ताज़ा खबर
 

नरेंद्र मोदी, आदित्‍यनाथ के बाद श्‍मशान-‍कब्रिस्‍तान पर बोले साक्षी महाराज, कहा- बंद हो दफनाने की प्रथा

उत्‍तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में श्‍मशान-कब्रिस्‍तान के बयानों पर उन्‍होंने कहा कि देश में सभी को जलाने की व्‍यवस्‍था होनी चाहिए।

भाजपा सांसद साक्षी महाराज ने अपने बयान से अब एक नए विवाद को जन्‍म दे दिया है। (Photo:PTI)

भाजपा सांसद साक्षी महाराज ने अपने बयान से अब एक नए विवाद को जन्‍म दे दिया है। उत्‍तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में श्‍मशान-कब्रिस्‍तान के बयानों पर उन्‍होंने कहा कि देश में सभी को जलाने की व्‍यवस्‍था होनी चाहिए। जमीन में दफनाने के तरीके को बंद करना चाहिए। समाचार एजेंसी एएनआई से भाजपा सांसद ने कहा, ”चाहे नाम कब्रिस्‍तान हो, चाहे नाम श्‍मशान हो, दाह होना चाहिए। किसी को गाड़ने की आवश्‍यकता नहीं है।” वे यहीं नहीं रूके और यह तक कह गए कि गाड़ने पर देश में जगह कम पड़ जाएगी। उन्‍होंने कहा, ”2-2.5 करोड़ साधु हैं सबकी समाधि लगे कितनी जमीन जाएगी। 20 करोड़ मुस्लिम हैं सबको कब्र चाहिए हिंदुस्‍तान में जगह कहां मिलेगी।”

इससे पहले मीडियाकर्मियों से बातचीत में उन्‍होंने कहा कि मुस्लिम देशों में गाड़ने की परंपरा नहीं है। वहां पर जलाने की ही परंपरा है। ऐसा ही भारत में होना चाहिए। अगर सबको दफनाते रहे तो देश में खेती के लिए जगह कहां से आएगी। देश में काफी सारे साधु-संत है। उन्‍हें भी दफनाते ही है लेकिन चाहते हैं कि सबका दाह किया जाए।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान के साथ उत्‍तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में श्‍मशान-कब्रिस्‍तान की शुरुआत हुई थी। मोदी ने रैली के दौरान कहा था कि कब्रिस्‍तान के लिए जमीन मिले तो श्‍मशान के लिए भी मिलनी चाहिए। जिसे साक्षी महाराज ने अब इस मुद्दे को अलग ही एंगल दे दिया है। वे पहले भी विवादित बयान दे चुके हैं। पिछले दिनों उन्‍होंने मुस्लिम आबादी को लेकर कहा था कि वे हिंदुओं की तरह नसबंदी क्‍यों नहीं कराते। उन्‍होंने कहा था, ”हम नहीं चाहते कि देश के मुसलमानों और ईसाइयों की नसबंदी करा दी जाए लेकिन परिवार नियोजन तो सभी को अपनाना चाहिये। हम चार बच्चे पैदा करने की बात कर दें तो बवाल हो जाता है लेकिन चार बीवी और 40 बच्चों से कुछ नहीं होता।’’

वहीं गौहत्‍या के मुद्दे पर कहा था कि कोई हमारी मां का अपमान करेगा तो या तो मर जाएंगे या मार देंगे। साक्षी महाराज ने कहा था, ”मैं किसी भी हत्या का समर्थक नहीं हूं, लेकिन अगर जनता कानून को हाथ में ले ले तो सरकार का नकारापन होगा। हम कुरान और इस्लाम के बारे में कुछ भी नहीं कह सकते क्यूंकि वो उनकी आस्था का प्रश्न है। वैसे ही गाय, श्रीराम ये हमारे आस्था का प्रश्न है।”

भाजपा सांसद साक्षी महाराज बोले- "मुस्लिम भी दाह करें, नहीं बनने चाहिए कब्रिस्तान

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App