UP minority affairs minister Mohsin Raza upset over Azam Khan photo in his office - मोहसिन रज़ा अपने दफ्तर में आजम खां की फोटो देख अफसरों पर भड़के, बोले- आप उन्‍हीं के प्‍यार में डूबे हुए हैं - Jansatta
ताज़ा खबर
 

मोहसिन रज़ा अपने दफ्तर में आजम खां की फोटो देख अफसरों पर भड़के, बोले- आप उन्‍हीं के प्‍यार में डूबे हुए हैं

योगी आदित्‍य नाथ सरकार में मोहसिन रज़ा एकमात्र मुस्लिम मंत्री हैं। वे अभी किसी भी सदन के सदस्‍य नहीं हैं।

मोहसिन रजा भाजपा के प्रवक्ता भी हैं।

उत्‍तर प्रदेश के अल्‍पसंख्‍यक मामलों के मंत्री मोहसिन रज़ा अपने दफ्तर में सपा नेता और पूर्व मंत्री आजम खां की तस्‍वीर देखकर भड़क गए। उन्‍होंने अफसरों को डांट लगाई और कहा कि दफ्तर को अभी तक बदला क्‍यों नहीं गया है। उन्‍होंने विभाग के सचिव से पूछा, ”सरकार किसकी है और ये तस्‍वीरें क्‍यों लगी हूई हैं?” इस पर उन्‍हें जवाब मिला कि अभी तक इस संबंध में आदेश नहीं आया है। तो रज़ा ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा, ”हटाने का आदेश क्‍या आएगा। आप यह बताइए ना कि सरकार किसकी है। सरकारी किसकी है यह आपको देखना है।” दरअसल रज़ा के दफ्तर में आजम खां और मुलायम सिंह यादव की तस्‍वीर लगी हुई थी। उन्‍होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍य नाथ की तस्‍वीर लगाने को कहा।

फिर बाहर आजम खां के नाम की नेमप्‍लेट को देखकर कहा कि ये क्‍या है सब आप देखिए ना। बाद में वे अधिकारियों के दफ्तरों में भी गए। यहां के हालात देखकर उन्‍होंने टिप्‍पणी कि, ”अपने दफ्तर आपके बड़े अच्‍छे हैं। अपने दफ्तर में पानी की व्‍यवस्‍था पूरी है। आम आदमी के लिए कोई व्‍यवस्‍था नहीं है। आपने पिछले मंत्री की फोटो लगा रखी है। पिछले मंत्री-मुख्‍यमंत्री का सब लगा रखा है। आप उन्‍हीं के प्‍यार में ही डूबे हुए हैं। अरे भाई इनके (भाजपा सरकार) भी प्‍यार में रहिए। प्रधानमंत्री ने आपका कोटा (हज यात्रा का कोटा) बढ़ा दिया इस बारे में आपने ना ज्ञापन दिया और ना विज्ञापन।”

गौरतलब है कि योगी आदित्‍य नाथ सरकार में मोहसिन रज़ा एकमात्र मुस्लिम मंत्री हैं। वे अभी किसी भी सदन के सदस्‍य नहीं हैं। रज़ा को गृहमंत्री राजनाथ सिंह का करीबी माना जाता रहा है। मोहसिन रजा भाजपा के प्रवक्ता भी हैं। राजनीति में आने से पहले वे क्रिकेटर थे। रजा उन्नाव जिले के सफीपुर के निवासी हैं। इनका जन्म 15 जनवरी 1975 को सफीपुर में ही हुआ था। उन्‍होंने लखनऊ विकास प्राधिकरण (एलडीए) और विद्युत विभाग में नौकरी भी की है।

उन्होंने कांग्रेस की तत्कालीन बड़ी नेता और मौजूदा मणिपुर की राज्यपाल नजमा हेपतुल्ला के साथ भाजपा की सदस्यता ली थी। मोहसिन रजा पहली बार तब चर्चा में आए थे जब उन्होंने 2013 में बीजेपी के समर्थन में पोस्टर लगाए थे। अभी हाल ही में चुनावों के दौरान उन्होंने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के समर्थन में भी बयान दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App