ताज़ा खबर
 

उत्‍तर प्रदेश चुनाव 2017: अखिलेश यादव के लिए प्रचार करेंगे लालू, कहा- नीतीश से भी करूंगा बात

लालू ने कहा कि वह बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार से मिलकर यूपी चुनावों में प्रचार के लिए बात करेंगे।

पिता-पुत्र में जब संबंध ठीक नहीं थे तो लालू ने रैली के दौरान अखिलेश को मुलायम के पैर छूने को कहा था। (Source: Express Archive)

राष्‍ट्रीय जनता दल के अध्‍यक्ष लालू प्रसाद यादव ने बुधवार को कहा कि उनकी पार्टी उत्‍तर प्रदेश का विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेगी। लालू ने बताया कि वे चुनावों में ‘समाजवादी ताकतों की जीत’ सुनिश्चित करने के लिए मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव के लिए प्रचार करेंगे। पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुनाभ झा के आरजेडी में शामिल होने के बाद कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए लालू ने भाजपा पर निशाना साधा। उन्‍होंने कहा कि वह यूपी चुनावों में पूरा प्रयास करेंगे कि भगवा ताकतों की हार हो। लालू ने कहा, ”यूपी चुनाव सिर्फ एक राज्‍य का चुनाव नहीं, पूरे देश का चुनाव है। यूपी में बीजेपी की हार तय करने के बाद हम 2019 मं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भगवा पार्टी को जड़ से उखाड़ फेंकेंगे। मैं समाजवादी ताकतों की जीत पक्‍की करने के लिए मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव के लिए प्रचार करूंगा।” लालू ने कहा कि वह सबसे अधिक जनसंख्‍या वाले राज्‍य में समाजवादी ताकतों की जीत के लिए बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार से मिलकर काम करने के लिए बात करेंगे।

लालू ने कहा कि नोटबंदी के खिलाफ पटना में जल्‍द होने वाली रैली के लिए वह मुलायम सिंह यादव, टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी, कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी और सीपीआई तथा सीपीआई-एम के बड़े नेताओं को आमंत्रित करेंगे। नोटबंदी के खिलाफ लालू खासे मुखर रहे हैं। उन्‍होंने बुधवार को कहा कि नोटबंदी के फैसले के बाद से असंगठित क्षेत्र के 40,000 से ज्‍यादा लोग बेरोजगार हो गए हैं।

लालू द्वारा अखिलेश का चुनाव प्रचार करने पर स्थिति अभी पूरी तरह स्‍पष्‍ट नहीं है। मुलायम सिंह यादव ने अभी तक रुख साफ नहीं किया है, पार्टी किन संयोजनों के साथ चुनाव में जाएगी, इस पर फैसला नहीं हुआ है। अगर मुलायम अलग चुनाव लड़ने का फैसला करते हैं तो लालू किसके लिए प्रचार करेंगे, ये भविष्‍य के गर्भ में है।

सोमवार को जब चुनाव आयोग ने समाजवादी पार्टी और ‘साइकिल’ चुनाव चिन्‍ह अखिलेश यादव को सौंपा था तो लालू ने उनकी सरकार बननी तय बताई थी। उन्‍होंने ट्वीट किया था, ”ये यूपी नहीं देश का चुनाव है। अब यूपी में फासीवादी व फ़िरकापरस्त ताकतों की हार पूर्णतः निश्चित। बधाई। समाजवादी पार्टी एकजुट, सब पहले जैसा। अखिलेश के नेतृत्व में विकासशील, प्रगतिशील, धर्मनिरपेक्ष एवं न्यायप्रिय सरकार बननी तय।सब एकजुट है। हमसब मिलकर साम्प्रदायिक ताकतों को हरायेंगे। नेताजी की बनाई हुई पार्टी है। नेताजी अपना आशीर्वाद अखिलेश को देंगे। भाजपाई हाथ मलते रह गए।”

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017: किसके बीच है मुकाबला, कौन रहा है विजेता जानिये   

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App