ताज़ा खबर
 

डिंपल यादव की कामयाबी से कांग्रेस में जलन, चुनाव बाद यूपी में कोई बड़ा रोल देंगे अखिलेश!

डिंपल यादव इन(2017) विधानसभा चुनाव में किसी बड़े लीडर की तरह उभरकर सामने आई हैं जिन्होंने कांग्रेस की टेंशन बढ़ा दी हैं।

UP Assembly Elections 2017, Dimple Yadav news, Dimple Yadav Latest News, Dimple Yadav vs Narendra Modi, Dimple Yadav Surgical Strikesउत्तर प्रदेश में एक चुनावी रैली को संबोधित करतीं डिंपल यादव। (फाइल फोटो)

साल 2009 में लोकसभा उपचुनाव के दौरान डिंपल यादव ने राजनीति में कदम रखा था। वहीं 2017 के विधानसभा चुनाव के दौरान डिंपल यादव किसी मजबूत राजनेता की तरह उभरकर सामने आई हैं। डिंपल यादव की जनसभाओं को देखकर कई राजनीतिक विशेषज्ञों का मानना है कि उनकी राजनीतिक क्षमताओं के बारे में शायद अखिलेश भी अंजान हैं। डिंपल यादव को पार्टी कैम्पेन के लिए प्रवक्ता पहले चरण की वोटिंग पूरी होने के बाद बनाया गया। कई एक्सपर्ट्स का यह भी मानना है कि डिंपल युवा और महिला वोटरों को आकर्षित करने में कामयाब होंगी क्योंकि इन दोनों के बीच वह “हिट” साबित हुई हैं। हालांकि डिंपल जनसभाओं में स्क्रिप्टिड भाषण पढ़ती हैं , लेकिन जनसभाओं में उनकी हाजिर जवाबी के भी खूब चर्चे हैं।

पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा सपा सरकार पर किए हमलों पर भी डिंपल यादव ने खूब पलटवार किए थे। पीएम पर निशाना साधते हुए डिंपल ने- “मेरे अंगने में तुम्हारा क्या काम है”, “काम की बात करो, मन की बात नहीं” जैसे कई जुमले दिए थे जिनको काफी वाहवाही मिली थी। वहीं डिंपल यादव का “तुम्हारे भइया” (अखिलेश यादव) वाले बयान ने लोगों के बीच खूब वाहवाही लूटी। वहीं कई राजनीतिक विशेषज्ञों का यह भी मानना है कि डिंपल की इस सक्रियता से कांग्रेस परेशान है। डिंपल के लैमलाइट में आने से कांग्रेस काफी पीछे हो गई है क्योंकि उन्हें लग रहा था कि प्रियंका गांधी गठबंधन की लहर बनाने का काम करेंगी। एक्सपर्ट्स की मानें तो डिंपल के आगे आने से कांग्रेस जलन में है।

कयास यह भी लगाए जा रहे हैं कि डिंपल की इस सक्रियता को देखते हुए अखिलेश यादव उन्हें राज्य की राजनीति में आने वाले समय में कोई बड़ी भूमिका निभाने के लिए दे सकते हैं। बीते शनिवार (5 मार्च) को डिंपल यादव मुलायल सिंह यादव के गढ़ आजमगढ़ में एक जनसभा को संबोधित करने पहुंची जहां पर लोग उनका काफी देर से इंतजार कर रहे थे। इसी बीच उनका आने से पहले एक पार्टी नेता ने मंच से कहा “आपकी प्यारी भाभी तीन मिनट में पहुंच रही हैं”।

राजनीतिक विशेषज्ञों का मानना है कि डिंपल लोगों से रिश्तों के जरिए कलेक्ट करने की कोशिश कर रही हैं। 2012 में राज्य के विधानसभा चुनाव के दौरान भी डिंपल ने अपने कैम्पेन की शुरुआत में कहा था- “एक भाभी, बहू और बेटी आपका (जनता) आशीर्वाद लेने आई है”। वहीं इस बार भी (9 फरवरी 2017) कानपुर में रैली के दौरान उन्होंने कहा- “अब आप लोग बताए मैं आपकी भाभी हूँ, आप लोग किसको जिताएंगे”।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 वाराणसी में मुस्लिम इलाकों में पीएम मोदी का जोरदार स्‍वागत, सम्‍मान में मिला पैकेट तो सिर पर रखा
2 मोदी के वाराणसी रोड शो से खुश नहीं उनके साथी मंत्री उपेंद्र कुशवाहा, बोले- वे पीएम हैं उन्‍हें ऐसा नहीं करना चाहिए
3 UP Assembly Election 2017: पीएम मोदी बोले- बिजली के लिए मुझे गंगा मैया की सौगंध खाने की जरूरत नहीं, भोले बाबा ने खुद पर्चा दिखा दिया
ये पढ़ा क्या?
X