ताज़ा खबर
 

UP Polls 2017: सीएम अखिलेश यादव ने PM मोदी को दी चुनौती- मांस निर्यात पर लगाकर दिखाएं रोक

अमित शाह की बात की ओर इशारा करते हुए अखिलेश ने कहा कि उन्हें चमड़े पर भी रोक लगा देनी चाहिए और खड़ाऊँ पहननी चाहिए।

यूपी के सीएम अखिलेश यादव और पीएम नरेंद्र मोदी (file photo)

देश की राजनीति में एक बार फिर बीफ का मुद्दा गर्मा गया है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने मोदी सरकार को मांस निर्यात पर रोक लगाने की चुनौती दी है। पिछले दिनों बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा था कि अगर उन्हें राज्य में बहुमत मिलता है तो वो राज्य के सभी बूचड़ख़ानों को बंद करवा देंगे। इस बयान पर टिप्पणी करते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि, ” मैं प्रधानमंत्री और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष को सलाह देना चाहता हूं कि वो दिल्ली वापस जाएं और मांस निर्यात पर रोक लगाएं। साथ ही उन्हें बूचड़खानों को दी जाने वाली किसी भी सुविधा और आर्थिक मदद पर रोक लगा देनी चाहिए। अंग्रेजी न्यूज चैनल इंडिया टूडे को दिए इंटरव्यू में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि भैंस के मांस उत्पादन में उत्तर प्रदेश देश का अग्रणी राज्य है। आधिकारिक आंकड़ों के हिसाब से देश के कुल भैंस के मांस उत्पादन में 28 प्रतिशत हिस्सा उत्तर प्रदेश से आता है। इससे पहले उन्नाव में एक चुनावी सभा में बोलते हुए कहा कि, “12 मार्च की रात को उत्तर प्रदेश के सभी बूचड़खाने बंद कर दिए जाएंगे।”

राज्य में 11 मार्च को वोटिंग होनी है। अमित शाह की बात की ओर इशारा करते हुए अखिलेश ने कहा कि उन्हें चमड़े पर भी रोक लगा देनी चाहिए और खड़ाऊँ पहननी चाहिए। क्या ये व्यवसाय समाजवादी पार्टी ने शुरू किया है। इसके बाद अखिलेस ने अमिश शाह को चुनौती देते हुए कहा कि कई दवाई बनाने वाली कंपनी गुजरात में है। इन दवाईयों में जानवरों से जुड़ी कई चीजें मिलवाई जाती हैं। तो क्या अमित शाह गुजरात की दवाई कंपनी को बंद करवा देंगे। इसके बाद आच्छे दिन के वादे पर बोलते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि, “मोदी हमारे प्रधानमंत्रई हैं। बेशक लोग उन्हें देखकर खुश होते हैं उन्हें चियर करते हैं। लेकिन उत्तर प्रदेश लोकसभा में सबसे ज्यादा सांसद भेजता है। लेकिन लोग ये देखकर निराश है कि केंद्र सरकार उनके लिए क्या कर रही है।

उत्तर प्रदेश चुनाव 2017: राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने रायबरेली में किए पीएम मोदी पर हमले

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App