैं। उन्होंने मीडिया से कहा कि वह उनकी इस बात को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक तक जरूर पहुंचा दे। मोदी को मुख्तार अंसारी परिवार के बारे में कुछ भी बोलना शोभा नहीं देता है।

मायावती ने जनता से अपील की कि उसे इस चुनाव में अपने साथ-साथ प्रदेश के हित में अपना वोट सपा, कांग्रेस, भाजपा तथा अन्य विरोधी पार्टियों को ना देकर बसपा को ही देना है। उन्होंने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर प्रहार करते हुए कहा कि शाह जगह-जगह भाषण दे रहे हैं कि जब यूपी में भाजपा सत्ता में आ जाएगी तो देश का नम्बर वन उत्तम प्रदेश बनेगा। वह यह कह रहे हैं कि यहां दूध दही और घी की नदियां बहेंगी। मैं पूछती हूं कि जब यूपी में आपकी छह साल तक सरकार रही थी तो तब ऐसा क्यों नहीं हुआ। मायावती ने अलग पूर्वांचल राज्य का मुद्दा उठाते हुए कहा कि उनकी सरकार बनने पर अलग पूर्वांचल राज्य बनाने का प्रयास किया जाएगा। उनकी कोशिश तब तक खत्म नहीं होगी, जब तक यह अलग राज्य नहीं बन जाता।

अखिलेश यादव ने कहा, "मायावती बीजेपी के साथ कभी भी मना सकती हैं रक्षा बंधन"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App