ताज़ा खबर
 

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव: नेताओं के लिए दारूल उलूम देवबंद के दरवाज़े चुनाव तक बंद

चुनाव नजदीक आते ही राजनीतिक दलों की नजरे दारूल उलूम में दस्तक देने के लिए लगी रहती है।

Author देवबंद | January 18, 2017 7:43 PM
दारूल उलूम देवबंद।

दारूल उलूम देवबंद के मोहतमिम मुफ्ति अबुल कासिम नोमानी बनारसी ने कहा कि विधानसभा चुनाव के दौरान वह किसी भी राजनीतिक नेता से मुलाकात नहीं करेंगे। मोहतमिम नोमानी ने कहा कि राजनीतिक मुद्दों पर दारूल उलूम हमेशा से ही परहेज करता है। उन्होंने कहा कि संस्था में सभी का खैरमखदम किया जाता है। लेकिन सियासत करने के इरादे से आने वालों से अहतियात बरती जाती है। दारूल उलूम के प्रबंध तंत्र ने निर्णय लिया है कि चुनावी माहौल में किसी भी सियासी दलों के रहनुमाओं से पूरी तरह दूरी बनाकर रखी जाएगी। दारूल उलूम के मोहतमिम नोमानी ने कहा कि चुनाव के दौरान नेताओं से मुलाकात को दारूल उलूम के दरवाजे बंद कर दिए गए है। मोहतमिम अबुल कासिम नोमानी ने कहा कि दारूल उलूम सिर्फ इस्लामिक तालीम का केंद्र है सियासत से इसका कोई लेना-देना नहीं है।

नोमानी ने कहा कि चुनाव के दौरान किसी भी सियासी जमात के रहनुमा के दारूल उलूम पहुंचने पर संस्था से जुड़ा कोई भी पदाधिकारी उनसे मुलाकात नहीं करेगा। चुनाव नजदीक आते ही राजनीतिक दलों की नजरे दारूल उलूम में दस्तक देने के लिए लगी रहती है। चुनाव में राजनीतिक फायदा उठाने के लिए सभी प्रमुख सियासी दलों के नेता दारूल उलूम पहुंचकर अपने-अपने पक्ष में कुछ कहलवाने का प्रयास भी करते हैं। लेकिन अबकी बार दारूल उलूम ने चुनाव के दौरान नेताओं के दारूल उलूम में आने पर रोक लगा कर उनके मंसूबों पर पानी फेर दिया है। पिछले चुनाव के दौरान सपा नेता मुलायम सिंह यादव, अमर सिंह, बसपा के राष्ट्रीय महासचिव नसीमुद्दीन सिद्दीकी व कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी दारूल उलूम में दस्तक देकर दारूल उलूम के उलेमाओं से भेंट कर चुके है।

अखिलेश को मिली साइकिल और पार्टी, मुलायम को झटका: चुनाव पर होगा कैसा असर?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App